40 प्रतिशत के अनुदान पर लगायें बायो गैस प्लांट

1124
bio gas plant subsidy

बायोगैस प्लान्ट स्थापित करने के लिए अनुदान

बायोगैस के पर्यावरण के लिए किसी भी प्रकार का नुकसान देय नहीं रहने तथा गंधहीन, और धुँआ रहित के कारण इसकी उपयोगिता बढ़ गई है | इस गैस से 55 से 70 प्रतिशत तक मीथेन गैस निकलती है जो ज्यादा ज्वलनशील है | इसको ध्यान में रखते हुए हरियाणा सरकार राज्य में बायोगैस को बढ़ावा देने के लिए अनुदान दे रही है | इसके तहत डेयरी किसान तथा गौशाला संचालक बायोगैस प्लांट बनाकर बायोगैस तथा जैविक खाद का उत्पादन कर सकते हैं |

बायो गैस/ गोबर गैस पर दी जाने वाली सब्सिडी

हरियाणा के नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा विभाग एवं हरेडा ने गोशालाओं व डेयरियों में संस्थागत बायोगैस प्लान्ट लगाने के लिए सब्सिडी दे रही है | इसके तहत पांच प्रकार के बायोगैस प्लांट को शामिल किया गया है | जिसके तहत 25 क्यूबिक मीटर, 35 क्यूबिक मीटर, 45 क्यूबिक मीटर, 60 क्यूबिक मीटर व 85 क्यूबिक मीटर क्षमता तक के संस्थागत बायोगैस प्लान्ट स्थापित करने पर सरकार द्वारा 40 प्रतिशत का अनुदान उपलब्ध करवाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें   ऐसा करेंगे तो नहीं देना होगा किसान पेंशन योजना के लिए प्रीमियम

योजना का लाभ लेने के लिए कहाँ आवेदन करें ?

इस योजना के लिए राज्य के गौशाला व डेयरी का संचालक आवेदन कर लाभ उठा सकते हैं | आवेदक योजना के लिए जिला के अतिरिक्त उपयुक्त कार्यालय में आवेदन कर सकते हैं | योजना का लाभ “पहले आव – पहले पाँव” के आधार पर दिया जाएगा |

बायो गैस से लाभ

प्रदूषण मुक्त तथा गंध तथा धुंआ रहित गैस के रूप में बायो गैस उपयुक्त है | इससे गैस के साथ ही जैविक खाद भी प्राप्त होता है | बायोगैस बनाने के लिए हरियाणा उपयुक्त राज्य है | हरियाणा में लगभग 7.6 लाख पशु है, जिनसे 3.8 लाख क्यूबिक मीटर बायोगैस उत्पन्न कर सकते हैं | इस 3.8 लाख क्यूबिक मीटर बायोगैस से 300 मेगावाट बिजली पैदा की जा सकती है | 100 पशुओं से लगभग 10 क्विंटल गोबर प्राप्त होता है, जिससे लगभग 50 क्यूबिक मीटर गैस प्राप्त हो सकती है |

पिछला लेखकिसानों को अदरक, प्याज, लहसुन आदि मसाला फसलों के उन्नत किस्मों के बीजों को उपलब्ध करवाया जायेगा
अगला लेख5 लाख रुपये तक का गोपाल रत्न पुरस्कार प्राप्त करने के लिए अभी आवेदन करें

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.