अब किसानों के घरों पर मुफ्त में होगी मिट्टी की जांच

2
14485
mitti ki janch

मिट्टी की जांच घर पर

किसानों की आय बढ़ाने के लिए सबसे अधिक जरुरी है फसल उत्पादन की लागत को कम करना एवं फसलों का अधिक उत्पादन होना | आधुनिक खेती में मिट्टी की जांच का काफी महत्त्व है | सरकार सभी किसानों के खेतों की मिट्टी की जांच करने के लिए साइल हेल्थ कार्ड योजना चला रही है | जिसके तहत किसानों को मृदा स्वास्थ्य कार्ड दिया जाता है जिससे किसान भूमि का स्वास्थ्य को जान कर उसके अनुसार फसलों की खेती एवं खाद उर्वरक का प्रयोग कर सकें |

अब किसानों को मिट्टी की जांच के लिए प्रोत्साहित करने के लिए एनएफएल ने उर्वरकों के उचित उपयोग को प्रोत्साहन देने के उद्देश्य से देश में मृदा परीक्षण की सुविधा को बढ़ावा देने को मिट्टी के नमूनों की जांच के लिए पांच मोबाइल मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं का शुभारम्भ किया, जो किसानों को उनके घर पर मिट्टी के नमूनों के परीक्षण की सुविधा मुहैया कराएगी।

यह भी पढ़ें   किसानों से हर हाल में 2500 रूपए प्रति क्विंटल के हिसाब से ही खरीदी जाएगी धान : मुख्यमंत्री

मिट्टी में किन तत्वों की होगी जांच

आधुनिक मृदा परीक्षण उपकरणों से युक्त ये मोबाइल प्रयोगशालाएं मिट्टी का समग्र और सूक्ष्म पोषक तत्व विश्लेषण करेगी। इसके अलावा इन मोबाइल प्रयोगशालाओं में किसानों को विभिन्न कृषि विषयों पर शिक्षित करने के लिए ऑडियो-वीडियो सिस्टम भी मौजूद रहेगा। कंपनी मोबाइल मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं के अलावा देश के विभिन्न स्थानों पर स्थिर मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं के माद्यम से भी किसानों को सेवाएं दे रही है। इन सभी प्रयोगशालाओं ने वर्ष 2019-20 में मुफ्त में लगभग 25,000 मिट्टी के नमूनों का परीक्षण किया था।

मिट्टी की जांच के उद्देश्य

  • मृदा में उपलब्ध पोषक तत्वों का सही- सही निर्धारण कर मृदा स्वास्थ्य कार्डों के माध्यम से कृषकों तक पहुंचाना।
  • विभिन्न फसलों की दृष्टि से पोषक तत्वों की कमी का पता करके किसानों को स्पष्ट सूचना देना।
  • मृदा पोषक तत्वों की स्थिति ज्ञात करना और उसके आधार पर फसलों के अनुसार उर्वरकों / खादों को डालने की संस्तुति करना।
  • मृदा की विशिष्ट दशाओं का निर्धारण करना, जिसमें मृदा को कृषि विधियों और मृदा सुधारको की सहायता से ठीक किया जा सके।
  • संतुलित उर्वरकों के प्रयोग को प्रोत्साहित करना।
यह भी पढ़ें   जैविक खेती करने वाले किसानों को मिला जैविक बाजार

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

2 COMMENTS

  1. आपने यह जीतनी भी योजना बताई है रीयल मे यह सब लागू है ही नही जो लंगर वहा ड्यूटी पर बेटे वो कूतो की तरह बात करते सही जवाब नही मीलता पूरा काम सोड कर ऐक महीना चक्कर लगा ऐ नंगे तब जाकर थोडा कूस काम होगा

    • जी अपने जिले के कृषि विभाग या जिला कृषि विज्ञानं केंद्र में सम्पर्क करे अपने यहाँ की योजनाओं की जानकारी एवं लाभ के लिए आवेदन कर सकते हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here