समर्थन मूल्य पर मूंग एवं उड़द बेचने के लिए क्या करें

0
1313
views

समर्थन मूल्य पर मूंग एवं उड़द बेचने के लिए क्या करें

समर्थन मूल्य पर मूंग एवं उड़द बेचने के लिए पंजीयन करवाना आवश्यक है, राजस्थान में अक्टूबर माह के मध्य से समर्थन मूल्य पर मूंग एवं उड़द की खरीद प्रारम्भ हो जाएगी। इसके लिये ऑनलाईन पंजीकरण 3 अक्टूबर से शुरू किया जा रहा है। पंजीकरण के अभाव में किसानों से समर्थन मूल्य पर खरीद संभव नहीं होगी। केन्द्र सरकार ने मूंग एवं उड़द खरीद के लिये अनुमति प्रदान कर दी है तथा मूंग का 2.39 लाख मीट्रिक टन तथा उड़द का 88 हजार 375 मीट्रिक टन खरीद लक्ष्य राज्य सरकार को दिया है।

प्रारम्भ में मूंग एवं उड़द की खरीद समर्थन मूल्य पर की जा रही है। किसानों को किसी प्रकार की असुविधा नहीं हो इसके लिए गत वर्ष की भांति ऑनलाईन पंजीकरण की व्यवस्था ई-मित्र एवं खरीद केन्द्रों पर प्रातः 10 बजे से सायं 7 बजे तक की गई है। ई-मित्र से पंजीकरण कराने पर किसान को 21 रुपये तथा समिति के खरीद केन्द्र पर पंजीकरण कराने के लिए किसान को 10 रुपये का भुगतान करना होगा।

यह भी पढ़ें   समय पर ऋण जमा कराने वाले किसानों को भी कर्जमाफी का लाभ दिया जायेगा - सहकारिता मंत्री

आवश्यक दस्तावेज़

पंजीकरण के लिए किसानों को यह दस्तावेज अपने साथ ले जाना होगा |

  • भामाशाह कार्ड नम्बर,
  • खसरा गिरदावरी एवं
  • बैंक पासबुक

भामाशाह कार्ड नहीं होने की स्थिति में ई-मित्र पर तत्काल ही भामाशाह के लिए एनरोलमेंट किया जाएगा एवं एनरोलमेंट नम्बर से ऑनलाईन पंजीकरण की प्रक्रिया पूरी हो सकेगी।

पंजीकरण कहाँ करवाएं

  • ई-मित्र
  • खरीद केंद्र

खरीद के दौरान कई बार पंजीकरण से जुड़ी अव्यवस्थाओं की वजह से किसान को परेशानी का सामना करना पड़ता था, इसके लिये हमने पूर्व वर्ष की भांति ऑनलाईन पंजीकरण की व्यवस्था लागू की है। जिससे किसान किसी प्रकार की परेशानी न हो। उन्होंने बताया कि प्रदेश में मूंग के लिए 130 एवं उड़द के लिए 58 खरीद केन्द्र चिह्वित किए गए हैं।

वर्ष 2018-19 के लिए मूंग के लिए 6975 रुपये एवं उड़द के लिए 5600 रुपये प्रति क्विंटल समर्थन मूल्य बोनस के साथ घोषित किया है। किसानों को अपनी उपज बेचने में किसी प्रकार की परेशानी न हो इसके लिए खरीद केन्द्रों पर आवश्यकतानुसार तौल-कांटें लगाये जायेंगे एवं पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध कराया जाएगा।

यह भी पढ़ें   किसान 30 नवम्बर तक कृषि इनपुट सब्सिडी का लाभ ले सकते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here