खरीफ फसलों की खेती के लिए डीजल अनुदान

4302

खरीफ फसलों की खेती के लिए डीजल अनुदान

बिहार सरकार डीजल अनुदान देने के लिए नई व्यवस्था लेकर आयी है | अब किसानों को डीजल अनुदान आवेदन के अधिकतम 25 दिनों के अन्दर ही दिया जायेगा | बिहार सरकार ने खरीफ 2018 में अल्पवृष्टि के कारण सुखद जैसी स्थिति को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है | डीजल अनुदान की राशी भी 35 रु. प्रति लीटर से बढ़कर 40 रु. प्रति लीटर कर दिया गया है |

किसानों को खरीफ फसलों की सिंचाई के लिए क्रय किये गए डीजल पर 40 रु. प्रति लीटर की दर से 400 रु. प्रति एकड़, प्रति सिंचाई डीजल अनुदान दिया जायेगा | यह अनुदान धान का बिचड़ा, जुट फसल की 2 सिंचाई  के लिए 800 रु. प्रति एकड़ तथा धान, मक्का अन्य खरीफ फसलों के अन्तर्गत दलहनी, तिलहनी, मौसमी सब्जी, औषधीय एवं सुगन्धित पौधे की 3 सिंचाई के लिए 1200 रु. प्रति एकड़ की दर से दिया जायेगा |

यह भी पढ़ें   पीएम किसान योजना के तहत सभी किसानों का KYC कराने हेतु चलाया जायेगा 15 दिनों का विशेष अभियान

योजना का लाभ

यह योजना का लाभ आनलाइन पंजीकृत किसानों को ही दिया जायेगा | इसलिए किसान अपना आन – लाइन पंजीकरण अवश्य करा लें | कृषि विभाग के पोर्टल पर किसानों के निशुल्क पंजीकरण का कार्य चल रहा है | एकवार पंजीकृत हो जाने पर किसान सभी प्रकार के योजनाओं का लाभ ले सकेंगे वैसे किसान, जिनका मोबाईल संख्या आधार से जुदा हो, वे घर बैठे स्वंय अपना आनलाइन पंजीकरण कर, डीजल अनुदान के लिए आवेदन कर सकते हैं अथवा किसान अपने नजदीकी कामन सर्विस केंद्र / सहज/ वसुधा केंद्र से भी सम्पर्क कर निशुल्क आनलाइन पंजीकरण कराने के साथ – साथ डीजल अनुदान के लिए आवेदन कर सकते हैं | पंजीकरण अथवा आवेदन करने के लिए किसान सलाहकार, कृषि समन्वयन, प्रखंड कृषि पदाधिकारी अथवा जिला कृषि पदाधिकारी से भी संपर्क कर सकते हैं |

किसान अपना आवेदन सबमिट कर देंगे, उसी समय आवेदन संबंधित कृषि विभाग समन्वयक को अग्रसारित हो जायेगा | कृषि समन्वयन 10 दिनों के अन्दर आवेदन की जाँच कर अपनी अनुशंसा के साथ जिला कृषि पदाधिकारी को अग्रसारित कर देंगे | अगर आवेदन कृषि समन्वयकों द्वारा 10 दिनों के अन्दर सत्यापित नहीं की जाती है तो यह समझा जायेगा की आवेदन सही है और और आवेदन जिला कृषि पदाधिकारी को स्वत:अग्रसारित हो जायेगी | अग्रसारित सभी आवेदनों की जाँच जिला कृषि पदाधिकारी 7 दिनों के अन्दर करेंगे तथा उन्हें स्वीकृत कर राज्य सरकार को अग्रसारित करेंगे |

यह भी पढ़ें   आने वाले दिनों में राजस्थान, मध्यप्रदेश सहित इन जगहों पर हो सकती है भारी बारिश

अगर जिला कृषि पदाधिकारी के द्वारा 7 दिनों के अन्दर आवेदन राज्य सरकार को अग्रसारित नहीं की जाती है तो यह समझा जायेगा की आव्दन सही है और स्वत: आवेदन स्वीकृत होते हुए भुगतान की अनुशंसा बैंक को कर देगा | उन्होंने कहा की बैंक को आवेदन भेजने के अगले दिन अनुदान की राशी किसानों के खाते में चली जायेगी जिसकी सुचना किसान को एस.एम.एस. के माध्यम से मिल जायेगी |

पिछला लेखकिसानों का सोयाबीन चीन को निर्यात किया जाये
अगला लेखगन्ना किसानों को चीनी मिलों द्वारा देय मूल्य (एफआरपी) का निर्धारण

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.