मक्के की यह विकसित किस्में लगायें और अधिक उत्पादन पाएं

0
2020
views
makka nai kism

मक्का की नई विकसित किस्में

मक्का देश में अनाज उत्पादन में महत्वपूर्ण स्थान रखता है | मक्के को मोटे आनाज की श्रेणी में रखा जाता है | मक्का की खेती देश में लगभग सभी प्रदेशों में किया जाता है | मक्का की खेती वर्ष में दो बार होने के कारण और भी महत्वपूर्ण हो जाता है | मक्का सभी प्रदेशों में उत्पादन होने के बाबजूद भी सामान किस्म के बीज का उपयोग नहीं किया जाता है | अलग – अलग राज्यों में जलवायु एक सामान नहीं रहने के कारण मक्के के किस्म में अलग – अलग रहता है | भारतीय मक्का अनुसन्धान केंद्र  (ICAR-Indaian Institute Of Maize Research ) के द्वारा वर्ष 2000 से लेकर 2017 तक भारत के विभिन्न क्षेत्रों के लिए लगभग 100 किस्में विकसित की गई है |  किसान समाधान मक्के की फसल से जुडी कुछ नई किस्मों की सभी जानकारी लेकर आया  है |

मक्का: पूसा विवेक क्यूपीयेम 9 उन्नत (संकर किस्म)

देश की उच्च प्रोविटामिन – ए युक्त संकर मक्का की पहली किस्म

यह भी पढ़ें   अब किसान पशुपालन एवं मछलीपालन के लिए भी किसान क्रेडिट कार्ड पर लोन ले सकेगें

उच्च प्रोविटामिन – ए (8.15 पीपीएम), लाइसीन (2.67 प्रतिशत) तथा ट्रिप्टोफैन (0.74 प्रतिशत) जो कि प्रचलित संकर किस्मों {प्रोविटामिन – ए (1.0 – 2.0 पीपीएम), लाइसीन (1.5 – 2.0 प्रतिशत) तथा ट्रिप्टोफैन (0.3 – 0.4 प्रतिशत)} की तुलना में अधिक है |

पैदावार :- 55.9 किवंटल / हैक्टेयर (उत्तरी पहाड़ी क्षेत्र), 59.2 किवंटल / हैक्टेयर (दक्षिणी प्रायद्वीप क्षेत्र) |

फसल पकने की अवधि :- 93 दिन (उत्तरी पहाड़ी क्षेत्र), 83 दिन (दक्षिणी प्रायद्वीप क्षेत्र) |

खरीफ मौसम में जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश , उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्र, उत्तर पूर्वी राज्यों, महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना तथा तमिलनाडु राज्यों के अनुमोदित

मक्का: पूसा एचएम 4 उन्नत (संकर किस्म)

इस किस्म में ट्रिप्टोफैन 0.91 प्रतिशत तथा लाइसीन (3.62 प्रतिशत) है जो कि प्रचलित संकर किस्मों की तुलना में अधिक { ट्रिप्टोफैन (0.3 – 0.4 प्रतिशत) तथा लाइसीन (1.5 -2.0 प्रतिशत) } है |

पैदावार :- 64.2 किवंटल / हैक्टेयर

फसल पकने की अवधि :- 87 दिन

खरीफ मौसम में पंजाब, हरियाण, दिल्ली, उत्तराखंड (मैदानी क्षेत्र), उत्तर प्रदेश (पश्चिमी क्षेत्र) राज्यों के लिए उपयुक्त

यह भी पढ़ें   मध्यप्रदेश में सिंचाई उपकरणों पर अनुदान के लिए चल रही योजनाएं

मक्का : पूसा एचएम 8 उन्नत

इस किस्म में ट्रिप्टोफैन 1.06 प्रतिशत तथा लाइसीन (4.18 प्रतिशत) है जो कि प्रचलित संकर किस्मों की तुलना में अधिक { ट्रिप्टोफैन (0.3 – 0.4 प्रतिशत) तथा लाइसीन (1.5 -2.0 प्रतिशत) } है |

पैदावार :- 62.6 किवंटल / हैक्टेयर

फसल पकने की अवधि :- 95 दिन

खरीफ मौसम में महारष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना तथा तमिलनाडू राज्यों के लिए उपयुक्त |

मक्का : पूसा एचएम 9 उन्नत

इस किस्म में ट्रिप्टोफैन 0.68 प्रतिशत तथा लाइसीन (2.97 प्रतिशत) है जो कि प्रचलित संकर किस्मों की तुलना में अधिक { ट्रिप्टोफैन (0.3 – 0.4 प्रतिशत) तथा लाइसीन (1.5 -2.0 प्रतिशत) } है |

पैदावार :- 52.0 किवंटल / हैक्टेयर

फसल पकने की अवधि :- 89 दिन

खरीफ मौसम में बिहार, झारखंड, उड़ीसा, उत्तर प्रदेश (पूर्वी क्षेत्र) तथा पश्चिम बंगाल राज्यों के लिए उपयुक्त है |

वर्ष 2000 के बाद की मक्का की सभी नई विकसित किस्में जानने के लिए क्लिक करें 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here