90 प्रतिशत की भारी सब्सिडी पर धान बीज एवं बीजोपचार हेतु दवा लें

0
Paddy seed and seed treatment par anudan

धान बीज एवं बीजोपचार हेतु दवा पर सब्सिडी

खरीफ फसल में धान एक महत्वपूर्ण फसल है | इसकी खेती उत्तर से दक्षिण भारत में होने के कारण महत्व बढ़ जाता है | इसकी खेती उन स्थानों पर अधिक होती है जहाँ सिंचाई का साधन उपलब्ध हो | सही मात्रा में सिंचाई का नहीं मिल पाना तथा नए बीज के कारण फसल पर रोग तथा कीट का प्रकोप अधिक हो गया है | जिसके कारण किसान को रासायनिक कीटनाशक का प्रयोग करना पड़ता है |

किसान अगर बीज की बुआई के पहले बीजों का बीजोपचार कर दे तो फसल पर लगने वाले रोग से छुटकारा पाया जा सकता है लेकिन समस्या यह है की बीजोपचार के लिए रासायनिक दावा का प्रयोग किया जाता है | जो सभी किसान के लिए सक्षम नहीं है |

योजना किस राज्य के लिए हैं

बिहार सरकार ने प्रदेश के किसानों के लिए धान की खेती के लिए बीज के साथ बीजोपचार की दवा दे रही है | इसकी पूरी जानकारी इस प्रकार है |

यह भी पढ़ें   खेत की सिंचाई हेतु मेड़बंदी करने के लिए सरकार दे रही है 75,000 रुपये

क्या है योजना

वित्तीय वर्ष 2019 – 20 में फसल सुरक्षा कार्यक्रम के अंतर्गत बीज टीकाकरण अभियान का कार्यान्वयन राज्य के सभी प्रखंडों में चलाया जा रहा है | इस कार्यक्रम के अंतर्गत खरीफ फसलों जैसे धान के बीजोपचार करने हेतु बीज टीकाकरण वाहन द्वारा बीजोपचार रसायन एवं जैव कीटनाशियों का व्यापक प्रचार – प्रसार किया जा रहा है | बीजोपचार हेतु आवश्यक रसायनों एवं जैव कीटनाशियों पर 90 प्रतिशत अनुदान भी उपलब्ध कराया जा रहा है |

इस कार्यक्रम में प्रत्येक वाहन पर एक तकनीकी पदाधिकारी तथा चयनित कीटनाशी प्रतिष्ठान के एक प्रतिनिधि बीजोपचार रसायन जैव कीटनाशी एवं फोरमेन ट्रैप के साथ वहन में मौजूद रहेंगे | तकनीकी पदाधिकारीयों एवं इससे होने वाले लाभों के संबंध में अवगत करायेंगे | टीकाकरण वाहन पर मौजूद लीफलेट एवं पम्फलेट का वितरण किसानों के बीच करते हुये लाउडस्पीकर से भी प्रचारित कर किसानों को जागरूक किया जायेगा |

इस तरह की ताजा जानकरी विडियो के माध्यम से पाने के लिए किसान समाधान को YouTube पर Subscribe करें

Previous articleसब्सिडी पर ट्रेक्टर एवं पावर टिलर लेने के लिए आवेदन करें
Next articleअनुदान पर फल,सब्जी एवं मसाले की खेती करने के लिए आज ही आवेदन करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here