अभी तक राज्य में मात्र 5 हजार किसानों से ही खरीदा गया समर्थन मूल्य पर गेहूं

समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी

समर्थन मूल्य पर रबी फसलों की खरीदी का अंतिम दौर चल रहा है, ऐसे में जो किसान अपनी फसलों को समय पर नहीं बेच पायें हैं वह किसान जल्द से जल्द अपनी उपज समय पर बेचना चाहते हैं | जहाँ कुछ राज्यों में रबी फसल की खरीदी का लक्ष्य पूर्ण होने वाला हैं वहीँ बिहार राज्य अभी काफी पीछे रह गया है | बिहार में 20 अप्रैल से राज्य में गेहू, चना, मसूर की खरीदी शुरू की गई थी | राज्य में 15 मई तक गेहूं की खरीदी किया जाना था लेकिन राज्य के मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई समीक्षा बैठक के बाद खरीदी का समय बढ़ाकर 31 मई कर दिया है |

राज्य में गेहूं खरीदी की बात की जाए तो यह लक्ष्य का 10 प्रतिशत भी पूरा नहीं करता है | राज्य सरकार ने जितना खरीदी का लक्ष्य रखा था उतने किसानों ने गेहूं बेचने के लिए पंजीयन भी नहीं करायें हैं और रही बात खरीदी केंद्र की तो वह भी सरकार के द्वारा बताये गये लक्ष्य से काफी कम है |

गेहूं खरीदी में लक्ष्य से काफी पीछे है खरीदी

- Advertisement -
- Advertisement -

राज्य में गेहूं की खरीदी सभी 38 जिलों में चल रही है | बिहार सरकार की सहकारिता विभाग की वेबसाईट के अनुसार राज्य में 21/05/2021 तक 5,038 किसानों से 25310.79 मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी किया गया | राज्य में गेहूं खरीदी का 1 माह पूरा हो गया है लेकिन गेहूं खरीदी कुल लक्ष्य का लगभग 3 प्रतिशत पूरा हुआ है |   

राज्य में गेहूं खरीदी का लक्ष्य 7 लाख मैट्रिक टन का था लेकिन राज्य के कुल 28,925 किसानों के द्वारा 133507.65 मैट्रिक टन गेहूं बेचने के लिए पंजीयन कराया है | ऐसे में जिन किसानों ने अभी तक गेहूं बेचने के लिए पंजीकरण नहीं करवाया है वह पंजीयन करवा सकते हैं |gehu bechne ke liye kisan

सरकार ने गेहूं खरीदी के लिए रखा था 7 लाख टन का लक्ष्य

राज्य में गेहूं खरीदी की शुरुआत में लक्ष्य 1 लाख टन का रखा गया था लेकिन मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक में गेहूं उपार्जन का लक्ष्य बढ़ाकर 7 लाख टन कर दिया गया था | यह सभी गेहूं केंद्र सरकार द्वारा घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य (1975 रूपये प्रति क्विंटल) पर किया जाना था |

गेहूं खरीदी केन्द्रों में लक्ष्य के अनुसार काफी कमी है

राज्य सरकार के कृषि मंत्री के तरफ से यह बताया गया था की 20 अप्रैल से राज्य में होने वाले गेहूं खरीदी के लिए 6400 खरीदी केंद्र स्थापित किये गये हैं लेकिन एक माह से राज्य में गेहूं की खरीदी चल रही है | यह खरीदी राज्य के 38 जिलों के 5097 केन्द्रों पर ही की जा रही है |

एक किसान अधिकतम 150 क्विंटल गेहूं बेच सकता है

राज्य में गेहूं रैयत तथा गैर रैयत किसान दोनों बेच सकते हैं | सरकार को रैयत किसान अधिकतम 150 क्विंटल गेहू बेच सकते हैं तथा गैर रैयत किसान अधिकतम 50 क्विंटल गेहूं बेच सकते हैं | गैर रैयत के अंतर्गत लीज पर भूमि लेकर खेती करने वाले किसान, बटाई पर खेती करने वाले किसान को शामिल किया गया है |

- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

217,837FansLike
823FollowersFollow
54,000SubscribersSubscribe

Latest Articles

ऐप खोलें