किसान न्याय योजना के तहत 19 लाख किसानों के बैंक खातों में दिए गए 1104 करोड़ रूपये

0
606
kisan nyaya yojana 4th kisht

19 लाख किसानों को दिए गए 1104 करोड़ रूपये

किसानों के आय में वृद्धि एवं फसल उत्पादन को बढ़ाने के उद्देश्य से छत्तीसगढ़ राज्य में शुरू की गई राजीव गांधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत किसानों के खातों में योजना की चौथी किश्त अंतरित की जा चुकी है | इस योजना के तहत 21 मार्च को 19 लाख किसानों के बैंक खातों में 1104 करोड़ 27 लाख रूपये हस्तांतरित किये गए हैं | यह राशि राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत किसानों के चौथे किश्त के रूप में दी गई है | योजना के अंतर्गत किसानों को एक साल में कुल 5628 करोड़ रूपये की राशि आदान सहायता के रूप में दी गई है |

इस अवसर पर लोकसभा सांसद श्री राहुल गांधी ने वर्चुअल उपस्थिति के माध्यम से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के साथ राज्य के किसानों को योजना के तहत चौथी किश्त की राशि कम्प्यूटर से एक क्लिक कर सभी जिले के जिला सहकारी बैंकों को अंतरित की | जिसे सहकारी बैंक द्वारा जिले के किसानों के बैंक खाते में जमा कर दी गई है| राजीव गांधी किसान न्याय योजना 21 मई 2020 से शुरू किया गया है | योजना के तहत राज्य के किसानों को प्रति एकड़ 10,000 रूपये आमदनी को पूरा करने के लिए शुरू किया गया है |

यह भी पढ़ें   मात्र 1.5 प्रतिशत प्रीमियम राशि देकर करवाएं रबी फसलों का बीमा

गोधन न्याय योजना के तहत पशुपालकों को दिए गए 7.55 करोड़ रूपए

राज्य में पशुपालकों के लिए चलाई जा रही गोधन न्याय योजना के तहत राज्य के पशुपालकों से  2 रूपये प्रति किलोग्राम गोबर खरीदा जाता है | जिसका भुगतान प्रत्येक 15 दिन पर किया जाता है | इसी के तहत राज्य के मुख्यमंत्री ने बहुआयामी गोधन न्याय योजना के तहत राज्य के 1 लाख 62 हजार से अधिक पशुपालकों एवं ग्रामीणों से बीते एक माह में क्रय किए गए गोबर के मूल्य के एवज में 7 करोड़ 55 लाख रूपये की राशि सीधे खातों में अंतरित किए|

20 जुलाई 2020 को हरेली पर्व के उपलक्ष में शुरू हुई गोधन न्याय योजना के तहत राज्य के पशुपालकों एवं ग्रामीणों को अब तक 88 करोड़ रूपये का भुगतान किया जा चूका है | योजना के तहत अब तक 44 लाख क्विंटल गोबर की खरीदी की गई है , जिसके एवज में गोबर विक्रेताओं पशुपालकों एवं ग्रामीणों को 88 करोड़ रूपये का भुगतान किया गया है |

यह भी पढ़ें   जानिए क्यों RCEP समझौता किसानों को बर्बादी की और ले जा सकता है ?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here