आज पशुपालकों को किया जाएगा गोबर खरीदी का 1 करोड़ 65 लाख रूपये का भुगतान

0
2762
gobar kharidi ka bhugtan

पशुपालकों को गोबर खरीदी का भुगतान

लॉक डाउन में पशुपालकों को बहुत नुकसान उठाना पड़ा है, देश में डेयरी प्रोडक्ट की विक्री कम होने के चलते पशुपालकों को दूध के दाम काफी कम मिल रहे हैं | दूध के दाम बढ़ाने को लेकर महाराष्ट्र के किसान विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं | पशुपालको एवं किसानों की आय को बढ़ाने के लिए छत्तीसगढ़ राज्य सरकार द्वारा अलग प्रकार की योजना कि शुरुआत की गई है जिससे किसानों को न सिर्फ गोबर के दाम मिलेंगे बल्कि कम दरों पर कम्पोस्ट खाद भी प्राप्त होगी | राज्य सरकार द्वारा 20 जुलाई से शुरू की गई गोधन न्याय योजना के तहत किसानों एवं पशुपालकों से गोबर खरीदी प्रक्रिया शुरू की गई है |  

इस योजना के अंतर्गत राज्य के पशुपालकों से 2 रूपये प्रति किलोग्राम कि दर से गोबर की खरीदी की जा रहा है | ख़रीदे गए गोबर से वर्मी कम्पोस्ट खाद तैयार की जा रही है | राज्य के किसानों को यह खाद कम दरों पर बेचीं जाएगी | इस बहुआयामी योजना से जहाँ पशुपालकों को आर्थिक लाभ प्राप्त हो रहा है वहीं प्रदेश में जैविक खेती को बढ़ावा भी मिलेगा | 20 जुलाई से 1 अगस्त तक खरीदे गये गोबर कि राशि का भुगतान 5 अगस्त को किया जायेगा | इस दिन प्रदेश के मुख्यमंत्री वीडियों कांफ्रेंसिंग के जरिए गोधन न्याय योजना के हितग्राहियों से चर्चा करेंगे | इसके बाद गोधन न्याय योजना कि पहली किश्त की राशि का भुगतान किया जायेगा |

यह भी पढ़ें   इस वर्ष सामान्य से ज्यादा होगी बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया मॉनसून वर्षा का दीर्घावधि पूर्वानुमान

1 करोड़ 65 लाख रूपये का गोबर खरीदी भुगतान

मुख्यमंत्री श्री बघेल गोधन न्याय योजना के तहत 20 जुलाई से 1 अगस्त तक गोबर खरीदी की पहली किश्त की राशि 5 अगस्त को सहकारी बैंक के माध्यम से हितग्राहियों के खाते में अंतरित करेंगे | राज्य में कुल 4,140 गौठानों में पंजीकृत 65 हजार 694 हितग्राहियों में से 46 हजार 964 हितग्राहियों द्वारा 82 हजार 711 क्विंटल गोबर का विक्रय किया गया, जिसकी कुल राशी 2 रूपये प्रति किलोग्राम की दर से 1 करोड़ 65 लाख रूपये पशुपलोकों के बैंक खातों में हस्तांतरित कि जायेगी |

इस योजना का लाभ प्रदेश के अंतिम छोर के पशुपालकों तक पहुंचाया जा रहा है | जिसमें 38 प्रतिशत महिला हितग्राही, 48 प्रतिशत अन्य पिछड़ा वर्ग, 39 प्रतिशत अनुसूचित जनजाति, 8 प्रतिशत अनुसूचित जाती एवं 5 प्रतिशत सामान्य वर्ग के हितग्राही हैं |

इन जिलों में हुई सबसे अधिक गोबर की खरीद

गोधन न्याय योजना राज्य के सभी जिलों में लाहू की गई है | इसके बावजूद भी राज्य के कुछ जिले इसमें अग्रिम भूमिका निभा रहे हैं | इस योजना के अंतर्गत राज्य के रायपुर, दुर्ग, राजनांदगाँव, धमतरी और बालोद जिलों में सबसे अधिक गोबर क्रय किया गया है | इसी प्रकार नगरीय क्षेत्रों में रायपुर एवं दुर्ग के पशुपालकों ने सबसे ज्यादा गोबर बेचा है  |

यह भी पढ़ें   अभी भी बारिश एवं ओले इन जगहों की फसलें कर सकते हैं बर्बाद

आगामी भुगतान 15 अगस्त को किया जायेगा

गोबर खरीदी की पहली किश्त की राशि 5 अगस्त को सहकारी बैंक के माध्यम से हितग्राहियों के खाते में अंतरित की जाएगी इसके बाद गोबर खरीदी का आगामी भुगतान 15 अगस्त को किया जाएगा।

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here