back to top
28.6 C
Bhopal
मंगलवार, जुलाई 16, 2024
होमकिसान समाचार612 खरीद केंद्रों पर शुरू हुई मूंग, उड़द एवं सोयाबीन की...

612 खरीद केंद्रों पर शुरू हुई मूंग, उड़द एवं सोयाबीन की MSP पर खरीद

मूंग, उड़द एवं सोयाबीन की खरीद 

खरीफ फसलें खेतों में पककर तैयार हो गई है, ऐसे में अलग-अलग राज्य सरकारों के द्वारा खरीफ फसलों की खरीदी भी शुरू की जा चुकी है। इस कड़ी में राजस्थान में राजफैड द्वारा समर्थन मूल्य पर मूंग, उड़द एवं सोयाबीन की 1 नवम्बर से खरीद शुरू कर दी गई है वहीं मूंगफली की खरीद 18 नवम्बर से शुरू की जाएगी। इन फसलों के लिए ऑनलाइन पंजीकरण 27 अक्टूबर से शुरू कर दिया गया है।

इस वर्ष भारत सरकार द्वारा राजस्थान राज्य में समर्थन मूल्य पर मूंग का खरीद का लक्ष्य 3 लाख 2 हजार 745 मीट्रिक टन, उडद का 62 हजार 508 मीट्रिक टन, मूंगफली का 4 लाख 65 हजार 565 मीट्रिक टन तथा सोयाबीन का 3 लाख 61 हजार 790 मीट्रिक टन खरीद का लक्ष्य दिया गया है। मूंग का समर्थन मूल्य 7755 रूपये, उडद का 6600, मूंगफली का 5850 एवं सोयाबीन का 4300 रूपये प्रति क्विंटल एफ.ए.क्यू श्रेणी का घोषित किया गया है।

यह भी पढ़ें   बाजार में 100 रुपये किलो तक बिक रही है गेहूं की यह किस्म, सरकार खेती के लिए दे रही है प्रोत्साहन

612 केंद्रों पर की जाएगी खरीफ फसलों की खरीद 

राजस्थान में किसानों से मूंग की खरीद के लिए 363 केन्द्र, उड़द के लिए 166 तथा सोयाबीन के लिए 83 खरीद केन्द्र खोले गए हैं। इस प्रकार कुल 612 खरीद केंद्रों पर मूँग, उड़द एवं सोयाबीन की खरीद की जाएगी । वहीं 18 नवम्बर से राज्य में 267 खरीद केंद्रों पर मूँगफली की खरीद की जाएगी। इस प्रकार राज्य में कुल 879 खरीद केन्द्र बनाए गए है। जिसमें से 419 केन्द्र क्रय-विक्रय सहकारी समितियों पर तथा 460 ग्राम सेवा सहकारी समितियों पर बनाए गए है।

किसान MSP पर मूँग, उड़द एवं सोयाबीन बेचने के लिए करें पंजीयन

न्यूनतम समर्थन मूल्य पर उपज बेचने के लिए किसानों पंजीयन कराना आवश्यक है। ऐसे में किसानों को किसी प्रकार की असुविधा नहीं हो इसके लिए ऑनलाइन पंजीकरण की व्यवस्था ई-मित्र एवं खरीद केन्द्रों पर प्रातः 9 बजे से सायं 7 बजे तक की गई है। किसान पंजीयन कराते समय यह सुनिश्चित कर ले कि पंजीकृत मोबाईल नम्बर से जन आधार कार्ड से लिंक हो जिससे समय पर तुलाई दिनांक की सूचना मिल सके। किसान प्रचलित बैंक खाता संख्या सही दे ताकि ऑनलाइन भुगतान के समय किसी प्रकार की परेशानी किसान को नहीं हो। किसानों की समस्याओं के समाधान के लिए हेल्प लाइन नम्बर 1800-180-6001 आरम्भ कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें   इस तकनीक से कपास की खेती करने पर किसानों को मिलेगा 30 फीसदी अधिक उत्पादन

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर