किसानों से जुड़ी इन महत्वपूर्ण मांगों को लेकर सरकार और किसान प्रतिनिधियों के मध्य बनी सहमति

1
1597
views
rajasthan kisan andolan hua samapt sarkar ne maangi sahamati

किसान आन्दोलन समाप्त करने के लिए सरकार ने किसानों की मांगों को लेकर दी सहमति

समय-समय पर देश के विभिन्न भागों में, अलग-अलग राज्यों में किसान अपनी समस्याओं को लेकर आन्दोलन करते रहते हैं परन्तु किसानों की कुछ ही मांगे मान कर उन्हें संतुष्ट किया जाता हैं | नतीजतन किसानों को दोबारा से अपनी मांगों को लेकर आन्दोलन करना पड़ता है | जिसमें पिछले कुछ वर्षों में किसानों की हालात बहुत ख़राब हुई है जिसके कारण किसान आन्दोलन करने को मजबूर हैं क्योंकि उनके पास इसके अलावा और कोई मार्ग नहीं बचता | अभी हाल ही में किसानों को ख़राब मौसम अति वृष्टि एवं सूखे से फसल को काफी नुकसान हुआ है जिससे किसान बहुत अधिक परेशान हैं | जिसे लेकर किसान राजस्थान के किसान आन्दोलनरत हैं |

राजस्थान में चल रहे किसान आन्दोलन को लेकर सरकार द्वारा यह जानकारी दी गई है की किसान प्रतिनिधियों एवं सरकार के बीच कुछ मुद्दों पर सहमति हुई है | इनमें कुछ प्रमुख मुद्दे इस प्रकार हैं 

  • वर्ष भर फसल की खरीदी की जाए
  • खराब हुई फसल का मुआवजा जल्द दिया जाए
  • प्रत्येक ग्राम सेवा सहकारी समिति में खरीदी केंद्र बनाया जाये
  • पीएम आशा योजना की गाइड लाइन में परिवर्तन किया जाए
  • खराबे का बीमा क्लेम व राष्ट्रीय आपदा तथा राज्य आपदा कोष से मुआवजा दिया जाए
  • प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से संबंधित भुगतान की जानकारी दी जाए
यह भी पढ़ें   1760 प्रति कुंटल के भाव से 15 अक्टूबर से किसान यहाँ बेच सकेगें मक्का

सरकार की तरफ से सहकारिता मंत्री श्री उदयलाल आंजना के निर्देश पर रजिस्ट्रार सहकारिता डॉ. नीरज के. पवन की अध्यक्षता में किसान महापंचायत के किसान प्रतिनिधियों के मध्य गुरूवार को यहां सहकार भवन में किसानों से जुड़े मुद्दों पर वार्ता हुई। सरकार का कहना है की किसानों की in मांगों पर सरकार और किसान महापंचायत के प्रतिनिधियों के बीच सहमति बनी हैं | सहमति के पश्चात किसान महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट ने आंदोलन स्थगित करने की घोषणा की है |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

1 COMMENT

  1. पीएम किसान सम्मान निधि के पैसे कौन कौन डालता है किसानों के खाते में किसानों के खाते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here