back to top
28.6 C
Bhopal
रविवार, जुलाई 14, 2024
होमकिसान चिंतनलहसुन के यह भाव जानकर हैरान हो जाएंगे आप

लहसुन के यह भाव जानकर हैरान हो जाएंगे आप

लहसुन के यह भाव जानकर हैरान हो जाएंगे आप

राजस्थान के हतौसी तथा कोटा जिलों में दो किसान ने लहसुन के भाव न मिलने के कारण आत्म-हत्या कर ली है परन्तु सरकार की तरफ ने फिर से वही पुरानी बात दोहराई कि किसान की मौत तथा फसल की कीमत न मिलने से कोई सम्बन्ध नहीं है | यदि आकड़ों की माने तो प्रतिदिन 35 किसान आत्महत्या करते हैं | अक्सर सरकार की तरफ से कहा जाता है की किसान परम्परिक अनाज की खेती क्यों करते है | किसान को किसी और फसल की खेती करनी चाहिए | तो फिर यह दो मौत क्या है ?

किसानों का दर्द 

मध्य प्रदेश के धार जिले में एक किसान ने बताया की उसके लहसुन 200 रु./ क्विंटल के दर से बेच दिया है यानि प्रति किलो 2 रु. | यह जो भाव किसानों को मिल रहा है यह न्यूनतम भाव नहीं है बल्कि 17 जून को मध्य प्रदेश के मंदसौर के किसान की लहसुन के भाव सुनकर तो आप चौक जायेंगे | यह किसान 3 क्विंटल  6 किलो 500 ग्राम लहसुन 153 रु. में बेचा है | यानि किसान को प्रति किलो 50 पैसा की दर से भाव मिला | लेकिन यह भी पैसा किसान को नहीं मिला बल्कि इसमें से भी 40 रु. मंडी समिति ने ही काट लिया |

किसान का कहना है की लहसुन को मंडी ले जाने का किराया भी नहीं निकला  | पिछले वर्ष किसान आंदोलन प्याज के भाव नहीं मिलने के करण हुआ था | जिसमें किसान आंदोलन में मारे गये किसान अभिषेक पाटीदार के परिवार वालों ने बताया था की उसने 1.25 रु. के भाव से 52 किवंटल प्याज बेचा था | तो क्या यह मानकर चला जाए की एक – एक कर के सभी फसलों की कीमत मिटटी के मूल्य से भी कम कर दिया जायेगा | एक तरफ सरकार किसानों के आमदनी दुगनी करने की बात कर रही है तो दूसरी तरफ फसल के भाव को कंट्रोल नहीं कर पा रहा है | सभी फसलों का भाव लगातार गिर रहा है आलम यह है की सरकार के द्वारा तय 24 फसलों की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर भी खरीदी नहीं कर पा रही है |

तो क्या सही भाव नहीं मिलना है किसानों की मौत का कारण 

कृषि मत्री के द्वारा संसद में एक सवाल के जवाब में कहा है की 3 वर्ष में 36,000 किसान ने आत्महत्या कर रही है और यही जवाब 2011 में पिछली सरकार ने दिया था | तो कुल मिलाकर यह आती है की प्रति दिन 35 मौत पर किसी भी सरकार का कोई ध्यान नहीं है |

ज्यादा फसल का उत्पादन करने से ज्यादा किसान को मुनाफा नहीं होगा | बल्कि कम फसल की उत्पादन पर किसान को ज्यादा मुनाफा होगा | एक तो लागत में कमी होगी साथ ही आमदनी भी ज्यदा होगी | किसान भाई आपनी खरीफ फसल की बुवाई फसल का बाजार मूल्य देखकर करें तो जायदा अच्छा रहेगा |

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर