Thursday, December 1, 2022

पशुओं के लिए पोष्टिक एवं संतुलित है यूरिया सीरा तरल आहार (यू.एम.एल.डी.)

Must Read

पशुओं के लिए यूरिया सीरा तरल आहार (यू.एम.एल.डी.)

देश के कई भागों में बाढ़ और सुखा समय – समय पर आने वाली प्ररितिक आपदाएं हैं | इन से न केवल कृषि उत्पादन साथ ही पशुधन उत्पादन भी विशेषकर प्रभावित होता हैं  | इन विपदाओं के समय न्यूनतम लागत पर वैकल्पिक भरण नीतियों का उपयोग करके पशुधन को जीवित रखना प्रमुख उद्देश्य होता है |अनुपलब्धता और भरी सामग्री को इधर से उधर ले जाने में भारी कठिनाइयों के कारण परम्परागत तौर पर उपयोग किए जाने वाले पशु आहार / चारे की उपलब्धता अनिश्चित हो जाती है  |

सीरे में उर्जा और गंधक के साथ – साथ अधिक घनत्व भी होता है | इसे सुखा / अभाव की स्थितियों पशु आहार के रूप में शरीर के विभिन्न प्रक्रमों के लिए आवश्यक प्रोटीन, खनिज और विटामिन को डालकर उपयोगी बनाया जा सकता है | भारतीय पशुचिक्त्सा अनुसंधान संस्थान, इज्जतनगर ने यूरिया सीर तरल आहार (यूएमएलडी) को बढ़ते गोपशु और भैसों के लिए लंबी अवधि के लिए आहार के रूप में मानकीकृत किया है |

यह भी पढ़ें   वैज्ञानिकों ने खोजी सुकर की नई प्रजाति 'बांडा', पशुपालकों की बढ़ेगी आमदनी

आवश्यक सामग्री

100 कि.ग्रा. यू.एम.एल.डी. के लिए

  • सीरा  84 की.ग्रा.
  • प्रोटीन की गोलियां 10 की.ग्रा.
  • यूरिया 3 की.ग्रा.
  • खनिज मिश्रण 2 की.ग्रा.
  • फास्फोरस अम्ल 1 की.ग्रा.
  • विटामिन संपूरक (विटाबलेंड), 25 ग्राम /सौ की.ग्रा.

घटक

  • प्रोटीन की गोलियां (प्रतिशत शुष्क भारे के आधार पर)
  • तेल निकली सरसों की खली , 23
  • सरसों की खली , 11
  • कुटा हुआ ज्वार का दाना , 10
  • सीर, 10
  • ग्वार कोरम, 9
  • बिनोला मील, 8
  • मूंगफली की तेल निकाली खली, 7
  • चावल पालिश, 6
  • गेंहू की भूसी, 6 माल्ट स्पराउट, 3
  • मक्का ग्लूटेन, 3
  • धान की तेल निकाली भूसी, 2
  • संसाधन नमक, 2

तैयारी

- Advertisement -

यूएमएलडी बनाने के लिए यूरिया को सीरे में मिलाया जाता है  रात भर प्लास्टिक की नांद में रखा जाता है | अगली सुबह इसे अच्छी तरह हिलाकर अन्य सामग्री मिलायी जाती है |

लाभ

आपदाओं के समय विशेषकर बाढ़ / सूखा के समय इसे उत्तरजीवित राशन के रूप में उपयोग कर सकते हैं |

आर्थिकी 

उत्तरजीवित आहर है अत: यूएमएलडी कई लाख मूल्यवान पशुधन की जीवन रक्षा कर सकता है, यधपि इस आहार की लागत लगभग 250 रु./किवंटल आती है |

यह भी पढ़ें   वैज्ञानिकों ने खोजी सुकर की नई प्रजाति 'बांडा', पशुपालकों की बढ़ेगी आमदनी
स्त्रोत: भारतीय पशु चिकित्सा अनुसन्धान, इज्ज़तनगर

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

3 लाख से अधिक नए किसानों को दिया जायेगा ब्याज मुक्त फसली ऋण

ब्याज मुक्त फसली ऋण का वितरणकृषि के क्षेत्र में निवेश के लिए केंद्र तथा राज्य सरकारें किसानों को सस्ता...

More Articles Like This

ऐप खोलें