Saturday, November 26, 2022
Homeकिसान समाचारपशुधन सेवा अभियान के तहत डेढ़ लाख से अधिक पशुओं का किया...

पशुधन सेवा अभियान के तहत डेढ़ लाख से अधिक पशुओं का किया गया उपचार

Must Read

आज के मंडी भाव

जानिए देश भर की सभी मंडियों के भाव

पशु उपचार शिविर का आयोजन

देश में कृषि क्षेत्र में पशुपालन का महत्वपूर्ण योगदान है, जहाँ पशुधन किसानों के लिए अतिरक्त आय का जरिया है वही ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के सृजन का भी कार्य करता है | हाल ही में केंद्र सरकार के द्वारा पशुओं के स्वास्थ्य को लेकर राष्ट्रीय पशु रोग नियंत्रण कार्यक्रम एवं राष्ट्रीय कृत्रिम गर्भाधान मिशन की शुरुआत पूरे देश में की गई है | जिसमें पशुओं का निःशुल्क टीकाकरण भी किया जाता है | इन योजनाओं का लाभ पशुपालकों तक पहुँचाने के लिए राजस्थान सरकार द्वारा एक फरवरी से 28 फरवरी तक पशुधन सेवा अभियान का आयोजन किया जा रहा है | पशुधन सेवा अभियान के तहत विभिन्न प्रकार की गतिविधियों का संचालन कर पशुपालकों को लाभान्वित किया जा रहा है।

राजस्थान पशुपालन विभाग द्वारा पशुधन सेवा अभियान के तहत अब तक 2 हजार 231 शिविरों का आयोजन कर डेढ़ लाख से अधिक पशुओं का उपचार एवं एक लाख अस्सी हजार पशुओं में टीकाकरण किया गया।

यह भी पढ़ें   वैज्ञानिकों ने खोजी सुकर की नई प्रजाति 'बांडा', पशुपालकों की बढ़ेगी आमदनी

33 हजार पशुओं का किया गया कृत्रिम गर्भाधान

राजस्थान के पशुपालन विभाग के मंत्री श्री लालचन्द कटारिया ने बताया कि राष्ट्रीय कृत्रिम गर्भाधान कार्यक्रम के प्रथम चरण के दौरान कृत्रिम गर्भाधान किये गये 27 हजार पशुओं का गर्भ परीक्षण भी किया गया। उन्होंने बताया कि पशुधन सेवा अभियान के तहत आयोजित इन शिविरो में 33 हजार पशुओं में कृत्रिम गर्भाधान भी किया गया है, तथा बांझपन से ग्रसित 16 हजार पशुओं का उपचार किया गया है। अन्तः परजीवियों रोगों की रोकथाम के लिए एक लाख 87 हजार पशुओं को कृमिनाशक दवा पिलायी गयी है, साथ ही बाह्य परजीवियों रोगो की रोकथाम के लिए एक लाख 8 हजार पशुओं में कृमिनाशक दवा का छिड़काव किया गया है।

पशुधन सेवा अभियान में दी जाने वाली सुविधाएँ

अभी तक राज्य में  2 हजार 722 पशुपालक गोष्ठियां आयोजित कर 35 हजार पशुपालकों को भी लाभान्वित किया गया है | विभिन्न स्तरों पर आयोजित किये जाने वाले इन शिविरों में पशुपालकों को निम्न सुविधाएँ दी जा रही है:-

  • पशुओं का टीकाकरण,
  • कृत्रिम गर्भाधान,
  • रोगी पशुओं का उपचार,
  • अन्तः एवं बाह्य परजीवियों रोगो की रोकथाम के लिए कृमिनाशक दवा पिलाना,
  • दवा का छिड़काव,
  • बांझपन का उपचार आदि
यह भी पढ़ें   गन्ना उत्पादक किसानों को जल्द दी जाएगी 79.50 रुपए प्रति क्विंटल की दर से प्रोत्साहन राशि

जो भी पशुपालक इन शिविरों का लाभ लेना चाहते हैं वह अपने यहाँ के पशु चिकित्सालय में सम्पर्क कर आयोजित होने वाले शिविरों की जानकारी ले सकते हैं एवं सरकार द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं का लाभ ले सकते हैं |

-Sponser Links-
-विज्ञापन-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

किसान समाधान से यहाँ भी जुड़ें

217,837FansLike
822FollowersFollow
54,000SubscribersSubscribe
-विज्ञापन-
-विज्ञापन-

सम्बंधित समाचार

-विज्ञापन-
ऐप खोलें