कहीं आपकी गाय या भैंस को यह रोग तो नहीं

0
1108
views
Amber or Belly Disease in cow and Buffalo

अम्बर या बेली रोग

इस बीमारी को स्थान विशेष के अनुसार अलग – अलग नामों जैसे बेली बनना, पुरईन, अम्बर अथवा फूल निकलना (प्रोलेप्स यूटरस) आदि नामों से जानते है | इसमें गर्भाशय अथवा गर्भाशय का कुछ भाग बाहर निकल आता है  | भैंसों की अपेक्षा गायों में यह रोग अधिक होता है | यह समस्या प्रसव के बाद की अपेक्षा पूर्व में अधिक पायी जाती है | यदि समय पर इसका उपचार न किया गया तो यह समस्या गम्भीर रूप ले सकती है |

अम्बर या बेली रोग का कारण :-

  • मादा का ढलान वाले स्थान पर लम्बे समय तक बंधे रहना |
  • उदर का अधिक भरा होने पर गर्भाशय पर दबाव पड़ना |
  • आहार में कैल्सियम की मात्रा कम होना |
  • गर्भकाल के अंतिम माह में इस्ट्रोजेनयुक्त चारा खिलाना |
  • प्रसव के दौरान बच्चे को बलपूर्वक खींचना |
  • रक्त में कैल्सियम एवं फास्फोरस की कमी होना |
  • कुपोषण अथवा लगातार असंतुलित आहार देना |
  • बच्चेदानी में जलन या संक्रमण होना |
  • गर्भकाल के समय प्रोजेस्ट्रान हार्मोन की कमी होना |
यह भी पढ़ें   50 प्रतिशत की सब्सिडी पर पोल्ट्री फार्म खोलने के लिए आवेदन करें

अम्बर या बेली रोग का उपचार :-

  • संतुलित आहार दें |
  • आहार में हरे चारे को वरीयता दें |
  • आहार के साथ खडिया, नमक एवं 40 – 50 ग्राम खनिज लवण प्रतिदिन दें |
  • पशु – चिकित्सक से मिलकर कैल्सियम का इंजेक्शन लगवायें एवं सलाह लें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here