सिलिकॉन: पौधों की वृद्धि, विकास, तथा उपज के साथ रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाएं

1
1239

सिलिकॉन: पौधों की वृद्धि, विकास, तथा उपज के साथ रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाएं

सिलिकॉन उर्वरक

उर्वरकों के रूप में सिलिकॉन बहुत उपयोगी है क्योकि इन उर्वरकों मे सिलिकॉन तत्व प्रचुर मात्रा में पाया जाता हे, हालांकि, यह सिलिकॉन की एक अपेक्षाकृत उच्च सामग्री है जो पोधो की जरूरतों को पूरा करने के लिए पानी में घुलनशील होता हें। कैल्शियम सिलिकेट (20% Si), सोडियम सिलिकेट (23% Si), पोटेशियम सिलिकेट (18% Si), और सिलिकाजेल (46% Si) सिलिकॉन के मुख्य स्रोत हे।

रोग प्रतिरोधकता में सिलिकॉन की भूमिका

सिलिकॉन के लाभदायक प्रभाव जलतनाव की स्थिति में और अधिक स्पष्ट  दिखाई देते है। सिलिकॉन कई प्रकार के अजैविक और जैविक तनाव से पौधों की रक्षा करने में सक्षम है क्योंकि कई अध्ययनों पता चला हे की यह विभिन्न प्रजातियों के पौधे में कवक और बैक्टीरिया से होने वाली बीमारी को नियंत्रित करने में कारगर साबित हुआ है। उदाहरण के लिए, यह पत्ती और गर्दन विस्फोट, म्यान तुषार, भूरे रंग के स्थान, पत्ती जला देना और सड़ांध स्टेम दूर करने के लिए चावल और गन्ने में प्रतिरोध क्षमता को बढाता है। सिलिकॉन ककड़ी, जौ और गेहूं में ख़स्ता फफूंदी जेसी बीमारियों की रोकथाम करता है; साथ ही साथ में यह गन्ने में अंगूठी स्थान और लोबिया में जंगरोग रोकथाम के लिए पोधो में प्रतिरोधकता के लिए दो तंत्र विकसीत करता है। इसमें से एक शारीरिक बाधा को दूर करने में कार्य करता है, और दूसरा सिलिकॉन डबल परत के रूप में कोशिका भित्ति के नीचे जमा हो जाता है। जिससे यह परत कवक और बैक्टीरिया को प्रवेश करने में बाधा उत्पन करती हे, और  संक्रमण की प्रक्रिया की रोकथाम में सहायता करता हैं। सिलिकॉन कई प्रकार के कीटों जेसे स्टेम बोरर और लीफहॉपर के नियंत्रण में बहुत उपयोगी है। इस प्रकार सिलिकॉन पोधो की पत्ती को कीड़ों द्वारा चबाने के खिलाफ एक यांत्रिक बाधा प्रदान करता है, जो पोधो के ऊतकों में सिलिकॉन की प्रतिरोधकता उत्पन करता है जिससे कीट पोधो को नुकसान नही पहुचा पाते।

यह भी पढ़ें   विडियो:स्टोन पिकर मशीन से खेत की मिट्टी से कंकर-पत्थर को मिनटों में निकालें

सिलिकॉन रासायनिक तनाव जेसे (नमक, धातु विषाक्तता, पोषक तत्व असंतुलन) और शारीरिक तनाव (आवास, सूखा, विकिरण,  उच्च तापमान, ठंड) और कई प्रकार के अजैव तनाव दूर करता हे। इन लाभकारी प्रभावो के कारण अधिकांश पोधो की जड़ों में,  पत्तियों में और तनों की दीवारों में सिलिकॉन बहुत प्रभाव छोड़ता है। यह पोधो में नाइट्रोजन और फॉस्फोरस की उपलब्धता को बढ़ाता हे और इन तत्वो के जमीन में होने वाले नुकसान को रोकता हे, जिससे नाइट्रोजन और फॉस्फोरस की मात्रा जमीन में बढ़ जाती हे। सिलिकॉन बहुत से हानिकारक तत्व जेसे लोहा और मेगनीस आदि की उपलब्धता को जमीन में कम करता हे और इनके हानिकारक प्रभाव से पोधो की रक्षा करता हे। यह तत्व तनाव प्रतिरोधकता को बढ़ाता है क्योंकि सिलिकॉन सबसे ज्यादा मात्रा में पोधो में जमा होता है, और सिलिकॉन के ज्यादा मात्रा में जमा होने से पोधो को कोई नुकसान नही होता। यह पोधो की बीमारियों और कीटों से रक्षा करता हे और पानी की कमी होने पर पोधो को सुखने से बचाता हे!

यह भी पढ़ें   अप्रैल (चैत्र-वैशाख) माह में किये जाने वाले खेती-बड़ी के काम 

यह भी पढ़ें: अच्छी उपज के लिए बोरान

रासायनिक उर्वरक उपयोग करने से पहले जानें कुछ जरुरी बातें 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here