ब्रायलर मुर्गीपालन में ध्यान देने योग्य बातें

12
3089

ब्रॉयलर उत्पादन के विषय मे महत्वपूर्ण जानकारी

ब्रायलर मुर्गीपालन में ध्यान देने योग्य बातें

  1. ब्रायलर के चूजे की खरीदारी में ध्यान दें कि जो चूजे आप खरीद रहें हैं उनका वजन 6 सप्ताह में 3 किलो दाना खाने के बाद कम से कम 1.5 किलो हो जाये तथा मृतयु दर 3 प्रतिशत से अधिक ना हो ।
  2. अच्छे  चूजे की खरीद  कि लिए  पशुचिकित्सा महाविद्यालय के कुक्कुट से विशेषज्ञ या राज्य के संयुक्त निदेशक, कुक्कुट से संम्पर्क कर लें । उनसे आपको इस बात की जानकारी मिल जायेगी कि किस हैचरी का चूजा खरीदना अच्छा होगा ।
  3. चूजा के आते ही उसे बक्सा समेत कमरे के अन्दर ले जायें, जहाँ ब्रूडर रखा हो । फिर बक्से का ढक्कन खोल दें। अब एक एक करके सारे चूजों को इलेक्ट्रल पाउडर या ग्लूकोज मिला पानी पिलाकर ब्रूडर के निचे छोड़ते जायें। बक्से में अगर बीमार चूजा है तो उसे हटा दें।
  4. चूजों के जीवन के लिए पहला तथा दूसरा सप्ताह संकटमय होता है । इस लिए इन दिनों में अधिक देखभाल की आवश्यकता होती है। अच्छी देखभाल से मृत्यु संख्या कम की जा सकती है।
  5. पहले  सप्ताह में ब्रूडर में तापमान 90 0 एफ. होना चाहिए। प्रत्येक सप्ताह 5 एफ. कम करते जायें तथा 70  एफ. से नीचे ले जाना चाहिए। यदि चूजे ब्रूडर के नीचे बल्ब के नजदीक एक साथ जमा हो जायें । तो समझना चाहिए के ब्रूडर में तापमान कम हैं। तापमान बढ़ाने के लिए अतिरिक्त बल्ब का इन्तजाम करें या जो बल्ब ब्रूडर में लगा है। यदि चूजे बल्ब से काफी दूर किनारे में जाकर जमा हो तो समझना चाहिए ब्रूडर में तापमान ज्यादा हैं। ऐसी स्थिति में तापमान कम करें।

दैनिक विवरण 

  1. पहले दिन जो पानी पीने के लिए चूजे को दें, उसमें इलेक्ट्रल पाउडर या ग्लूकोज मिलायें। इसके अलावा 5 मि.ली. विटामिन ए., डी. 3 एवं बी.12 तथा 20 मि.ली. बी काम्प्लेक्स प्रति 100 चूजों के हिसाब से दें। इलेक्ट्रल पाउडर या ग्लूकोज दूसरे दिन से बन्द कर दें। बाकी दवा सात दिनों तक दें । वैसे बी- काम्प्लेक्स या कैल्सियम युक्त दवा 10 मि.ली. प्रति 100 मुर्गियों के हिसाब से हमेशा दे सकते हैं।
  2. जब चूजे पानी पी लें तो उसके 5-6 घंटे बाद अखबार पर मकई का दर्रा छीट दें, चूजे इसे खाना शुरु कर देंगे। इस दर्रे को 12 घंटे तक खाने के लिए देना चाहिए।
  3. तीसरे दिन से फीडर में प्री-स्टार्टर दाना दें। दाना फीडर में देने के साथ – साथ अखबार पर भी छीटें । प्री-स्टार्टर दाना 7 दिनों तक दें। चौथे या पाँचवें दिन से दाना केवल फीडर में ही दें। अखबार पर न छीटें।
  4. आठवें रोज से 28 दिन तक ब्रायलर को स्टार्टर दाना दें। 29 से 42 दिन या बेचने तक फिनिशर दाना खिलायें।
  5. दूसरे दिन से पाँच दिन के लिए कोई एन्टी बायोटिकस दवा पशुचिकित्सक से पूछकर आधा ग्राम प्रति लीटर पानी में मिलाकर दें। ताकि चूजों को बीमारियों से बचाया जा सके।
  6. शुरु के दिनों में विछाली (लीटर) को रोजाना साफ करें। विछाली रख दें। पानी बर्त्तन रखने की जगह हमेशा बदलते रहें।
  7. पाँचवें या छठे दिन चूजे को रानीखेत का टीका एफ –आँख तथा नाक में एक –एक बूँद दें।
  8. 14 वें या 15 वें दिन गम्बोरो का टीका आई.वी.डी. आँख तथा नाक में एक –एक बूँद दें।
यह भी पढ़ें   पशुओं में थनैला रोग एवं उसकी रोकथाम किस प्रकार करें किसान भाई

सावधानियां 

  1. मरे हुए चूजे को कमरे से तुरन्त बाहर निकाल दें। नजदीक के अस्पताल या पशुचिकित्सा महाविद्यालय या पशुचिकित्सक से पोस्टमार्टम करा लें। पोस्टमार्टम कराने से यह मालूम हो जायेगा की मौत किस बीमारी या कारण से हई है।
  2. मुर्गी घर के दरवाजे पर एक बर्त्तन या नाद में फिनाइल का पानी रखें। मुर्गीघर में जाते या आते समय पैर धो लें। यह पानी रोज बदल दें।

मुर्गियों को खिलाने के लिए दाना-मिश्रण

अवयवचूजेप्रतिशत
बढ़ने वाली
अण्डा देन
वाली मुर्गी
मकई222540
चावल का कण354530
चोकर555
चिनिया बादाम की
खली
251615
मछली का चूरा1065
चूने का पत्थर1.01.53
हड्डी का चूण1.01.01.5
नमक0.50.50.5
मैगनीज सल्फेट
ग्राम 100 कि.
0.52525
विटामिन
अपोषक खाद्य सप्लीमेंट
  • प्रति 100 ग्राम दानों में विटामिन की निम्नांकित मात्रा डालनी चाहिए -10 ग्राम रोमीमिक्स ए.वी. 2 डी. 3 के या वीटाब्लेड के 20 ग्राम (ए.वी.2डी.3) या अलग-अलग विटामिन ए के इंटरनेशनल यूनिट्स 10,000 विटामिन डी 3 के आई.सी.यू एवं 500 मि.ग्राम रीबोफ्लोविन । इसके अतिरिक्त प्रजनन वाले मुर्गे – मुर्गीयों के लिए 15,000 आई.यूविटामिन ई. 1 मि. ग्राम विटामिन बी. 12 (10 ग्राम ए.पी.एफ100) एवं वायोटीन 6 मि.ग्राम प्रजनन के लिए दिये जाने वाले मिश्रण में कुछ अन्य विटामिन एवं ट्रेस मिनरल मिलाये जाते हैं।
  • 50 ग्राम एम्प्रोल या बाईफ्यूरान एवं 100 ग्राम टी.एम. 5 या औरोफेक प्रति क्विंटल दाना में मिलाया जाता है।
यह भी पढ़ें   यदि आपके पशु ने कीटनाशक खा लिया है तो उसका उपचार इस तरह करें

नोटः

(अ) पीली मकई, चावल के कण एवं टूटे गेहुँ को ऊर्जा के स्त्रोत के रुप में दाना में मिलाया जाता है। दाना में यह एक दूसरे की जगह प्रयुक्त हो सकते हैं।
(ब) चिनिया बादाम की खली के 8.5 प्रतिशत भाग में रेपसीड खली या सरसों की खली से पुरा किया जा सकता है।
(स) मछली का चूरा या मास की बुकनी को भी एक दूसरे से पूरा किया जा सकता है, लिकिन अच्छे दाना-मिश्रण में 2.3 प्रतिशत अच्छी तरह का मछली का चूरा अवश्य देना चाहिए।

मांस के लिए पाली जाने वाली मुर्गी का दाना

दाना मिश्रणप्रतिशत में
अवयव1234
अनाज का दर्रा (मकई ,गेहूँ बाजरा,ज्वर, मडुआ आदि) ।56525755
चिनिया बादाम की खली20251520
चोकर चावल का कुंडा, चावल
ब्रान आदि ।
10111815
मछली का चूरा121088
हड्डी का चूण2.52.52.52.5
लवण मिश्रण1.51.51.51.5
साधारण नमक0.50.50.50.5

दाना मिश्रण सं.1 एवं 2 को छः सप्ताह तक एवं उसके बाद 3 एवं 4 नं. खिलायें । प्रति 100 कि. दाना मिश्रण में विटामिन सप्लीमेंट 25 ग्राम खिलायें।

12 COMMENTS

  1. sir mujhe vi egg farming karani hai es ke liye loan ke liye kahan apply karen kirpaya bata sakte hai kaya or kaya kay process hai

    mera number hai 9911966461

    • प्रोजेक्ट बनायें, आप कितना बड़ा एवं कहाँ फार्म खोलना चाहते हैं उसमें पूरी जानकारी दें, अपने यहाँ के पशु चिकित्सालय या जिले के पशुपालन विभाग में सम्पर्क करें | प्रोजेक्ट अप्रूव होने पर बैंक से लोन हेतु आवेदन करें |

    • जी सर लोन के लिए बैंक से सम्पर्क करें जिस बैंक में सम्मान निधि का पैसा आ रहा है वहां से किसान क्रेडिट कार्ड बनवाएं उस पर आप लोन ले सकते हैं |

  2. निवेदन है की मेरे पास मुर्गी फ़रम कि सौशति बनि हे निवेदन है की मेरे पास मुर्गी फ़रम के लिए जमीन नहीं है मेरे गाँव मे गाँव कि खुचे जमीन मेरे मुर्गी फ़रम के लिये दिल्वने कि किर्पिय करे. Taufeek पुत्र कल्लु गाँव दौताना तेहेसिल.छा ता जिला मथुर

    • अपने जिले या तहसील के पशु पालन विभाग या पशु चिकित्सालय में समपर्क करें |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here