गन्ना किसानों के बकाया भुगतान के लिए जारी की गई  5,534 करोड़ रूपये की राशि

0
839

गन्ना किसानों को मिलेगी बकाया राशि

गन्ना किसान पिछले दो वर्षों से गन्ना की बकाया भुगतान के लिए सरकारी दरवाजा खटखटा रहे थे या फिर आंदोलन का सहारा लेते थे | इसके बाबजूद भी गन्ना मिल पिछले 2 वर्षों का गन्ना बकाया भुगतान नहीं कर रहा था | किसान अपनी गन्ना मिल मालिकों के देने के बाद अपनी लागत भी नहीं निकाल पा रहे थे | जिसके कारण गन्ना किसान कर्ज में जा रहे थे |

उत्तर प्रदेश सरकार ने किसानों के बकाया गन्ना मूल्य के भुगतान के लिए 5,534 करोड़ रूपये का बजट आवंटित किया है | बकाया गन्ना मूल्य का भुगतान सुनिशिचित कराने के लिए इस धनराशि से चीनी मीलों को विभिन्न प्रकार की सहायता प्रदान की जायेगी |

साथ में सरकार ने गन्ने का मूल्य भी थी कर दिया है | सरकार ने इसकी जानकारी देते हुये बताया की चीनी मीलों को 4.50 रूपये प्रति कुंतल की दर से 500 करोड़ रूपये का अनुदान दिया जायेगा | पेराई सत्र वर्ष 2016 – 17 एवं 2017 – 18 के बकाया गन्ना मूल्य भुगतान हेतु निजी क्षेत्र की चीनी मीलों को 4,000 करोड़ रूपये का सपाट लोन राष्ट्रीयकृत बैंक, शिड्यूल्ड कामर्शियल बैंक एवं उत्तर प्रदेश कोआपरेटिव बैंक के माध्यम से उपलब्ध होगा |

यह भी पढ़ें   18 लाख से अधिक किसानों के बैंक खातों में ट्रांसफर की गई 1500 करोड़ रूपए की तीसरी किश्त

सरकार ने बाते की सहकारी क्षेत्र की चीनी मीलों को बकाया गन्ना मूल्य भुगतान हेतु 1,010 करोड़ रूपये की ऋण सहायता प्रदान की गयी है | निगम क्षेत्र की चीनी मीलों को 25 करोड़ रूपये की ऋण सहायता बकाया गन्ना मूल्य भुगतान करने हेतु प्रदान की गयी है | किसानो का बकाया चीनी मीलों के द्वारा किसानों के बैंक खाता में दिया जायेगा |

खेती की लागत कम करने के लिए ड्रीप सिंचाई संयंत्र गन्ना किसानों के यहां स्थापित कराये जायेंगे

गन्ना किसानों को चीनी मिलों द्वारा देय मूल्य (एफआरपी) का निर्धारण

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.