विडियो:1 सीजन में फूलों की खेती कर रहे किसानों की आय सुन कर चौक जाएंगे आप

0
1485
views

फूलों की खेती कर रहे किसानों का दावा होती है इतनी कमाई

भारत में अधिकांश किसानों के पास बहुत कम जमीन बहुत कम हैं, कम क्षेत्र में भूमि करने वाले किसान खुद के लिए आनाज भी बहुत कम मात्रा में उपजा पाते हैं इतना ही नहीं वह खुद के गुजारे के लिए भी उत्पादन नहीं कर पाते हैं | अक्सर किसान सवाल करते हैं ऐसी कौन सी खेती करें जिससे आय अधिक हो ऐसे किसान इन फूलों की खेती कर रहे किसानों से सीख सकते हैं किस तरह कम क्षेत्र में भी लाखों रुपये की कमाई कर खेती को लाभ का धंधा बनाया जा सकता है | विडियो में जाने कैसे यह किसान नौरंगा, गेंदा एवं डेज़ी जैसे फूलों की खेती कर लाखों रुपये कमा रहें हैं | किसान भाई पूरा विडियो देखें और समझे इन किसानों से फूलों की खेती का पूरा गणित | अधिक हवा के कारण कई बार विडियो में आवाज में दिक्कत है पर आप नीचे कमेंट में सवाल पूछ सकते हैं  | इस तरह के और विडियो के माध्यम से जानकारी पाने के लिए विडियो के नीचे दिए गए सब्सक्राइब बटन को दवाएं |

यह भी पढ़ें   किसानों को 50,000 रुपये में सोलर पम्प दिया जा रहा है
फूलों की खेती कर रहे किसानों का दावा

किसान समाधान के YouTube चेनल को सब्सक्राइब करें और सबसे पहले देखें हमारे द्वारा बनाये गए सभी विडियो

सागर जिले के जैसीनगर ब्लाक में चैनपुरा ग्राम के यह किसान कई वर्षों से फूलों की खेती कर रहे हैं और अच्छी आय अर्जित कर रहें हैं | जैसीनगर ब्लॉक के S.H.D.O आर.के.मिश्रा . ने बताया की इन किसानों को पुष्प क्षेत्र विस्तार योजना के अंतर्गत किसानों को मुफ्त में गेंदे के बीज भी उपलब्ध कराये गए हैं जिससे लागत में कमी आई है और किसानों को फूलों की खेती करने के लिए प्रोत्साहन भी मिला है |

फूलों की खेती का गणित 

खेती कर रहे इन किसानों में किसान देवी सिंग अखिल भारतीय गुलाब प्रदर्शनी में द्वितीय पुरुस्कार भी जीत चुके हैं उनका कहना है की वह जमना गलार्दिया/नौरंगा आधे एकड़ में लगते हैं जिससे उन्हें 4000 रुपये अआती है जिसमें वह 2000 रुपये के बीज लेते हैं बाकी अन्य २,000 रूपये का खर्च DAP खाद पर करते हैं  |इसके आलावा वह गोबर खाद का प्रयोग करते हैं | जिससे उन्हें 6 महीनों तक फूलों की उपज प्राप्त होती है जिसे वह रोजाना बेच कर आय प्राप्त करते हैं आवर उन्हें इससे 1 सीजन में लगभग 3 लाख रूपये की आय प्राप्त होती है

यह भी पढ़ें   गन्ने की फसल में देशी विधि से खरपतवार नियंत्रण करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here