सरसों एवं चना समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए 10 प्रतिशत अधिक किसान करवा सकेगें पंजीकरण

13
chana sarso msp panjiyan

चना एवं सरसों समर्थन मूल्य पर खरीदी हेतु पंजीकरण

इस वर्ष रबी फसलों के अधिक उत्पादन तथा किसानों कि अधिक मांग के कारण किसानों में रबी उपज बेचने के लिए उत्साह बना हुआ है | इस वर्ष पिछले वर्ष के मुकाबले रबी फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य भी अधिक है | जिससे किसान अधिक से अधिक फसल को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बेचना चाहते हैं |

इसको देखते हुए राजस्थान सरकार ने राज्य में चना तथा सरसों की खरीदी को 10 प्रतिशत बढ़ा दिया है | जिसे पहले की अपेक्षा और अधिक संख्या में राज्य के किसान चना तथा सरसों को न्युनतम समर्थन मूल्य पर बेच सकते हैं | जो किसान पहले न्यूनतम समर्थन मूल्य चना तथा सरसों को बेचने के लिए पंजीकरण नहीं करवा पाए थे वह अब पुनः पंजीयन करवा सकते हैं | किसान समाधान चना तथा सरसों के 10 प्रतिशत बढ़े हुए लक्ष्य का लाभ प्राप्त करने के लिए पूरी जानकारी लेकर आया है |

किसान जिले तथा खरीदी केन्द्रों के किसान पंजीयन करा सकते हैं ?

सरसों तथा चना के न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए जो किसान अभी तक पंजीयन नहीं कर पाए हैं वह पंजीकरण करवा सकते हैं | सहकारिता मंत्री श्री उदयलाल आंजना ने बताया कि सरसों के 34 एवं चने के 58 केन्द्रों पर पंजीयन क्षमता पूरी होने पर किसानों के हित में इन 92 केन्द्रों पर 100 प्रतिशत पंजीयन सीमा को बढ़ाया गया है |

यह भी पढ़ें   इन जिलों के 7 लाख से अधिक किसानों को दिए गए फसल बीमा योजना के 1240 करोड़ रुपये

किसान चना एवं सरसों खरीदी पंजीयन

कोटा संभाग में 16 अप्रैल से तथा अन्य संभागों में 1 मई से खरीद आरम्भ हो गई हैं | देशव्यापी कोरोना कोविड–19 संक्रमण के कारण 22 मार्च से खरीद एवं पंजीयन कार्य स्थगित कर दिया गया था | राज्य में एक मई से पुन: पंजीयन शुरू कर दिया गया है | इसके साथ ही 10 प्रतिशत बढ़े हुए पंजीयन सीमा को देखते हुए राज्य सरकार ने पंजीयन को 2 मई से राज्य में शुरू हो गया है |

किसान को पंजीयन करवाने के लिए दिए गए दस्तावेज साथ ले जाने होंगे इसके अतिरिक्त किसान को अपने उँगलियों के निशान देने होंगे |

  • आधार कार्ड
  • जनआधार/भामाशाह कार्ड
  • फसल संबंधी दस्तावेज के लिए गिरदावरी
  • बैंक खाते की पासबुक की फोटोप्रति
  • गिरदावरी के पी-35 का क्रमांक एवं दिनांक

799 केन्द्रों पर चना तथा सरसों की खरीदी

राजस्थान में प्रारंभ में चना व सरसों क्रय केंद्र स्थापित किये गये थे | कोरोना कोविड 19 संक्रमण निरोधक उपयोग एवं केन्द्रों पर किसानों की भीड़ ना हो इसके लिए ग्राम सेवा सहकारी समिति स्तर पर 520 और क्रय केंद्र स्वीकृत किये गये हैं | इस प्रकार अब सरसों के 799 एवं चने के 799 खरीदी केन्द्रों का संचालन किया जा रहा है | जहन किसान अपने निकटस्थ केंद्र पर सरों व चने का विक्रय कर सकते हैं |

  • चने का समर्थन मूल्य 4875 रुपये
  • सरसों का समर्थन मूल्य 4425 रुपये हैं |
यह भी पढ़ें   छत पर सब्जी (बागवानी) लगाने के लिए सरकार दे रही है सब्सिडी, अभी ऑनलाइन आवेदन करें

िसी भी समस्या के लिए यहं संपर्क करें

राज्फेद श्रीमती सुषमा अरोड़ा ने बताया कि किसानों की समस्या के समाधान हेतु राजफैड स्तर पर टोल फ्री हेल्पलाईन नंबर 18001806001 प्रात: 9 बजे से 7 बजे तक प्रारंभ कर दिया गया है जिस पर किसान अपनी समस्याओं को हेल्पलाईन नंबर दर्ज करा सकते हैं अथवा अपनी शिकायत एवं समस्या को लिखित में राजफैड मुख्यालय में स्थापित काँल सेंटर पर [email protected] पर मेल भेज सकते हैं |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

Previous articleमंडी अधिनियम में किया गया संशोधन, किसान अब घर या खेत से सीधे उचित दामों में बेच सकेगें अपनी उपज
Next articleफसलों के बीच लेमन ग्रास की खेती कर किसान कर रहे हैं लाखों रुपये की अतिरक्त आमदनी

13 COMMENTS

  1. मैने सरसों की बिक्री के लिए पंजीकरण कराया। मेरा लेवी में सरसों बेचने का नंबर आ गया और सरसों की तोलाई भी हो गई, मगर बिल नहीं बन पाया क्योंकि मेरी फिंगर प्रिंट नहीं आए, क्या मुझको फसल के दाम मिलेगें या फसल को वापिस घर लाना पड़ेगा

    • फसल बेचीं या नहीं आपने अभी | कोई रसीद तो मिली होगी ? किस राज्य से हैं ?

  2. मध्यप्रदेश में चना के पंजीयन पहले नही करवाया तो अब होगा के नही सर बताइये

    • राजस्थान में चल रहे हैं | ई मित्र से करवाएं पंजीकरण

  3. सर एक किसान अधिकतम कितना चना और गेहूं की तुला सकता है

  4. Namaste! Hum 2 bhai hain. Dono ke paas baraabar jameen hai. PMFBY mein mere bhai ke paas 1 lakh 2 hajaar ruppes aaye hain or mere paas sirf 25 hajaar. Iska kya samadhaan hai? Yah phir aisa kyun ho raha hai?

    • फसल बीमा कंपनी या स्थानीय अधिकारीयों से शिकायत करें |

    • नहीं मध्यप्रदेश में पहले ही स्सरे हो चुके हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here