उद्यानिकी एवं वानकी के लिए जरुरी औजार एवं कृषि यंत्र

0
1835
views

उद्यानिकी एवं वानकी के लिए जरुरी औजार एवं कृषि यंत्र

कृषि कार्य अन्तर्गत फलदार वृक्षों एवं फूलवाले पौधों की खेती का विशेष महत्व है | बाग – बगीचों की सुन्दरता एवं स्वस्थ बनाये रखने के लिए इन वृक्षों / पौधों की समय – समय पर कटाई – छंटाई आवश्यक है | इस हेतु उपयोग में आने वाले प्रमुख यंत्रों एवं उपकरणों का विवरण निम्नांकित हैं :-

ट्री पुनर (Tree Pruner) :-

यह एक मानव हस्त चालित उपकरण है जिसके द्वारा उधान के वृक्षों की टहनियों को जो मानव हाथ के पहुंच के उपर है, की कटाई – छंटाई की जाती है | इसमें स्प्रिंग लगा कटिंग ब्लेड एवं सौकट होता है जो एक रस्सी के सहारे जुड़ा होता है | ब्लेड हाई कार्बन स्टील का बना होता है, जिसकी कठोरता 425 – 450 एच.बी. की होती है एवं इसके कटींग एज काफी तीक्ष्ण होते हैं |

कटींग औपरेशन हेतु शाखा अथवा टहनी को यंत्र के हुक में लाया जाता है एवं रस्सी को खींचकर ब्लेड को कार्यरत किया जाता है | शियरिंग एक्शन के फलस्वरूप ब्लेड को कार्यरत किया जाता है | शियरिंग एक्शन के फलस्वरूप ब्लेड द्वारा टहनी की कटाई एक झटके में हो जाती है | रस्सी को ढीला करने पर स्प्रिंग एक्शन के फलस्वरूप ब्लेड पुन: अपनी पूर्व की स्थिति में आ जाती है एक टिपीकल साइज के ट्री प्रुनर की लम्बाई 36 से.मी. होती है, जबकि उसकी कटाई क्षमता 2 से.मी. व्यास तक के शाखा / टहनी को काटने की होती है |

यह भी पढ़ें   जनवरी (पौष-माघ) माह में किये जाने वाले खेती-बड़ी के काम  

कार्य क्षमता :- 2 से.मी. व्यास के टहनी को काटने की |

उपयोग :- उद्धान के वृक्षों की अनचाही टहनियों, जिससे हवा एवं प्रकाश पहुँचने में बाधा उत्पन्न होती है,  अथवा उन्हें एक इच्छित शेप देने हेतु उन टहनियों को काटने में इस यंत्र का उपयोग होता है |

चेन सॉ (chain saw) :-

यह एक हल्का, पोर्टेबुल यंत्र है, जिससे एक आदमी अकेले चला सकता है इसे 1.6 किलोवाट विधुत मोटर अथवा पेट्रोल इंजन से चलाया जा सकता है | इस कारण इसे पावर शॉ भी कहते है | इसके द्वारा पेंड की सुखी, मृत अथवा रोग ग्रस्त टहनियों को काटा जा सकता है अथवा पंडों को काटकर गिराया जा सकता है | यंत्र में लगा कटर एक एंडलेस चेन के साथ जुड़ा होता है, जिसके द्वारा इंजन का पावर इसमें पहुंचाया जाता है | डेप्थ आफ क्त को एक डेप्थ गेज के द्वारा नियंत्रित किया जाता है | मशीन का वजन 3.9 किलोग्राम एवं अधिकतम कटींग लेंथ 40 से.मी. होता है |

कार्य क्षमता :- 40 से.मी. कटींग लेंथ की |

उपयोग :- पेड़ की सुखी, मृत अथवा रोग ग्रस्त टहनियों को काटने में |

हेज शियर (Hedge sheer) :-

यह एक हस्त चालित कृषि औजार है, जिसका उपयोग बाग – बगीचे में उगी झाड़ियों बढ़ी हुई घासों की कटाई एवं छंटाई हेतु किया जाता है, ताकि उसे सुन्दर और आकर्षक बनाया जा सके | इसकी बनावट एक बड़ी कैंची की तरह होती है, जिससे दो समान आकार के ब्लेड्स हैन्डल सहित एक साथ जुड़े होते है | कटिंग औपरेशन हेतु दोनों हैन्डल को हाथों से पकड़कर दोनों ब्लेड्स के बीच झाड़ियों एवं घासों (Hedges & shrubs) को रखकर चलते हैं, जिससे शियरिंग एक्शन के फलस्वरूप उनकी कटाई हो जाती है |ब्लेड्स हाई कार्बन स्टील, टूल स्टील अथवा एल्वाय स्टील के ब्लेड लेन्थ 150 – 300 एम.एम., ब्लेड थिकनेस 8 एम.एम. एवं ब्लेड एंगल 30 डिग्री से 90 डिग्री तक होता है |

यह भी पढ़ें   वरिष्ठ अधिकारी से जानें किस तरह आप 10 लाख का अनुदान लेकर कस्टम हायरिंग सेण्टर खोल सकते हैं

उपयोग :- बाग – बगीचे में उगी झाड़ियों, बढ़ी हुई घासों की कटाई एवं छटाई कर उसे सुन्दर और आकर्षक बनाने हेतु |

गड्ढा खुदाई यंत्र (post hole digger) :-

यह एक औगर (auger) युकत यंत्र है, जिसका प्रयोग पौधा लगाने हेतु गड्ढा खोदने में किया जाता है | यह ट्रैक्टर के पी.टी.ओ. द्वारा संचालित एवं उसके थ्री प्वाईंट लिंकेज द्वारा जुड़ा एक अटैचमेन्ट है | औगर एसेम्बली को बदलकर गड्ढे के ब्यास एवं उसकी गहराई को परिवर्तित किया जा सकता है | मशीन का वजन 150 – 240 कि.ग्रा. होता है एवं इसे 35 एच.पी. ट्रैक्टर से चलाया जा सकता है | मशीन के गड्ढा बनाने की क्षमता 90 गडढे प्रति घंटा होती है |

कार्य क्षमता :- 90 गड्ढे प्रति घंटा |

उपयोग :- पौधा लगाने हेतु गड्ढा खोदने में |

यह भी पढ़ें: बुवाई एवं खाद डालने के हेतु उन्नत कृषि यन्त्र

यह भी पढ़ें: भूमि की तयारी के लिए उपयुक्त कृषि यन्त्र

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here