back to top
28.6 C
Bhopal
बुधवार, जून 26, 2024
होमकिसान समाचारकिसान 31 जुलाई तक करायें भूमि का पंजीयन, सरकार देगी 100...

किसान 31 जुलाई तक करायें भूमि का पंजीयन, सरकार देगी 100 रुपये

भूमि का पंजीकरण

देश में किसानों के कल्याण के लिए कई योजनाएँ चलाई जा रही हैं, जिनका लाभ लेने के लिये किसानों को पंजीकरण कराना आवश्यक होता है। इस कड़ी में हरियाणा में किसानों को सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ लेने के लियेमेरी फसल मेरा ब्यौरापोर्टल पर पंजीकरण कराना अनिवार्य है। पोर्टल पर पंजीकरण कराने वाले किसानों को ही मूल्य समर्थन योजना सहित अन्य योजनाओं का लाभ दिया जाता है।

इस कड़ी में हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा किमेरी फसल मेरा ब्यौरापोर्टल पर किसानों की जमीन का शत प्रतिशत पंजीकरण करवाया जाएगा, यह साल में 2 बार होगा। जो किसान अपनी पूरी जमीन का पंजीकरण 31 जुलाई तक करवाएगा उसे 100 रुपये दिए जाएँगे। मुख्यमंत्री ने यह बात चण्डीगढ़ में भारतीय किसान संघ हरियाणा के पदाधिकारियों व विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ हुई बैठक में कही। इस दौरान पदाधिकारियों ने कई सुझाव दिए जिन पर बिंदुवार चर्चा हुई और ज्यादातर पर सहमति बनी।

यह भी पढ़ें   417 खरीद केंद्रों पर 1 अप्रैल से शुरू होगी गेहूं की समर्थन मूल्य पर खरीद, किसानों को 72 घंटों में भुगतान

जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए तैयार की जाएगी योजना

मुख्यमंत्री ने कहा कि जैविक/प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर हैफेड एक योजना तैयार करेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कृषि एवं किसान कल्याण विभाग में जल्द ही एडीओ की भर्ती की जाएगी, जिन्हे क्षेत्रफल के आधार पर यूनिट बनाकर ग्राम सचिवालयों में नियुक्त किया जाएगा।

पशुओं के थनों का किया जायेगा बीमा

पशुधन बीमा में दुधारू पशुओं के थनों के बीमा के लिए भी भारत सरकार के पशुपालन एवं डेयरी विभाग को पत्र लिखा जाएगा। उन्होंने कहा कि फसलों की बुआई से पहले खाद की उचित व्यवस्था की जाएगी और प्रदेश के जिस क्षेत्र में पहले जरूरत होगी वहां पर पहले खाद की उपलब्धता सुनिश्चित की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में बांस की खेती हेतु किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए पायलट प्रोजेक्ट के रूप में योजना तैयार की जाएगी। इसके अतिरिक्त, ड्रेनों की सफाई करवाने, सेम ग्रस्त क्षेत्रों की समस्या का समाधान करने आदि विषयों पर भी विस्तार से चर्चा हुई।

यह भी पढ़ें   अनार के अधिक उत्पादन के लिए वैज्ञानिकों ने किसानों के खेत पर जाकर दिया प्रशिक्षण 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर