रोजाना 50 किसान समर्थन मूल्य पर बेच सकेंगे खरीदी केन्द्रों पर मूंग

0
827
msp moong kharid

MSP पर मूंग की खरीद

ग्रीष्मकालीन मूंग की खरीदी एक बार फिर से शुरू हो गई है, इसके लिए किसानों को एसएमएस द्वारा सुचना भी जारी की जाने लगी है | जैसा की मध्य प्रदेश में ग्रीष्मकालीन मूंग की खेती इस वर्ष बड़े पैमाने पर की गई थी जिसको देखते हुए सरकार ने इस वर्ष सभी किसानों से मूंग खरीदने का फैसला किया है | राज्य के 52 जिलों में से 30 जिलों में मूंग की खेती की गई है | 15 जून से शुरू हुए ग्रीष्म कालीन मूंग की खरीदी 1.34 लाख टन के लक्ष्य के बाद रोक दी गई थी | जिसे अब सरकार ने दोबारा से शुरू कर दिया है |

बहुत से किसानों के मूंग खरीदी से वंचित रह जाने के कारण राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से समर्थन मूल्य पर मूंग खरीदी के लक्ष्य को बढ़ाने के लिए मांग की थी | जिसके बाद अब मूंग खरीदी के लक्ष्य को 2 लाख 47 हजार मीट्रिक टन कर दिया गया है | जिसके बाद अब प्रदेश में दोबारा से मूंग खरीदी का कार्य शुरू हो गया है|

यह भी पढ़ें   मल्टीक्रॉप थ्रेशर सब्सिडी पर लेने के लिए आवेदन करें

कितने लोगों को एसएमएस SMS किया जायेगा ?

मूंग की खरीदी के लिए प्रत्येक दिन 50 किसानों को एसएमएस किया जायेगा | इसमें 35 छोटे किसान तथा 15 बड़े किसानों को एसएमएस भेजा जायेगा | जिन किसानों को पहले एसएमएस किया गया था लेकिन पोर्टल बंद था उन किसानों को दुबारा एसएमएस भेजा जायेगा | एसएमएस 9 अगस्त तक किया जाएगा |

किसान कब तक बेच सकेंगे समर्थन मूल्य पर मूंग

मध्य प्रदेश में 15 जून से मूंग की खरीदी शुरू की गई थी | यह खरीदी 15 सितम्बर तक किया जाना था लेकिन मूंग की खरीदी लक्ष्य 1.34 लाख टन पूरा होने के बाद बंद कर दी गई थी | मध्य प्रदेश सरकार को अतिरिक्त 1 लाख 13 हजार मीट्रिक टन ग्रीष्मकालीन मूंग की समर्थन मूल्य पर खरीदी की अनुमति दी गई है। जिसके बाद प्रदेश में ग्रीष्मकालीन मूंग की कुल खरीद का लक्ष्य 2 लाख 47 हजार मीट्रिक टन हो गया है |

राज्य में कुल ग्रीष्मकालीन मूंग का उत्पादन

राज्य में इस वर्ष 12 लाख 16 हजार टन मूंग का उत्पादन हुआ था | यह उत्पादन राज्य के 30 जिलों के 6 लाख 82 हजार भूमि में उत्पादन हुआ है | हरदा तथा होशंगाबाद ग्रीष्मकालीन मूंग उत्पदान में सबसे ज्यादा है | दोनों जिलों को मिलाकर 3 लाख 33 हजार मूंग की उत्पादन हुआ है |

यह भी पढ़ें   किसानों को जैतून के फल के साथ मिल रहे हैं पत्तियों के भी दाम 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here