Thursday, December 1, 2022

गेहूं में सिंचाई तथा उर्वरक (खाद) का प्रयोग कब एवं कैसे करें ?

Must Read

गेहूं में सिंचाई तथा उर्वरक (खाद)

गेंहू की खेती में दो सबसे महत्वपूर्ण है सिंचाई तथा रोग नियंत्रण | अक्सर किसान को सही जानकारी नहीं रहने के कारण गेंहू की सिंचाई सही समय पर नहीं हो पाता है | गेंहू में उचित समय पर सिंचाई नहीं रहने के कारण उत्पादन पर असर पड़ता है | इसी तरह गेंहू की फसल में उर्वरक का काफी महत्व है | उर्वरक देना ही मत्वपूर्ण नहीं है बल्कि सही समय पर और सही मात्र में उर्वरक देने से पौधों का च्छ विकास होता है तथा उत्पादन अधिक होता है | इन सभी बातों का ध्यान रखते हुये किसान समाधान आप सभी के लिए गेहूं की सिंचाई तथा उर्वरक की मात्र का सही जानकारी लेकर आया है |

सिंचाई :-

किसान भाई आप के क्षेत्र में पानी की समस्या है तो सिंचाए के लिए स्प्रिंकल का प्रयोग करें | इससे समय तथा पानी दोनों की बचत होती है | गेंहू की फसल के लिए 3 से 4 सिंचाई देने की जरुरत है

  1. पहली सिंचाई 30 से 35 दिनों बाद दें |
  2. दूसरी सिंचाई फुल निकालने के बाद दें | यानि 40 से 45 दिनों बाद दें |दूसरी सिंचाई फूल से दना बनने के जरुरी है |
  3. तीसरी सिंचाई गेंहू में पूरी तरह से बाली (कल्ले) निकलने के बाद जिस समय दाना बन रहा है | इस समय पानी देने से दाने बड़े तथा वजनी होते हैं | दूसरी तथा तीसरा पानी बहुत ही जरुरी है |
  4. चौथी सिंचाई तीसरी सिंचाई के 15 दिन बाद करें | अगर पानी की समस्या है तो नहीं भी करेगे तो भी हो जायेगा | लेकिन चौथी सिंचाई करने से उत्पादन बढ़ जाता है |
यह भी पढ़ें   इस वर्ष अधिक पैदावार के लिए किसान इस तरह करें मटर की इन उन्नत किस्मों की बुआई
- Advertisement -

एक बात और ध्यान रखना चाहिए की विश्वविध्यालय से विकसित नयी किस्मों में 5 से 6 सिंचाई करने की आवश्यकता नहीं है |

उर्वरक का प्रयोग :-

किसान भाई उर्वरक का प्रयोग मिट्टी पर निर्भर है | इस लिए मिट्टी का परीक्षण जरुर करा ले | यह बिलकुल फ्री है | परिक्षण के आधार पर नत्रजन (नाइट्रोजन), फास्फोरस एवं पोटाश की मात्र का निर्धारण करना चाहिए | गेंहू की खेती के लिए 3 साल के अंतराल पर 25 किलोग्राम जिंक सल्फेट का प्रयोग बुवाई से पहले करना चाहिए |

असिंचित गेंहू में 40 किलोग्राम / हेक्टयर नत्रजन, 20 किलोग्राम / हेक्टयर फास्फोरस का प्रयोग करना चाहिए | वहीँ सिंचित गेंहू में 120 किलोग्राम / हेक्टयर नत्रजन , 60 किलोग्राम / हेक्टयर फास्फोरस. 30 किलोग्राम / हेक्टयर पोटास का प्रयोग करना चाहिए |

किसान समाधान के Youtube चेनल को सब्सक्राइब करने के लिए नीचे दिए गए बटन को दबाएँ

- Advertisement -

4 COMMENTS

    • उत्तर प्रदेश में बोरिंग योजना की जानकारी के लिए दी गई लिंक पर देखें | या पाने यहाँ के सिंचाई विभाग में सम्पर्क करें |https://kisansamadhan.com/%e0%a4%89%e0%a4%a4%e0%a5%8d%e0%a4%a4%e0%a4%b0%e0%a4%aa%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%a6%e0%a5%87%e0%a4%b6-%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%83%e0%a4%b6%e0%a5%81%e0%a4%b2%e0%a5%8d%e0%a4%95-%e0%a4%ac%e0%a5%8b%e0%a4%b0/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

3 लाख से अधिक नए किसानों को दिया जायेगा ब्याज मुक्त फसली ऋण

ब्याज मुक्त फसली ऋण का वितरणकृषि के क्षेत्र में निवेश के लिए केंद्र तथा राज्य सरकारें किसानों को सस्ता...

More Articles Like This

ऐप खोलें