किसानों को बीज ग्राम योजना के तहत फ्री में दिए जाएंगे नई किस्मों के बीज

6
46699
free seeds distribution

बीज ग्राम योजना के तहत बीज वितरण

कृषि क्षेत्र में दलहनी एवं तिलहनी फसलों के भाव में तेजी के चलते किसानों के बीच इन फसलों की खेती के लिए रुझान बढ़ा है | दलहनी तथा तिलहनी फसलों की बढ़ती मांग और देश में इन फसलों के उत्पादन में आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार द्वारा भी इन फसलों के उत्पादन के लिए किसानों को प्रोत्साहित किया जा रहा है | मध्यप्रदेश सरकार भी किसानों की आय बढ़ाने एवं राज्य में पैदावार बढ़ाने के लिए बीज ग्राम योजना शुरू कर रही है | योजना के तहत किसानों को खाद्यान्न, दलहन एवं तिलहन फसलों की नवीन किस्मों के प्रमाणित एवं उन्नत बीज उपलब्ध कराये जायेंगे।

देश भर में लगभग 35 मिलियन टन तिलहन का उत्पादन होता है जो देश की कुल जरूरत का 40 प्रतिशत ही पूरा करता है | शेष तिलहन की आपूर्ति आयात करके की जाती है | देश में तिलहन का मूल्य 8 से 12 हजार रूपये क्विंटल तक चल रहा है ऐसे में किसानों को इसका लाभ मिल सके इसके सरकार द्वारा इन फसलों के उत्पादन बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है| दलहन एवं तिलहन की पैदावार बढ़ाने के लिए मध्य प्रदेश सरकार राज्य के किसानों को दलहनी तथा तिलहनी फसलों का बीज नि:शुल्क वितरण करने जा रही है |

यह भी पढ़ें   फसल अवशेष प्रबंधन की योजनाओं के लिए राज्य सरकार ने जारी किये 1,304.95 करोड़ रुपये

बीज ग्राम योजना के लिए अभी इन जिलों का किया गया चयन

मध्य प्रदेश कृषि विभाग के द्वारा बीज ग्रामों का शुभारंभ किया जा रहा है । इसके अंतर्गत अनुसूचित जाति-जनजाति बहुल ग्रामों में विशेष कार्यक्रम आयोजित होंगे। इसमें प्रत्येक बीज ग्राम में 50 हितग्राही किसानों को खाद्यान्न, दलहन एवं तिलहन फसलों की नवीन किस्मों के प्रमाणित एवं उन्नत बीज उपलब्ध कराये जायेंगे। 10 जिलों के चयनित ग्राम इस प्रकार है:-

  • शाजापुर – 9 ग्राम
  • उज्जैन – 8 ग्राम
  • होशंगाबाद, सीहोर, विदिशा और सिवनी – 7 – 7 ग्राम
  • राजगढ़ और बड़वानी – 8 – 8 ग्राम
  • हरदा – 10 ग्राम

किस जिले में कौन सी फसल का बीज दिया जायेगा ?

कृषि मंत्री श्री पटेल ने बताया कि मुख्यमंत्री श्री चौहान राज्य-स्तरीय कार्यक्रम में किसानों को नि:शुल्क बीज मिनीकिट वितरण करेंगे। बीजों के मिनीकिट में सरसों समस्त जिलों में, मसूर 32 जिलों में और अलसी के बीज मिनीकिट 18 जिलों में वितरित किये जायेंगे। बीज मिनीकिट में उच्च उत्पादन किस्मों के बीज होंगे। इनसे कृषक नवीन किस्मों को अपनाये जाने के लिये प्रेरित होंगे। नवीन किस्मों के प्रमाणित बीज सीधे कृषकों तक पहुंचेंगे, जिसका लाभ किसानों को अधिक से अधिक होगा।

यह भी पढ़ें   प्रतिदिन 906 किसानों का 3.34 करोड़ रुपए का किया जा रहा है ऋण माफ

6 COMMENTS

  1. Sir abhi mera kisan samman nidhi yojana ka paisa nahi aaya kisan kendra me mohan lalganj me do bar form dil kar chuke phir bhi nahi aaya aage kya kare hame bataye mera government job hai lekin 4th class kya yahi vajah to nahi please reply kare

  2. बीज मिलने में बहुत देरी होती है फसल बोने के टाइम के बाद कृषि सब्सिडी की बीज लोगों को मिलता है

    • सर आप अपने यहाँ के कृषि विभाग के सम्पर्क में रहें जब भी जिले में बीज आयेंगे आप ले सकते हैं | अधिक जानकारी के लिए अपने यहाँ के कृषि विस्तार अधिकारी से संपर्क करें |

    • जी किस योजना का लाभ नहीं मिल रहा है ? आप अपने ब्लॉक या जिले के कृषि विभाग कार्यालय में सम्पर्क करें | जब भी योजना के लिए आवेदन होते हैं तब आवेदन करें |

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.