गर्मियों में पशुओं को लू से बचाने के लिए यह सभी उपाय करें

0
1178
protection of livestock from Summer

गर्मी में पशुओं का लू से बचाव

उत्तर भारत के सभी राज्यों में दिन का तापमान 40 डिग्री सेन्टीग्रेट से ज्यादा जा चूका है | जिसके कारण दिन में तेज धूप के साथ लू भी चल रही है | यह लू इंसान के साथ ही साथ पशुओं के लिए भी काफी नुकसान देय है | ऐसे में पशुओं को लू लगने एवं उनके बीमार होने की संभवना बनी रहती है तथा निम्नलिखित बीमारियाँ हो सकती है |

  • पशुओं को आहार लेने में अरुचि
  • तेज बुखार, हाफना
  • नाक से स्राव बहना
  • आँखों से आसूं गिरना
  • आखों का लाल होना
  • पतला दस्त होना
  • शारीर में पानी की अत्यधिक कमी होने से लड़खडाकर गिरना आदि

यह सभी लू लगने के प्रमुख लक्षण हैं | इसलिए गर्मी में लू से बचाव तथा देखभाल के लिए समुचित व्यवस्था करनी चाहिए |

 लू से बचाने के लिए क्या उपाय करें  ?

  • पशुओं को सुबह नौ बजे से शाम पांच बजे तक कोठे में रखे | कोठे को खुला न रखकर टाट आदि से ढक कर रखे |
  • गर्म हवाओं के थपेड़ों से बचाने के लिए टाट में पानी छिड़काव कर वातावरण को ठंडा बनाए रखे |
  • पशुओं को पर्याप्त मात्रा में आहार तथा पिने के लिए हमेशा ठंडा व स्वच्छ पानी दें |
  • पशुओं को ठोस आहार न देकर तरल युक्त आहार खिलाएं |
  • विवाह तथा अन्य आयोजनों से बचे हुये बासी भोज्य पदार्थ पशुओं को न खिलाए |
  • कोठे की नियमित साफ – सफाई करें |
  • नवजात बछड़ों – बछियों की विशेष देखभाल करें |
  • संकर नस्ल तथा भैसवंशी पशुओं पशुओं को पानी की उपलब्धता के आधार पर कम से कम दिन में एक बार आवश्य नहलाना चाहिए | यदि पशु असमान्य दिखे तो तुरन्त निकट के पशु चिकित्सा संस्थान के अधिकारी व कर्मचारी को सूचित कर तत्काल उपचार करना चाहिए |
यह भी पढ़ें   बकरी पालन हेतु 6 लाख रुपये तक की सब्सिडी लेने के लिए आज ही आवेदन करें

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here