सोलर पॉवर फेंसिंग की मदद से फसलों को आवारा पशुओं से बचाएं

2
10034
views

सोलर पॉवर फेंसिंग की मदद से किसान भाई अपने खेतों को जंगली जानवरों (नीलगाय,बंदर,हिरण,जगली सुअर,गाय,बकरी) को रखे दूर एवं करें अपनी फसलों की रक्षा

सोलर पॉवर फेंसिंग क्या है

सोलर पावर फेंसिंग में खेत के चारो तरफ स्टील के तार की बाउंड्री बना कर उसमे डी सी करंट थोड़े थोड़े अंतराल में छोड़ा जाता है। जिसके झटके लगने से पशु खेत के पास नही आता हे और मानसिक रूप से उनमें डर बेठ जाता है। साथ ही इसमें एक तेज आवाज का हॉर्न भी लगा सकते है। जिससे किसान को पता चलता हैं। की खेत की बाड़ के कोई सम्पर्क में आया है।

सोलर पॉवर फेंसिंग किस तरह से कम करती है

सोलर फेंसिंग में एक सोलर प्लेट लगी होती है जो की 12वाल्ट की बेटरी को पावर देती है और उसे चार्ज करती है। और उस बेटरी से पावर फेज कंट्रोलर में जोड़ा जाता है। फिर कंट्रोलर के जरिये बाड  या तार फेंसिंग में डी सी करंट छोड़ा जाता है।यह करंट रोक रोक कर एक एक सेकंड के अन्तराल में तारो में जाता है। जो भी जानवर इसके पास आता हे उसे इसका जबर्दस्त झटका लगता है।

यह भी पढ़ें   खरपतवार नियंत्रण के लिए आधुनिक यंत्र

जिससे वो डर के भाग जाता हें। और इन तारो को स्पर्श होते ही आलार्म बज जाता है जिस से किसान को भी सुचना मिल जाती है।
इस करंट का झटका बहुत तेज होता है। लेकिन इससे किसी भी प्रकार का कोई भी नुकसान नही होता है। क्यों की ये डी सी वोल्टेज का होता हे और रुक रुक के आता हें ।

सोलर पॉवर फेंसिंग से लाभ  

  • किसी भी प्रकार की जनहानि की सम्भवना नही है।
  • यह मान्यता प्राप्त है।
  • किसान इसको खुद आसानी से लगा सकता है।
  • इसका रख रखाव में कम खर्चा होता हे
  • उपयोग ज्यदा समय तक किया जा सकता है।
  • अलग-अलग जानवर के हिसाब से सेट कर सकते है।
  • पर्यावरण के हिसाब से भी उचित है
  • यह जानवरों के मानसिक स्थर को प्रभावित कर उसे नुकसान करने से रोकने में सक्षम है।

सावधानियां

  • तार में करेंट सामान रूप से प्रवाहित होना चाहिए
  • एक सिरे से दुसरे सिरे तक एक जेसा हो बिच में जॉइंट न हो।
  • तार से जमीन में अर्थ न मिलना चाहिए इसके लिए तार के पास खतपतवार या अन्य पोधो को दूर रखे।
  • जमीन में अर्थ मिलने से बेट्री कम समय तक ही असर कर पाती है।
  • बाड के लिए 12से 16 गेज के तार का प्रयोग बेहतर रहता है।
  • किसान बाड की मरमत करते समय कंट्रोलर को बंद कर के करे।
  • समय समय पर मरमत और बेट्री को देखते रहें ।
  • उच्च क्वालटी के सिस्टम का उपयोग करे जेसे तार बेट्री सोलर प्लेट आदि।
  • बाड का निर्माण अलग अलग जानवरों के हिसाब से करे।
यह भी पढ़ें   कृषि शक्ति योजना: मध्यप्रदेश 

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here