back to top
सोमवार, अप्रैल 15, 2024
होमकिसान समाचारराजस्थान में किसान कब,कहाँ एवं कैसे समर्थन मूल्य पर बेच सकेगें...

राजस्थान में किसान कब,कहाँ एवं कैसे समर्थन मूल्य पर बेच सकेगें अपनी फसल

राजस्थान में किसान कब एवं कहाँ समर्थन मूल्य पर बेच सकेगें अपनी फसल

राजफैड 14 मार्च से कोटा संभाग के 20 केन्द्रों पर सरसों एवं 21 मार्च से 13 केन्द्रों पर चना की समर्थन मूल्य पर खरीद प्रक्रिया प्रारम्भ करेगा तथा 4 अप्रेल से अन्य संभागों में सरसों एवं चने की राजफैड खरीद प्रारम्भ कर देगा। यह जानकारी बुधवार को सहकारिता मंत्री श्री अजय सिंह किलक ने दी।

श्री किलक ने बताया किसानों को अपनी उपज बेचने में किसी प्रकार की असुविधा नहीं हो इसके लिए प्रदेश में मूंग, मूंगफली, उड़द एवं सोयाबीन की खरीद की भांति ऑनलाईन पंजीकरण की व्यवस्था की है। उन्होंने बताया कि किसान ऑनलाईन पंजीकरण- मित्र एवं खरीद केन्द्रों(केवीएसएस) के माध्यम से करा सकता है। -मित्र से पंजीकरण कराने पर किसान को 21 रुपये तथा क्रय-विक्रय सहकारी समिति के खरीद केन्द्र पर पंजीकरण कराने के लिए किसान को 10 रुपये का भुगतान करना होगा।

आवश्यक दस्तावेज

ऑनलाईन पंजीकरण के दौरान भामाशाह कार्ड नम्बर एवं खसरा गिरदावरी देनी होगी। उन्होंने बताया कि पंजीकरण होते ही किसान को एसएमएस द्वारा मोबाइल पर उपज की मात्रा एवं खरीद दिवस की सूचना दी जाएगी।

यह भी पढ़ें   अब तक 11 हजार से अधिक कृषि कार्य करते हुए दुर्घटना का शिकार हुए किसानों को दिया गया मुआवजा

किसानों को उनकी सरसों एवं चने की उपज का तत्काल भुगतान सुनिश्चित करने के लिए इस बजट में राजफैड को 500 करोड़ रुपए का ब्याज मुक्त ऋण उपलब्ध कराने का प्रावधान किया है। उन्होंने बताया कि इस बार किसान को उपज का भुगतान सीधे ही उसके खाते में किया जाएगा।

खरीद के दौरान कई बार ऑफलाईन पंजीकरण से जुड़ी अव्यवस्थाओं की वजह से किसान को परेशानी का सामना करना पड़ता है, इसमें सुधार करते हुए पहली बार ऑनलाईन पंजीकरण की व्यवस्था प्रारम्भ की है।  राज्य में सरसों खरीद के लिए 173 केन्द्र तथा चना खरीद के लिए 113 केन्द्र बनाए गए हैं।

सहकारिता मंत्री ने बताया कि वर्ष 2018-19 के लिए सरसों के लिए 4000 रुपए तथा चना के लिए 4400 रुपए प्रति क्विटल समर्थन मूल्य बोनस के साथ घोषित किया है। उन्होंने बताया कि किसानों को अपनी उपज बेचने में किसी प्रकार की परेशानी न हो इसके लिए खरीद केन्द्रों पर आवश्यकतानुसार कांटों की संख्या बढ़ा जाएगी एवं पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध कराया जाएगा।

यह भी पढ़ें   बकरी पालन के लिए यहाँ दिया जाएगा प्रशिक्षण, बकरी पालन शुरू करने के लिए मिलेगी सभी जानकारी

अधिक जानकरी के लिए यह भी पढ़ें

सहकार फसल खरीद मित्र योजना लागू

अब ऑनलाइन पंजीयन करवाकर सीधे ही खरीद केंद्र पर अपनी उपज बेच सकेगें किसान

राजस्थान में ऋण माफ़ी योजना लागू

37 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबरें

डाउनलोड एप