15 सितम्बर से शुरू होंगें धान, ज्वार एवं बाजरा समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए पंजीयन

समर्थन मूल्य पर धान, ज्वार एवं बाजरा खरीद हेतु पंजीयन

वर्ष 2021 के खरीफ फसलों की कटाई इस माह के अंतिम सप्ताह से शुरू हो जाएगी, जिसके बाद किसान जल्द ही अपनी उपज बेचना चाहेंगे | किसानों को समर्थन मूल्य पर अपनी उपज बेचने के लिए पंजीकरण करवाना होता है जोकि अलग-अलग राज्य सरकारों के द्वारा अलग-अलग समय पर करवाए जाते हैं | मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य के किसानों के लिए खरीफ फसलों की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदी हेतु पंजीयन 15 सितम्बर से शुरू करने जा रही है | किसान कब एवं कैसे अपनी फसलों का पंजीकरण करवाएं किसान समाधान इसकी जानकारी आपके लिए लेकर आया है |

धान एवं ज्वार-बाजरे के लिए किसान कब करवा सकेंगे पंजीयन ?

मध्य प्रदेश सरकार राज्य के किसानों से वर्ष 2021–22 के लिए धान, बाजरा तथा ज्वार की खरीदी न्यूनतम समर्थन मूल्य पर करने जा रही है | इसके लिए पंजीयन 15 सितम्बर से शुरू होकर 14 अक्टूबर 2021 तक चलेंगे | किसानों को समर्थन मूल्य पर अपनी उपज बेचने के लिए पंजीकरण अवश्य करवाना होगा |

किसान कहाँ कर सकते हैं उपज बेचने के लिए पंजीयन ?

- Advertisement -

मध्य प्रदेश के किसान खरीफ फसलों के पंजीयन ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों प्रकार से कर सकते हैं | किसानों की सुविधा के लिए कई प्रकार की आनलाइन पंजीयन प्रक्रिया रखी गई है, जिससे किसान आसानी से घर बैठे अपना पंजीकरण कर सकते हैं | किसान अब अपना पंजीयन डाटा एंट्री के अलावा एमपी किसान एप, प्राथमिक कृषि सहकारी साख संस्थाओं एवं विगत खरीफ वर्ष में उपार्जन/पंजीयन करने वाले महिला स्व-सहायता समूह एवं एफपीओ द्वारा संचालित पंजीयन केंद्र से भी करा सकेंगे | इसके अलावा सिकमिदार एवं वनाधिकार पट्टाधारी अपना पंजीयन समिति / एफपीओ / महिला स्व-सहायता समूह द्वारा संचालित केन्द्रों में ही करा सकेंगे | प्रदेश में 1,718 पंजीयन केंद्र बनाए गए है |

सिकमी / बटाईदार किसान पंजीयन कैसे करें ?

राज्य के सिकमी एवं बटाईदार श्रेणी के किसान उपार्जन के लिए आवेदन कर सकेंगे, जिनके पास कुल रकबा 5 हेक्टेयर से अधिक नहीं होगा | ऐसे किसानों के अनुबंध की एक प्रति पंजीयन कराने वाले व्यक्ति/कृषक द्वारा संबंधित तहसीलदार को उपलब्ध कराना होगा | पंजीयन के समय सिकमी / बटाईदार के साथ मूल भू–स्वामी के आधार नम्बर की जानकारी भी ली जाएगी | पंजीयन के लिए 15 अगस्त 2021 तक कराये गये अनुबंध ही मान्य होंगे |

दावा-आपत्तियां एवं सत्यापन

- Advertisement -

किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फसल बेचने के लिए पंजीयन करना जरुरी है | पंजीकृत किसान को प्रति एकड़ के हिसाब से फसल बेचने की छुट होगी | इसके साथ ही गिरदावरी में दर्ज फसल के अनुसार ही किसान फसल बेच सकते हैं | अगर किसान गिरदावरी में दर्ज भूमि का रकबा एवं बोई गई फसल से संतुष्ट ने होने पर पंजीयन के पूर्व संशोधन हेतु गिरदावरी में दावा–आपत्ति दर्ज करा सकते हैं | आपत्ति का निराकरण होने एवं ई-उपार्जन पोर्टल पर किसान की संशोधित जानकारी आने पर ही पंजीयन किया जा सकेगा | ई-उपार्जन पोर्टल पर पंजीकृत किसानों के रकबा, फसल एवं किस्म का सत्यापन एसडीओ /नायब तहसीलदार द्वारा किया जाएगा |

पंजीकरण के लिए किसान को क्या–क्या दस्तावेज लगेंगे ?

समर्थन मूल्य पर फसल बेचने के लिए किसान को कुछ दस्तावेज अपने पास रखना जरुरी है | जिन किसानों ने खरीफ एवं रबी के मौसम में ई-उपार्जन पोर्टल पर अपना पंजीयन कराया था, उन्हें पुन: दस्तावेज देने की जरूरत नहीं होगी | किसान द्वारा विगत वर्ष दिये गये आधार कार्ड और बैंक पासबुक के आधार पर पंजीयन किया जा सकेगा |

नये पंजीयन हेतु किसानों को यह दस्तावेज प्रस्तुत करने होंगे | वनाधिकार पट्टाधारी / सिकमिदार किसानों को वन पट्टा एवं सिकमी अनुबंध की प्रति उपलब्ध कराना होगा | किसान से उपज के विक्रय के लिए 3 संभावित दिनांक प्राप्त की जाएगी, जिसे पंजीयन के समय दर्ज किया जाएगा | इसके अलावा राष्ट्रीय एवं जिला केन्द्रीय बैंक की शाखाओं के एकल खाते ही मान्य होंगे | किसान को बोई गई फसल की किस्म, रकबा तथा विक्रय योग्य मात्रा, फसल के भंडारण स्थान की जानकारी भी आवेदन में दर्ज कराना होगा |

किसानों की सूचि ग्राम पंचायत एवं पंजीयन केंद्र पर लगाई जाएगी

पंजीकृत किसानों की सूची रकबा एवं फसल की सूची कृषक के अवलोकन के लिये प्रत्येक ग्राम पंचायत कार्यालय एवं पंजीयन केन्द्र पर चस्पा की जायेगी। इसके अलावा एनआईसी द्वारा पंजीयन केन्द्र एवं DMMPSCSC लॉगइन पर, जनपद पंचायत एवं पंजीयन केन्द्रों, ग्राम पंचायत के कार्यालय एवं जिला उपार्जन नियंत्रक कक्ष के दूरभाष क्रमांक के माध्यम से उपलब्ध कराई जाएगी।

धान तथा ज्वार–बाजरे का न्यूनतम समर्थन मूल्य क्या है ?

मध्य प्रदेश सरकार राज्य के किसानों से खरीफ फसल की खरीदी न्यूनतम समर्थन मूल्य पर करने जा रही है | यह न्यूनतम समर्थन मूल्य केंद्र सरकार के द्वारा पहले से घोषित किए जा चुके हैं | इस वर्ष खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य इस प्रकार है |

  • धान – 1940 रूपये प्रति क्विंटल
  • ज्वार – 2738 रूपये प्रति क्विंटल
  • बाजरा – 2250 रूपये प्रति क्विंटल
- Advertisement -

Related Articles

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
यहाँ आपका नाम लिखें

Stay Connected

217,837FansLike
829FollowersFollow
54,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

ऐप खोलें