back to top
सोमवार, मई 27, 2024
होमकिसान समाचारसरकार ने मुआवजे में की वृद्धि, अब 2 हेक्टेयर तक भूमि...

सरकार ने मुआवजे में की वृद्धि, अब 2 हेक्टेयर तक भूमि जोत वाले किसानों को फसल नुकसान होने पर दिया जाएगा इतना मुआवजा

फसल नुकसान हेतु मुआवजा

जलवायु परिवर्तन के साथ ही कृषि में भी जोखिम बढ़ता जा रहा है, लगातार हो रही प्राकृतिक आपदाओं जैसे बाढ़, सूखा, बेमौसम बारिश, ओला वृष्टि एवं आंधी तूफ़ान के चलते किसानों को फसलों को काफी नुकसान होने लगा है। ऐसे में किसानों को प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले इस नुकसान की भरपाई सरकार द्वारा की जाती है। इस कड़ी में मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य में सिंचित, असिंचित एवं भूमि जोत के आधार पर कृषकों को दिए जाने वाले मुआवजे की राशि में वृद्धि कर दी है। 

मंगलवार 25 अप्रैल 2023 के दिन मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंत्रालय में हुई मंत्रि-परिषद की बैठक में यह निर्णय लिया गया है। मंत्रि-परिषद द्वारा राजस्व पुस्तक परिपत्र खण्ड छ: क्रमांक 4 में वर्तमान में प्राकृतिक आपदा से फसल क्षति हेतु परिशिष्ट-1 (एक) (क) की तालिका के अनुक्रमांक 01 एवं 02 में संशोधन का अनुसमर्थन किया गया। 

असिंचित भूमि के लिए कितना मुआवजा दिया जाएगा

मंत्री मंडल की इस मंजूरी के बाद राज्य में लघु एवं सीमांत 0 से 2 हेक्टेयर तक कृषि भूमि धारित करने वाले कृषक/खातेदार को वर्षा आधारित फसल के लिए 25 से 33 प्रतिशत फसल क्षति होने पर प्रति हेक्टेयर 5 हजार 500 रूपये, 33 से 50 प्रतिशत फसल क्षति होने पर प्रति हेक्टेयर 8 हजार 500 रूपये, 50 प्रतिशत से अधिक फसल क्षति होने पर प्रति हेक्टेयर 17 हजार रूपये का मुआवजा दिया जाएगा। 

यह भी पढ़ें   किसान यहाँ से ऑनलाइन खरीद सकते हैं मूंग की इन दो उन्नत किस्मों के प्रमाणित बीज 

सिंचित भूमि के लिए कितना मुआवजा दिया जाएगा

वहीं सिंचित क्षेत्र वाले लघु एवं सीमांत किसान को प्रति हेक्टेयर 25 से 33 प्रतिशत फसल क्षति होने पर 9 हजार 500 रूपये, 33 से 50 प्रतिशत फसल क्षति होने पर 16 हजार रूपये, 50 प्रतिशत से अधिक फसल क्षति होने पर 32 हजार 500 रूपये का मुआवजा दिया जाएगा। 

वार्षिक फसल की क्षति होने पर कितना मुआवजा दिया जाएगा?

बारामाही (पैरीनियल) (बोवाई/रोपाई से 6 माह से कम अवधि में 25 से 33 प्रतिशत फसल क्षति होने पर) फसल के लिये 9 हजार 500 रुपये प्रति हेक्टेयर, 33 से 50 प्रतिशत फसल क्षति होने पर 19 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर, 50 प्रतिशत से अधिक फसल क्षति होने पर 32 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर का मुआवजा दिया जाएगा।

वहीं बारामाही (पैरीनियल) (बोवाई/रोपाई से 6 माह से अधिक अवधि के बाद 25 से 33 प्रतिशत फसल क्षति होने) पर फसल के लिये 16 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर, 33 से 50 प्रतिशत फसल क्षति होने पर 21 हजार  रूपये प्रति हेक्टेयर, 50 प्रतिशत से अधिक फसल क्षति होने पर 32 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर की दर से मुआवजा दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें   पौधों को जमीन के पास से काटकर नुकसान पहुंचाता है कटुआ कीट, किसान ऐसे करें इसका नियंत्रण

सब्जी, मसाले तथा औषधीय फसलों के लिए कितना मुआवजा दिया जाएगा?

सरकार ने सब्जी, मसाले तथा ईसबगोल की खेती के लिये 25 से 33 प्रतिशत फसल क्षति होने पर 19 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर, 33 से 50 प्रतिशत फसल क्षति होने पर 27 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर, 50 प्रतिशत से अधिक फसल क्षति होने पर 32 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर देने का निर्णय लिया है। वहीं 33 से 50 प्रतिशत फसल क्षति होने पर सेरीकल्चर (एरी. शहतूत और टसर) फसल के लिये 6 हजार 500 रूपये प्रति हेक्टेयर तथा मूंगा के लिये 8 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर दिया जाएगा। 50 प्रतिशत से अधिक फसल क्षति होने पर सेरीकल्चर (एरी. शहतूत और टसर) फसल के लिये 13 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर तथ मूंगा के लिये 16 हजार रूपये प्रति हेक्टेयर दिया जाएगा।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर