सोमवार, मार्च 4, 2024
होमकिसान समाचारसरकार ने बेमौसम बारिश एवं ओलावृष्टि से हुए फसल नुकसान के आंकलन...

सरकार ने बेमौसम बारिश एवं ओलावृष्टि से हुए फसल नुकसान के आंकलन के लिए दिए विशेष गिरदावरी के निर्देश

बेमौसम बारिश एवं ओलावृष्टि से फसल नुकसान का आंकलन

बीते दिनों देश के कई राज्यों के ज़िलों में बेमौसम बारिश एवं ओलावृष्टि से किसानों की फसलों को काफी नुकसान हुआ है। जिसकी भरपाई किसानों को करने के लिए राजस्थान सरकार ने विशेष गिरदावरी करने के निर्देश दे दिए हैं। मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने 8 मार्च को हुई ओलावृष्टि एवं बेमौसम वर्षा के कारण प्रदेश के विभिन्न जिलों में रबी 2021-22 (संवत् 2078) में बोई गई फसलों को हुए नुकसान की आवश्यकतानुसार विशेष गिरदावरी शीघ्र करवाकर किसानों को राहत देने के निर्देश दिए हैं।

किसानों को जल्द दिया जायेगा मुआवजा

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि फसल खराबे का आंकलन कर प्रभावित किसानों को नियमानुसार मुआवजा देने के लिए विशेष गिरदावरी का काम जल्द से जल्द पूरा किया जाए। मुख्यमंत्री के निर्देशों के बाद राजस्व विभाग ने जिला कलेक्टरों को उनके जिले में फसलों में हुए नुकसान की शीघ्र विशेष गिरदावरी करवाकर रिपोर्ट आपदा प्रबंधन, सहायता एवं नागरिक सुरक्षा विभाग को भिजवाने के निर्देश जारी कर दिए हैं।

यह भी पढ़ें   अब किसानों को नहीं लगाने पड़ेंगे बिजली विभाग के चक्कर, इस एप पर घर बैठे मिलेगी सभी सुविधाएँ

इन तहसीलों में हुआ है ओलावृष्टि से फसलों को नुकसान

राज्य में 8 मार्च को हुई ओलावृष्टि में राज्य के 6 जिलों की कई तहसीलों में फसलों को नुकसान हुआ है जिसमें- प्रतापगढ़, राजसमंद चित्तौड़गड़, पाली, भीलवाड़ा एवं जोधपुर में ओलावृष्टि से फसल खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है। प्रतापगढ़ की प्रतापगढ एवं छोटीसादडी तहसीलों में ओलावृष्टि से 23 पटवार मण्डलों में 15-20 प्रतिशत फसल खराबे की सूचना प्राप्त हुई है। राजसमंद की कुम्भलगढ़ तहसील के 18 पटवार मण्डलों में अनुमानित 20 प्रतिशत तथा खमनोर तहसील के 5 पटवार मण्डलों में अनुमानित 10 प्रतिशत फसल खराबे की सूचना प्राप्त हुई है।

चित्तौडगढ़ की राशमी, भदेसर व चित्तौड़गढ़ में ओलावृष्टि हुई है, किन्तु फसल खराबे की सूचना शून्य है। पाली जैतारण तहसील के 30 पटवार मण्डलो में 25 प्रतिशत से अधिक फसल खराबा नहीं हुआ है और देसूरी तहसील में फसल खराबा शून्य है। जोधपुर की ओसियां व बिलाड़ा तहसीलों में ओलावृष्टि हुई है, किन्तु फसल खराबे की सूचना शून्य है। भीलवाड़ा की मांड़लगढ़ तहसील में 10 से 15 प्रतिशत फसल खराबा एवं कोटड़ी तहसील में 10-20 प्रतिशत फसल खराबे की प्रारंभिक सूचना प्राप्त हुई है।

यह भी पढ़ें   किसान अब घर बैठे आसानी से सहायक की मदद से करा सकेंगे फसलों का बीमा, सरकार ने जारी किया नया एप

33 प्रतिशत से अधिक नुकसान होने पर दिया जायेगा मुआवजा

आपदा प्रबंधन एवं नागरिक सहायता मंत्री श्री गोविंदराम मेघवाल ने बुधवार को विधान सभा में बताया कि 8 मार्च (मंगलवार) को ओलावृष्टि से हुए फसल खराबे की जांच के लिए विशेष गिरदावरी करने के आदेश जारी कर दिये गये हैं। साथ ही, प्रधानमंत्री बीमा योजना के तहत आंकलन के आदेश भी जारी कर दिए गये हैं। उन्होंने कहा कि भारत सरकार के नियमों के अनुसार 33 प्रतिशत या उससे अधिक खराबे पर ही मुआवजे का प्रावधान है, इसलिए मौके पर अधिकारियों को भेजकर विशेष जांच करवाई जाएगी। पहले भी किसानों को खरीफ फसल के खराबे पर करीब 131 करोड़ रुपये दिए गये हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

Trending Now

डाउनलोड एप