50 प्रतिशत बिना चमक के गेहूं भी समर्थन मूल्य पर ख़रीदे जाएंगे

1013
gehun kharid

समर्थन मूल्य पर गेहूं खेरीद

बारिश एवं ओलावृष्टि प्रभावित जिलों में 25 अप्रेल से पुनः गेहूं खरीद शुरू हो जायेगी। यह जानकारी बुधवार को खाद्य सचिव श्रीमती मुग्धा सिंन्हा ने दी। उन्होंने बताया कि हाल ही में प्रदेश में बेमौसम बारिश एवं ओलावृष्टि से किसानों की गेहूं की उपज एवं फसल को नुकसान हुआ था, जिसके कारण गेहूं की चमक फीकी हो गई थी। केन्द्र सरकार ने राज्य में किसानों से समर्थन मूल्य पर हो रही गेहूं खरीद के मापदण्डों में छूट प्रदान करते हुए फिलहाल 50 प्रतिशत तक चमकहीन गेहूं खरीदनें की अनुमति प्रदान कर दी है।

भारत सरकार द्वारा समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीद के निर्धारित मापदण्डों के तहत चमकहीन गेहूं नहीं खरीदा जा सकता है। किसानों की समस्या को देखते हुए फसल पर गुणात्मक एवं मात्रात्मक क्षति से भारत सरकार को अवगत कराया गया था और उसमें निर्धारित गुणवत्ता मापदण्ड में गेहूं की चमक को हटाने या अधिकतम रियायत प्रदान करने की अनुमति देने का आग्रह किया गया था। भारत सरकार से 50 प्रतिशत से अधिक चमकहीन हुए गेहूं की खरीद की अनुमति के लिए भी प्रयास किये जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें   इन सभी किसानों को नहीं मिलेगा PM-Kisan योजना के तहत 6,000 रुपए का लाभ

बेमौसम बारिश से मुख्य रूप से हनुमानगढ़, श्रीगंगानगर, कोटा, बारां एवं बून्दी जिलों में गेहूं की फसल प्रभावित हुई थी। 15 मार्च से कोटा संभाग में तथा 1 अप्रेल से अन्य संभागों में किसानों से समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीद की जा रही हैं। प्रदेश में गेहूं की खरीद भारतीय खाद्य निगम एवं राजफैड़ द्वारा स्थापित किये गये केन्द्रों पर हो रही है।

पिछला लेखगन्ने की खेती करने वाले किसान गन्ना लगाने से कटाई तक कब क्या करें
अगला लेखइन किसानों को किया गया गेहूं चना एवं सरसों खरीद का भुगतान

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.