शुरू हुआ नया बागवानी बीमा योजना का पोर्टल, किसान इन फसलों का करा सकेंगे बीमा

0
218
baagwani bima portal

बागवानी बीमा योजना का पोर्टल

रबी एवं खरीफ फसलों की ही तरह बागवानी फसलों को प्राकृतिक आपदाओं से सुरक्षा प्रदान करने के लिए हरियाणा सरकार ने ‘‘मुख्यमन्त्री बागवानी बीमा योजना’’ की शुरुआत की है। योजना के तहत बागवानी की विभिन्न फसलों जैसे सब्जी, फल एवं मसाला फसलों का बीमा किया जायेगा। हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री जे.पी. दलाल ने ‘‘मुख्यमन्त्री बागवानी बीमा योजना’’ के नाम से एक नई बागवानी फसल बीमा योजना के पोर्टल की शुरूआत की। इस योजना के तहत किसानों की फसलों में प्रतिकूल मौसम व प्राकृतिक आपदाओं के कारण से होने वाले नुकसान की भरपाई की जाएगी।

इन प्राकृतिक आपदाओं से मिलेगी फसलों को सुरक्षा

योजना के अंतर्गत प्रतिकूल मौसम कारक तथा प्राकृतिक आपदाओं जैसे ओलावृष्टि, तापमान, पाला, जल कारक (बाढ, बादल फटना, नहर/ड्रेन का टूटना, जलभराव), आंधी तूफान व आग जो फसल नुकसान का कारण बनते है, हरियाणा राज्य सरकार ने इन सभी कारकों को योजना के तहत शामिल किया है।

यह भी पढ़ें   मौसम विभाग ने जारी की चेतावनी इन जगहों पर फिर हो सकती है बारिश एवं ओलावृष्टि

किसान इन फसलों का करा सकेंगे बीमा

मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना के तहत 21 फसलों को शामिल किया गया है। इनमें 14 सब्जियां (टमाटर, प्याज, आलू, फूलगोभी, मटर, गाजर, भिण्डी, घीया, करेला, बैंगन, हरी मिर्च, शिमला मिर्च, पतागोभी, मूली), 2 मसाला फसलें (हल्दी, लहसुन) और 5 फल (आम, किन्नू, बेर, अमरूद, लीची) शामिल किया गया है। 

फसल नुकसान होने पर कितना मुआवजा दिया जायेगा

कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री जे.पी. दलाल ने बताया कि मुआवजा को चार श्रेणी 25, 50, 75 व 100 में बांटा गया है। उन्होंने बताया कि 26 प्रतिशत से 50 प्रतिशत के बीच फसल नुकसान की अवस्था में मुआवजा 50 प्रतिशत की दर से सब्जियो/मसालों के लिए 15,000 रूपये व फलों के लिए 20,000 रूपये, 51 प्रतिशत से 75 प्रतिशत के बीच नुकसान की अवस्था में मुआवजा 75 प्रतिशत की दर से सब्जियों/मसालों के लिए 22,500 रुपये व फलों के लिए 30,000 रूपये तथा 75 प्रतिशत से अधिक नुकसान की अवस्था में मुआवजा 100 प्रतिशत की दर से सब्जियों/मसालों के लिए 30,000  रूपये व फलों के लिए 40,000 रूपये दिया जाएगा।

यह भी पढ़ें   50 प्रतिशत की सब्सिडी पर खेत की तारबंदी करवाने के लिए करें आवेदन

किसानों को कितना प्रीमियम देना होगा 

यह योजना उन सभी किसानों के लिए वैकल्पिक तौर पर होगी जो मेरी फसल मेरा ब्यौरा के तहत पंजीकृत होंगे। योजना के तहत आश्वस्त राशि (सम एश्योरड) सब्जियों व मसालों के लिए रूपये 30,000 रूपए प्रति एकड़ व फलों के लिए रूपये 40,000 रूपए प्रति एकड़ होगी तथा किसान का योगदान/हिस्सा आश्वस्त राशि का केवल 2.5 प्रतिशत होगा जोकि सब्जियों में राशि 750 रूपए व फलों में राशि 1000 रूपये प्रति एकड़ होगी। 

उल्लेखनीय है कि सरकार द्वारा योजना के लिए प्रारम्भिक पूंजी के रूप में राशि 10 करोड़ रूपये की व्यवस्था की गई है। मुआवजा राशि सर्वेक्षण पर आधारित होगी। योजना की निगरानी समीक्षा एवं विवादों का समाधान प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत गठित राज्य स्तर व जिला स्तर की समितियों के माध्यम से किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

अपना कमेंट लिखें
आपका नाम लिखें.