सभी किसानों को मिलेगा मृदा स्वास्थ कार्ड

0
1724
मृदा स्वास्थ कार्ड

खाद (उर्वरक) का समुचित उपयोग के लिए किसानों को मृदा स्वास्थ कार्ड वितरित किये जा रहे हैं

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना (एसएचसी) को देश में समग्र रूप से लागू किया जा रहा है। इस योजना के तहत सभी किसानों को ये कार्ड मुहैया कराए जा रहे हैं,  ताकि फसल उत्पादन के लिए सही मात्रा में पोषक तत्वों का इस्तेमाल और मृदा स्वास्थ्य में सुधार हो सके।

मृदा में कितने पोषक तत्वों की जांच होगी

एसएचसी योजना के तहत सिंचित क्षेत्र में ढाई हेक्टेयर और असिंचित क्षेत्रों में 10 हेक्टेयर जमीन से मिट्टी के नमूने लिए जाते हैं। इसके लिए मिट्टी की जांच के 12 पैमाने हैं। इनमें प्राथमिक पोषक, दूसरे स्तर के पोषक, सूक्ष्म पोषक और अन्य तरह के पोषक शामिल हैं।

कब से कब तक

पहला चक्र 2015 से 2017 तक चलाया गया, इसके तहत 2.53 करोड़ मिट्टी के नमूनों की जांच हुई तथा किसानों को 10.73 करोड़ मृदा स्वास्थ्य कार्ड वितरित किए गए। दूसरा चक्र (2017-19) पहली मई, 2017 से शुरू हुआ। इस दौरान 2.73 करोड़ मिट्टी के नमूनों का लक्ष्य रखा गया। कुल 1.98 करोड़ नमूनों की जांच हुई और किसानों को 6.73 करोड़ कार्ड बांटे गए। इसका लक्ष्य 12.04 करोड़ किसानों को इसके दायरे में लाने का है।

यह भी पढ़ें   मोदीजी के नए भारत बजट में किसानों को नहीं मिली जगह

मिट्टी के नमूनों की जांच और मृदा स्वास्थ्य कार्डों के वितरण में तेजी लाने के लिए मृदा जांच अवसंरचना को उन्नत बनाया गया है। राज्यों के लिए 9263 मृदा जांच प्रयोगशालाओं को मंजूरी दी गई है। इसके अलावा ग्रामीण युवाओं के लिए रोजगार पैदा करने के संबंध में 1562 ग्रामीण स्तरीय मृदा जांच परियोजनाओं को स्वीकृति दी गई है।

क्या आपने मृदा सुधार की इन योजनाओं का लाभ लिया

Previous articleराजस्थान में कृषि यंत्र सब्सिडी पर लेने के लिए किसान भाई क्या करें
Next article40,000 रु.की सब्सिडी प्राप्त कर अपने खेतों की तारबंदी करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here