किसान अधिक पैदावार के लिए कब करें सोयाबीन की कटाई

661
soybean katai kab kare

सोयाबीन की कटाई

सोयाबीन की कटाई इस माह के अंतिम सप्ताह से शुरू हो जाएगी, इसके साथ ही किसान सोयाबीन की गहाई तथा भंडारण का काम शुरू कर देंगे | इस समय देश के अनेक राज्यों में बारिश का दौर लगातार जारी है | जिससे इसकी गहाई में देर हो सकती है तथा फसल को काफी नुकसान भी हो सकता है | इसको देखते हुए किसानों को सोयाबीन की कटाई करने से पहले कई प्रकार की सावधानियाँ बरतना होगा |

किसान इस समय करें सोयाबीन की कटाई

ऐसे किसान जिन्होंने सोयाबीन की शीघ्र पकने वाली सोयाबीन की किस्में (जे.एस. 90 – 60), जे.एस. 20–34, एन.आर.सी. 130, जे.एस. 93–05, एन.आर.सी.-138 आदि उगाई गई है | वे सभी किसान परिपक्व फलियों का रंग जैसे ही बदलना प्रारंभ हो (फिजियोलोजिकल मेचुरिटी), अपनी सुविधानुसार फसल की कटाई करें |

सोयाबीन की फलियों में दाने भरने या परिपक्वता की अवस्था में फसल पर होने वाली लगातार बारिश से सोयाबीन की गुणवत्ता में कमी आ सकती है या फलियों के दाने अंकुरित होने की भी सम्भावना हो सकती है | अत: किसान सुविधानुसार उचित समय पर फसल की कटाई करें | जिससे फलियों के चटकने से होने वाले नुकसान या फलियों के अंकुरित होने से बीज की गुणवत्ता में आने वाली कमी से बचा जा सके |

यह भी पढ़ें   खरबूजे की वैज्ञानिक खेती कर किसान अपनी आय बढ़ाएं 

कटी हुयी फसल को धुप में सुखाने के पश्चात् सुविधानुसार गहाई करें | यदि तुरंत गहाई करना संभव नहीं हो तो कटी हुई फसल को सुरक्षित स्थान पर इकट्ठा कर ढेर लगाये तथा तारपोलिन से ढक कर रखें | जिससे चटकने से होने वाले नुक्सान से बचा जा सके |

बीज उत्पदान करने के लिए क्या करें 

आगामी वर्ष बीज के रूप में उपयोगी सोयाबीन की फसल की गहाई 350 से 400 आर.पी.एम. पर करें | जिससे बीज की गुणवत्ता पर विपरीत प्रभाव नहीं पड़ें | बीज उत्पादन करने वाले किसान लगाई गई किस्म/फसल से फूलों का रंग, पत्तियों का आकर/बनावट या रोये की उपस्थिति या अनुपस्थिति के आधार पर अन्य/मिश्रित किस्म के पौधे निकालकर खेत से निष्कासित करें | जिससे बीज उत्पादन में अधिकाधिक शुद्धता सुनिश्चित की जा सके |

पिछला लेखअधिक पैदावार के लिए धान की फसल में किसान इस समय करें यूरिया का छिड़काव
अगला लेखजैविक खेती करने वाले किसान यहाँ बेच सकते हैं अपनी उपज

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.