बाढ़ और बारिश से एक लाख हेक्टेयर की फसल बर्बाद, केंद्रीय दल करेगा सर्वेक्षण

0
530
crop damage by flood

अतिवृष्टि एवं बाढ़ से हुई क्षति के आंकलन के लिए केन्द्रीय दल

देश भर में जुलाई के अंतिम सप्ताह से अगस्त के पहले सप्ताह तक अतिवृष्टि एवं बाढ़ के कारण कई राज्यों में बाढ़ कि स्थिति बन गई थी | कई राज्य इससे बुरी तरह प्रभवित हुए हैं | इसमें से मध्यप्रदेश के 9 जिलों में बाढ़ का सीधा असर पड़ा है | ग्वालियर तथा चंबल संभाग सबसे ज्यादा बाढ़ प्रभावित क्षेत्र रहा हैं | इन जिलों में नुकसानी का आकलन के लिए केंद्रीय सर्वेक्षण दल मध्य प्रदेश पहुँच गया है, इनके द्वारा किये गये नुकसानी के सर्वेक्षण के आधार पर ही बाढ़ पीड़ितों को अनुदान दिया जायेगा |

बाढ़ से जहाँ जान माल की नुकसानी हुई है वहीँ किसानों की फसल पूरी तरह नष्ट हो गई है | कई जिलों में बाढ़ से नदी पर बना पुल भी टूट गया | बाढ़ में लोगों को बचाने तथा राहत सामग्री पहुँचाने के लिए सेना के 6 काँलम, एयर फ़ोर्स के 6 हेलीकाप्टर के अलावा एनडीआरएफ की 8 यूनिट, एसडीइआरएफ की 29 टीम, होमगार्ड की 61 टीम अति वर्षा और बाढ़ प्रभावित सभी 9 जिलों के पुलिस बल और 478 नागरिक सुरक्षा स्वयं सेवक की मदद ली गई |

यह भी पढ़ें   जानिए उत्तर प्रदेश में किसान कब एवं कैसे बेच सकेगें समर्थन मूल्य MSP पर धान

लगभग 2 हजार करोड़ क्षति का अनुमान

बाढ़ प्रभावित 9 जिलों के दो हजार 444 गाँव बाढ़ एवं अति वृष्टि से बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं | प्रारंभिक आंकलन के अनुसार एक लाख एक हजार 669 हेक्टेयर क्षेत्र में फसल पूरी तरह से नष्ट हो गई है | लगभग 57 हजार 527 घर बाढ़ में बह गए अथवा पूरी तरह से नष्ट हुए | इसके अलावा 1735 करोड़ 50 लाख रूपये की शासकीय संपति को नुकसान पहुँचा | इसमें शासकीय भवन, सडक, बिजली प्रदाय अधोसंरचना, वन, पुल, बाँध सहित अनेक सिंचाई परियोजनाएँ शामिल है |

केंद्रीय निरिक्षण दल राज्य के इन जिलों में जायेंगे

केन्द्रीय दल चंबल एवं ग्वालियर संभाग के निरिक्षण के पश्चात् भोपाल पहुंचकर मंगलवार को शाम 7 बजे मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के साथ मंत्रालय में चर्चा करेगा | बैठक में राजस्व एवं परिवहन मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत भी उपस्थित रहेंगे |

दल की एक दल ने ग्वालियर संभाग के डबरा-चांदपुर, दतिया जिले के कोटरा, सुनाती, अन्डोरा, खरोनाघाट का दौरा किया | दूसरे दल ने सबलगढ़ के श्यामपुर, ओछापुरा, ढोढर, मानपुर एवं श्योपुर का निरीक्षण किया | मंगलवार को अध्ययन दल यह टीम ग्वालियर से भितरवार, सिला, पलाधा, ख्यावदा, पनघटा, पुल्हा सिहोर एवं शिवपुरी के रायपुर, हरई, बरखेड़ी, कूपरेटा का निरीक्षण करेगी | दूसरी टीम श्योपुर के प्रेमसर, उतनवाड़ा, अलापुरा, मूंडला, आवदा एवं श्योपुर का निरीक्षण करेगी |

यह भी पढ़ें   राजस्थान: किसानों और पशुपालको को मिल सकता है बढ़ा तोहफा

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.