back to top
रविवार, जून 16, 2024
होमविशेषज्ञ सलाहदलहन उत्पादन सुरक्षा एवं प्रसंस्करण की तकनीक

दलहन उत्पादन सुरक्षा एवं प्रसंस्करण की तकनीक

दलहन उत्पादन सुरक्षा एवं प्रसंस्करण की तकनीक

भारत में दलहन को लगभग 220 – 230 लाख हेक्टयर क्षेत्रफल में उगाया जाता है | जिससे प्रतिवर्ष 130 – 145 लाख टन उत्पादन प्राप्त होता है | वर्तमान में देश के अधिकांश भागों में दलहन की खेती परम्परागत विधियों द्वारा की जा रही है |

दलहन फसलों को अविशिष्ट श्रेणी में जाना जाता है , क्योंकि इनकी जड़ों में पायी जाने वाली ग्रंथिकाओं में वायुमंडलीय नत्रजन के स्थिकरण द्वारा मृदा उर्वरता को अक्षुण रखने की विलक्षण क्षमता होती है | इन फसलों में प्रतिकूल वातावरण में जीवित रहने का विशेष गुण होता है | डालें, प्रोटीन का प्रचुर तथा सबसे बड़ा श्रोत है जो देश की शाकाहारी जनसंख्या के भोजन का अवयव है | मृदा में नमी के प्रति उच्च सहनशीलता के कारण इन फसलों का विभिन्न फसल प्रणालियों विशेषकर बारानी खेती में महत्वपूर्ण स्थान है | भारत में दलहनी फसलें रबी, खरीफ तथा बसन्त / ग्रीष्म तीनों ही ऋतुओं में उगायी जाती है | खरीफ में मुख्य रूप से अरहर, उड़द, मुंग, तथा रबी में चना, मटर, मसूर व राजमा की खेती होती है जिनके उत्पादन सुरक्षा व प्रसंस्करण की तकनीक निम्न प्रकार हैं :-

अरहर :-

अरहर अल्पकालीन किस्में:- 140 – 170 दिन में पक जाती है | बुवाई जून के मध्य में करके पैदावार 15 – 20 कुन्तल / हे. की उत्पादन क्षमता से प्राप्त की जा सकती है |

दीर्घकालीन किस्में :- 250 – 270 दिन में पक जाती है बुवाई जुलाई मध्य में पैदावार 20 – 28 कुंतल/हे. तक मिलती है | अमर, नरेन्द्र अरहर – 1 मालवीय अरहर – 6, आजाद, नरेन्द्र अरहर – 2, मालवीय अरहर – 13 प्रजातियाँ प्रमुख हैं |

मूंग :-

मूंग की खरीफ में बुवाई मध्य जुलाई व जायद में मार्च से अप्रैल प्रथम सप्ताह में विभिन्न उन्नतशील किस्में 65 – 75 दिन में पककर तैयार हो जाती है | तथा इनकी उत्पादन क्षमता 10 – 12 कुन्तल / हे. होती है | सम्राट एच.यू,एम – 2, पूसा विशाल व पूसा 9531 प्रजातियाँ उगायी जा सकती हैं |

यह भी पढ़ें   किसान कपास की बुआई कब और कैसे करें?

उर्द :- उर्द की, बुवाई खरीफ में मध्य जुलाई व जायद में मार्च से अप्रैल प्रथम सप्ताह में की जाती है | विभिन्न उन्नतशील किस्में 75 – 85 दिन में पककर तैयार जो जाती है तथा इनकी उत्पादन क्षमता 10 – 12 कुन्तल / हे. तक है | नरेन्द्र उर्दू – 1, उत्तर आजाद उर्द – 1 किस्में भी उगा सकते हैं |

 चना :-

चना की विभिन्न देशी व काबुली किस्मों की बुवाई अक्टूबर के मध्य से नवम्बर प्रथम सप्ताह तक की जाती है | 140 – 150 दिन में फसल पक जाती है तथा उत्पादन 25 – 30 कुन्तल / हे. प्राप्त होता है | पन्त चना – 186, सम्राट, के.डब्ल्यू.आर. – 108, डी.सी.पी. 92 – 3, चमत्कार व आलोक किस्में अधिक पैदावार देती है |

मटर :-

मसूर की बुवाई अक्टूबर के मध्य में की जाती है | मसूर की विभिन्न उन्नतशील किस्में 130 – 135 दिन में पाक जाती है तथा पैदावार 16 – 20 कुन्तल / हे. प्राप्त होती है | प्रिया, शेरी, पन्त मसूर – 4 किस्में ले सकते हैं |

खाद एवं उर्वरक :-

सभी दलहनी फसलों में उर्वरक नत्रजन 15 – 20, फास्फोरस 40 – 60 तथा पोटाश 20 कि.ग्रा./हे. की आवश्यकता होती है, परन्तु यह मात्रा घट बढ़ सकती है | उर्वरकों का प्रयोग करें तो अति प्रभावी होगा |

प्रसंस्करण

मिलिग :-

अधिकांश कृषक की कटाई के तुरन्त बाद अपने उत्पाद को कम मूल्य पर बेच देते है | अपने उत्पादन का अधिक मूल्य पाने हेतु दलहन उत्पादकों द्वारा सफाई, ग्रेडिंग तथा मिलिंग जैसे प्राथमिक प्रसंस्करण करना चाहिये | आहार के लिये स्वच्छ दानों से दाल प्राप्त करना मिलिंग का प्रमुख उद्देश्य है | कृषक तथा दलों के बनाने वाले मिल मालिक मिलिंग के दौरान दानों के टूटने को रोककर अधिक लाभ अर्जित करना चाहते है | दलहनों की मिलिंग, कुटीर इकाईयों के अतिरिक्त, उच्च क्षमता व्यवसायिक दलहन विधायन संयत्रों द्वारा की जाती है | कटाई से पूर्व तथा भंडारण के दौरान, दानों की अवस्था, मिलिंग के समय दल की प्राप्ति प्रभवित करता है |

यह भी पढ़ें   गेहूं को कीटों से बचाने के लिए इस तरह करें उसका भंडारण

अधिकांश दलहनों में दलों की औसत प्राप्ति लगभग 70 – 72 प्रतिशत होती है | सामान्यत: दलहनों में भूसे का प्रतिशत 11 – 15 प्रतिशत के बीच होता है | टूटे हुये दानों सहित दाल की प्राप्ति 85 – 89 प्रतिशत होनी चाहिए | दल बनाने में दानों को मजबूती से समेटे बीज आवरण को हटाना तथा बीज पत्रों को तोडना सम्मिलित होता है | दाल बनाने से उसकी गुणवत्ता, पाचकता तथा उसके ब्राह्य रूप, आदि में सुधार होता है | दलहनों से दाल दो प्रकार से बनाई जाती है |

  • दाल बनाने की परम्परागत विधि श्रम प्रधान, अधिक समय लगाने वाली, मौसमी कारकों पर पूर्णतया निर्भर रही है तथा इससे  दाल की प्राप्ति भी कम मिलती है |
  • मीलों द्वारा वृहद स्तर पर प्रसस्करण हल ही में भारतीय दलहन , कानपूर द्वारा मिनी दाल मिल विकसित की गयी है | जो ग्रामीण स्तर पर छोटे उधमियों द्वारा सुगमता से प्रयोग की जा सकती है |

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर