सोमवार, फ़रवरी 26, 2024
होमकिसान समाचारमौसम विभाग ने बता दिया, दिसंबर से फरवरी माह तक देश में...

मौसम विभाग ने बता दिया, दिसंबर से फरवरी माह तक देश में कैसी पड़ेगी ठंड

Weather Update: दिसंबर से फ़रवरी तक के लिए मौसम का पूर्वानुमान

जलवायु परिवर्तन का असर भारतीय मौसम पर दिखने लगा है, इस वर्ष जहां देश के कई हिस्सों में सामान्य से कम बारिश हुई है तो वहीं कई क्षेत्रों में बाढ़ से काफी नुक़सान हुआ है। इस बीच भारतीय मौसम विज्ञान विभाग IMD ने इस वर्ष ठंड कैसी रहेगी इसको लेकर पूर्वानुमान जारी कर दिया है। मौसम विभाग के अनुसार इस शीतकालीन सीजन में जहां दिन अधिक गरम रहेंगे तो वहीं रात में भी ठंड कम रहेगी।

मौसम विभाग के मुताबिक़ इस वर्ष देश में रात का तापमान यानि की न्यूनतम तापमान सामान्य से अधिक रहने की संभावना है तो वहीं दिन का अधिकतम तापमान भी सामान्य से अधिक रहेगा। इसके अलावा हर साल पड़ने वाली शीत लहरों की संख्या में भी कमी आने की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार दिसंबर के महीने में उत्तर एवं पूर्वी भारत के हिस्सों में सामान्य से अधिक वर्षा हो सकती है तो वहीं दक्षिणी प्रायद्वीपीय भारत में सामान्य से कम वर्षा होने का अनुमान है।

यह भी पढ़ें   किसान अधिक पैदावार के लिए लगाएं गेहूं की नई विकसित किस्म करण नरेंद्र DBW 222

किन राज्यों में पड़ सकती है अच्छी ठंड

Minimum Temperature Forecast for December 2023 to February 2024
दिसंबर 2023 से फरवरी 2024 तक न्यूनतम तापमान का संभावित पूर्वानुमान, स्रोत: भारतीय मौसम विभाग

जैसा कि चित्र-1 में आप लाल और नारंगी रंग से देख सकते हैं इस वर्ष देश के लगभग सभी हिस्सों में न्यूनतम तापमान सामान्य से अधिक रहने का अनुमान है यानी की रात में इस बार ठंड कम रहेगी।

Maximum Temperature Forecast for December 2023 to February 2024
दिसंबर 2023 से फरवरी 2024 तक अधिकतम तापमान का संभावित पूर्वानुमान, स्रोत: भारतीय मौसम विज्ञान विभाग IMD

इसके अलावा आप चित्र-2 में देख सकते हैं कि मध्य भारत के कुछ हिस्सों को छोड़ दिया जाए तो शेष सभी स्थानों को लाल एवं नारंगी रंग से दर्शाया गया है। इसका मतलब यह है कि मध्य भारत को छोड़कर शेष सभी स्थानों पर दिन में भी ठंड कम रहेगी यानी की अधिकतम तापमान सामान्य से अधिक रहेगा।

इसके अतिरिक्त देश के उत्तर, उत्तर पश्चिम, केंद्रीय, पूर्व और उत्तर-पूर्व भागों में ठंडी (शीत) लहरों की संभावना सामान्य से कम रहेगी। यानि की इस वर्ष पिछले वर्षों के मुकाबले शीत लहर भी कम ही रहेगी। 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

Trending Now

डाउनलोड एप