सरकार ने शुरू की टाल विकास योजना

0
1130

सरकार ने शुरू की टाल विकास योजना

रबी फसल की बुआई शुरू हो गयी है | इस वर्ष रबी फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य पिछले वर्ष के मुकाबले ज्यादा मिल रहा है | इसलिए किसानों में उत्साह बना हुआ है | रबी की पैदावार बढ़ाने के लिए सरकार हर सम्भव कोशिश कर रही है | क्योंकि भारत को जितनी दलहन की जरूरत है उतनी पैदावार नहीं हो पाती है | जिसके कारण भारत सरकार को दलहन का आयत करना पड़ता है | इसलिए सरकार ने टाल विकास योजना की शुरुआत की है |

योजना क्षेत्र

बिहार सरकार ने टाल क्षेत्र के 6 जिलों पटना, नालन्दा, भागलपुर, मुंगेर, लखीसराय एवं शेखपुरा के लिए विशेष पैकेज की घोषणा की है | यह टाल क्षेत्र मुख्यत: मसूर की खेती के लिए प्रसिद्ध है | यह क्षेत्र 137481.96 हेक्टयर में फैला हुआ है | इतने बड़े भू-भाग को ध्यान में रखते हुये बिहार सरकार ने वर्ष 2018 – 19 में टाल विकास योजना कि शुरुआत किया है |

यह भी पढ़ें   छत्तीसगढ़ कर्ज माफ़ी हेतु दिशा निर्देश

योजना क्या है 

इस योजना के लिए बिहार सरकार ने 89,88,444 रुपया आवंटित किया है | टाल क्षेत्र का आकार कटोरीनुमा होने के कारण बाढ़ अथवा वर्षा का पानी इस क्षेत्र से धीरे – धीरे निकल पाता है | साथ ही, इस क्षेत्र के किसानों को सितम्बर – अक्टूबर माह में खरपतवार जैसे मोठा, बड़ी दुधि, छोटी दुधि, हजार, अमरबेल की व्यापक समस्या का सामना करना पड़ता है | इसलिए इन खरपतवारों पर प्रारम्भिक अवस्था में ही नियंत्रण करना अनिवार्य है |

सरकार ने इसके लिए विभिन्न खरपतवारनाशी दवाओं के मूल्य का 50 प्रतिशत अधिकतम 500 रूपये प्रति हेक्टयर की दर से अनुदान उपलब्ध कराया जायेगा | इसके अलावा टाल क्षेत्र में दलहनी फसलों में प्राय: उखड़ा रोग एवं जाला कीट, फलीछेदक कीट से किसानों को काफी नुकसान होने की संभावना बनी रहती है , इनके समुचित प्रबंधन के लिए फफूंदनाशी एवं कीटनाशी दवाओं का 50 प्रतिशत अनुदान अधिकतम 500 रूपये प्रति हेक्टयर की दर से कृषकों को उपलब्ध कराया जायेगा | साथ ही इन क्षेत्रों के किसानों को जागरूक करने के लिए पर्याप्त संख्या में कृषक प्रक्षेप पाठशाला का भी आयोजन किया जायेगा | सभी कार्यों में जैविक कीटनाशक के प्रयोग को प्रोत्साहित किया जायेगा |

यह भी पढ़ें   बांस मिशन योजना के तहत राज्य के 4,000 हेक्टेयर क्षेत्र में लगाये जाएंगे बांस

इस योजना का मुख्य उद्देश्य यह है की सरकार किसानों को लागत कम करना तथा आमदनी बढ़ाना है | जिससे किसान खुशाल रह सके | इसका एक उद्देश यह भी है की दलहन की जरूरत को पूरा किया जा सके|

दियारा विकास योजना

Previous articleराजस्थान किसानों को 10,000 रुपये तक की बिजली फ्री मिलेगी
Next articleयह जाने बिना रबी फसल का बीमा न करवाएं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here