बत्तख पालन को एक रोजगार के रूप में क्यों देखा जा रहा है

0
1871

बत्तख पालन को एक रोजगार के रूप में क्यों देखा जा रहा है

पहले घरों में अंडे के लिए पाले जाने वाले इस जीव के पालन को अब रोज़गार के रूप में देखा जा रहा है। पिछले दिनों से बत्तखों को घरों में विशेष रूप से पाला जा रहा है जो काफी फायदा भी देता है |

बत्तख पालन से होने वाले लाभ

भारत में बड़ी संख्या में बत्तख पाली जाती हैं। बत्तखों के अण्डे एवं मांस लोग बहुत पसंद करते हैं, अतः बत्तख पालन व्यवसाय की हमारे देश में बड़ी संभावनाएँ हैं। बत्तख पालने के निम्नलिखित लाभ हैं-

  1. उन्नत नस्ल की बत्तख 300 से अधिक अण्डे एक साल में देती हैं।
  2. बत्तख के अण्डा का वजन 65 से 70 ग्राम होता है।
  3. बत्तख अधिक रेशेदार आहार पचा सकती हैँ। साथ ही पानी में रहना पसंद होने से बहुत से जलचर जैसे–घोंघा वगैरह खाकर भी आहार की पूर्ति करते हैं। अतः बत्तखों के खान-पान पर अपेक्षाकृत कम खर्च करना पड़ता है ।
  4. बत्तख दूसरे एवं तीसरे साल में भी काफी अण्ड़े देती रहती हैँ। अतः व्यवसायिक दृष्टि से बत्तखों की उत्पादक अवधि अधिक होती है।
  5. मुर्गियों की अपेक्षा बत्तखों की उत्पादक अवधि अधिक होती है।
  6. मुर्गियों की अपेक्षा बत्तखों में कम बीमारियाँ होती हैं।
  7. बहता हुआ पानी बत्तखों के लिए काफी उपयुक्त होता है, किन्तु अन्य पानी के स्त्रोत वगैरह में भी बत्तख पालन अच्छी तरह किया जा सकता है।
यह भी पढ़ें   भैंसों से दुग्ध उत्पादन किस प्रकार बढ़ाएं एवं कम करें ब्याने की उम्र

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here