back to top
Wednesday, May 22, 2024
Homeविशेषज्ञ सलाहमार्च से जून के मध्य तने में लगने वाली अंकुर बेधक सुंडी

मार्च से जून के मध्य तने में लगने वाली अंकुर बेधक सुंडी

मार्च से जून के मध्य तने में लगने वाली अंकुर बेधक सुंडी  उपोष्ण जलवायु वाले क्षेत्रों में अंकुरण से चार माह तक इसका प्रकोप रहता है | इसके लारवा वृद्धि बिन्दुओं को बेधक मृत केन्द्र बनाते है जिसमें से सिरके जैसी बदबू आती है | आइये जानते हैं इस कीट से किस प्रकार निजात पाया जा सकता है |

प्रभावित फसल 

गन्ना , सब्जी

रोकथाम अंकुर बेधक के प्रकोप से ग्रस्त फसल को निकाल कर नष्ट कर देना चाहिए |

एकीकृत नाशीजीव प्रबन्धन के अंतर्गत ट्राइकोग्राम किलोनिस के 10 कार्ड प्रति हे. की दर से प्रयोग करना चाहिए |

अथवा

मेटाराइजियम एनिसोप्ली की 2.5 कि.ग्रा. मात्रा प्रति हे. की दर से 75 कि ग्रा. गोबर की खाद में मिलाकर प्रयोग करना चाहिए |

अथवा

रसायनिक नियंत्रण हेतु निम्नलिखित कीटनाशकों में से किसी एक का प्रयोग करना चाहिए |

अथवा

क्लोरपाइरीफास 20 प्रतिशत ई.सी.1.5 ली. प्रति हे. 800 – 1000 ली. पानी में घोलकर छिड़काव करना चाहिए |

अथवा

कार्बोफ्यूरान 3 प्रतिशत सी.जी. 30 किग्रा प्रति हे. की दर से बुरकाव करना चाहिए |

यह भी पढ़ें   सोयाबीन की खेती करने वाले किसान बुआई से पहले करें यह काम, मिलेगा अधिक उत्पादन

यह भी पढ़ें:- तने में छेद करने वाले तना वेधक कीट से फसल सुरक्षा

अथवा

फिप्रोनिल 0.3 प्रतिशत जी.आर. के 2.5 कि.ग्रा. प्रति हे. की दर से |

अथवा

फोरेट 10 प्रतिशत सी.जी. 30 कि.ग्रा. प्रति हे. की दर से बुरकाव करना चाहिए |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर