प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत किसान नि:शुल्क कृषि यंत्रों का प्रशिक्षण यहाँ से प्राप्त करें

1
6659
views

कौशल विकास प्रशिक्षण योजना कार्यक्रम किसानों के लिए

किसान प्रशिक्षण केंद्र योजना

नौजवानों को रोजगार उपलब्ध कराने तथा कृषि यंत्र का स्वयं से सुधारने के लिए केंद्र सरकार के द्वारा चलाई जा रही योजना प्रधानमंत्री कौशल विकास से जोड़ा गया है | इसके तहत देश के सभी राज्यों में राज्य सरकार के द्वारा प्रशिक्षण केंद्र खोला गया है | इसी के तहत मध्य प्रदेश में 5 केंद्र खोले गए हैं | इन केन्द्रों से प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले युवा को भारत सरकार का  दिया जायेगा , जिसकी मान्यता संपूर्ण भारत में हैं | इस प्रशिक्षण केन्द्रों पर ट्रेक्टर, हार्वेस्टर एवं सभी तरह के कृषि यंत्रों के रख – रखाव, तथा संचालन संबंधित के साथ साथ मरम्मत करना भी शामिल है | सबसे बड़ी बात यह है की इसके प्रमाण्पत्र के आधार पर स्व – रोजगार के लिए बैंक से लोन भी प्राप्त कर सकते हैं | इसकी पूरी जानकारी किसान समाधान लेकर आया है |

प्रशिक्षण किन यंत्रों का दिया जायेगा ?

प्रशिक्षण सभी तरह के कृषि यंत्रों का दिया जायेगा | इसके लिए अलग – अलग जिलों में केंद्र खोले गये है | सभी तरह के कृषि यंत्र को दो भागों में बाटा  गया है जी इस प्रकार है :-

  1. क्युपी – एजी आर / क्यू 1108 – ट्रेक्टर एवं कृषि यंत्रों की सामान्य सर्विसिंग, मरम्मत एवं संचालन
  2. क्युपी – एजीआर / क्यू 1102 – कम्बाईन हार्वेस्टर की सामान्य सर्विसिंग एवं संचालन

प्रशिक्षण के लिए योगता क्या चाहिए ?

  • मध्य प्रदेश के कोई भी व्यक्ति इसका लाभ प्राप्त कर सकता है कोई खास योग्यता की जरूरत नहीं है लेकिन दो योग्यता जरुरी है |
  • अभ्यार्थी की उम्र 18 वर्ष से ज्यादा हो
  • अभ्यार्थी कम से कम 10 वीं तक पढ़ा होना चाहिए |
  • प्रशिक्ष्ण कितने दिन का रहेगा ?
  • सभी तरह के कृषि यंत्रों का प्रशिक्षण के लिए समय निर्धारित है यह 200 घण्टों का रहेगा |
यह भी पढ़ें   देश के इन सभी जिलों में तेज आंधी के साथ बारिश की सम्भावना

प्रशिक्षण कहाँ दिया जायेगा ?

  • प्रशिक्षण देने का स्थान उस कृषि यंत्र पर निर्भर है | सभी तरह के कृषि यंत्र को दो भागों में बता गया है | इन सभी का प्रशिक्षण इन सभी केन्द्रों पर दिया जायेगा |
  • क्युपी – एजी आर / क्यू 1108 – ट्रेक्टर एवं कृषि यंत्रों की सामान्य सर्विसिंग, मरम्मत एवं संचालन :- इन सभी यंत्रों का प्रशिक्षण भोपाल, ग्वालियर, सतना, जबलपुर, एवं सागर केन्द्रों पर उपलब्ध है |
  • क्युपी – एजीआर / क्यू 1102 – कम्बाईन हार्वेस्टर की सामान्य सर्विसिंग एवं संचालन :- इस कृषि यंत्र का प्रशिक्षण केवल भोपाल प्रशिक्षण केंद्र पर दिया जायेगा |

सभी प्रशिक्षण केन्द्रों का पता क्या है ?

मध्य प्रदेश में अभी 5 कृषि अभियांत्रिक कर्मशाला है | इसका पता तथा फोन नंबर इस प्रकार है |

क्र.सं.
केंद्र
दूरभाष

1.

संभागीय कृषि अभियांत्रिकी कर्मशाला बडवई, नई जेल रोड, (भोपाल)

0755 – 2736200

2.

संभागीय कृषि अभियांत्रिकी कर्मशाला, मेला ग्राउंड के सामने, ग्वालियर

0751 – 2364595

3.

संभागीय कृषि अभियांत्रिकी कर्मशाला , सिविल लाईन, पन्ना नाका , सतना

07672 – 222223

4.

संभागीय कृषि अभियांत्रिकी कर्मशाला, संजय नगर, आधारताला , जबलपुर

0761 – 2680928

5.

संभागीय कृषि अभियांत्रिकी कर्मशाला, तहसील के पास, बरिया, तिराहा, सागर

07574 – 227254

यह भी पढ़ें   आज से मिट्टी एवं जल की जांच के साथ आधुनिक कृषि यंत्र प्रशिक्षण के लिए कृषि मेला

प्रशिक्षण कौन देगा ?

प्रशिक्षण हेतु ट्रेक्टर निर्माता कंपनियों महिंद्रा एंड महिंद्रा, जान डियर, सी.एन.एच.प्रा.लि. से तकनीकी प्रशिक्षण दिए जाने का अनुबंध भी किया गया है |

प्रशिक्षण आवेदन कैसे करें ?

  1. ग्रामीण युवा अपने निकट के कौशल विकास केंद्र में दो तरीके से कौशल विकास प्रशिक्षण हेतु पंजीयन करा सकते हैं
  2. स्वयं के जिले के ग्रामीण आजीविका मिशन कार्यालय में इस हेतु पंजीयन करा सकते हैं | इस तरह से पंजीकृत ग्रामीण युवाओं की सामान्य परीक्षण उपरान्त प्रशिक्ष्ण हेतु लिया जाता है |
  3. निकट के कौशल विकास केंद्र में कृषि यंत्री कार्यालय में साधारण कागज पर अपना आवेदन प्रस्तुत कर सकते हैं | आगामी प्रशिक्षण प्रारंभ होने के समय कृषि यंत्री कार्यालय द्वारा सभी आवेदनों का सामन्य परिक्षण किया जाकर आवेदकों को प्रशिक्षण में शामिल कर लिया जाता है |
  4. कौशल विकास प्रशिक्षण प्राप्त करने के उपरान्त प्रमाण – पत्र प्राप्त करने के लिए प्रत्येक प्रशिक्षनार्थी की एक परीक्षा उत्तीर्ण करनी होती है जो वाह्य संस्था द्वारा आयोजित की जाती है | उत्तीर्ण प्रशिक्षनार्थी को भारत सरकार द्वारा प्रमाण – पत्र प्रदान किया जाता है |

प्रशिक्षण शुल्क :-

  • प्रशिक्षण पूर्णत: नि:शुल्क है |
  • प्रशिक्षणार्थी के रहने , भोजन, परीक्षा शुल्क आदि पर होने वाला संपूर्ण व्यय शासन द्वारा वहन किया जाता है |

इस तरह की ताजा जानकरी विडियो के माध्यम से पाने के लिए किसान समाधान को YouTube पर Subscribe करें

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here