मिट्टी में जिंक की कमी से धान में लग सकता है खैरा रोग, जानिए कैसे बचाएं फसल को इस रोग से

धान की फसल में खैरा रोग एवं उसका नियंत्रण

भारत चीन के बाद विश्व में सबसे बड़ा धान का उत्पादक देश है | यहाँ प्रति वर्ष 117 मिलियन टन धान का उत्पादन करता है | अधिकांश राज्यों में किसान की आजीविका का मुख्य साधन ही धान की खेती है | ऐसे में धान की फसल में कीट-रोग के प्रकोप के चलते किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ता है | इस तरह के नुकसान से बचने के लिए जरुरी है कि किसान समय पर कीट रोग की पहचान कर उनका नियंत्रण करें अन्यथा उन्हें अधिक हानि हो सकती है | धान की फसल में एक ऐसा ही रोग सूक्ष्म पोषक तत्व जिंक की कमी से लगता है जिसे खैरा रोग कहते हैं |

धान के फसल में विभिन्न प्रकार के रोगों में से खैरा रोग से काफी फसल को नुकसान होता है | रोगी पोधों में दाने नहीं बनते जिससे कभी कभी उपज की हानि 25-30 प्रतिशत हो जाती है | जिससे समय पर इस रोग का नियंत्रण करना अति आवश्यक है |

धान की फसल में खैरा रोग के लक्षण एवं उसकी पहचान

- Advertisement -

यह रोग मृदा में जिंक की कमी के कारण होता है, जिसे आसानी से पहचाना जा सकता है |  खैरा रोग के कारण नर्सरी या मुख्य खेत में पौधों में छोटे–छोटे पैच में दिखाई देते है | इसके कारण पत्तियों पर हल्के पीले रंगे के धब्बे बनते हैं, जो बाद में कत्थई रंग के हो जाते हैं | पत्तियां मुरझा जाती है और इनके मध्य भाग क्लोरोटिक हो जाते हैं | पौधा बौना रह जाता है और पैदावार कम होती है |

प्रभावित पौधों की जड़ें भी कत्थई रंग की हो जाती हैं | पहले खेत के एक कोने में दिखने वाले धब्बे देखते ही देखते पूरी फसल में फैल जाते हैं | तेज धुप में दिनों में लक्षण अधिक गंभीर हो जाते हैं | रोगग्रस्त पौधों पर कोई स्पाइक नहीं बनता है या अगर स्पाइक बनता भी है , तो दाना नहीं बनता | इस रोग के कारण धान की फसल में उपज हानि 25–30 प्रतिशत तक हो सकती है |

रोग का क्या कारण है ?

- Advertisement -

धान में जिंक की कमी सबसे व्यापक सूक्ष्म पोषक तत्व की कमी के कारण होता है | इसकी कमी की घटना आधुनिक किस्मों फसल गहनता, चावल के मोनोकल्चर आदि की शुरुआत के साथ बढ़ी है |

पौधे में पोषक तत्व जिंक/जस्ता की आवश्कता

जिंक 8 आवश्यक सूक्ष्म पोषक तत्वों में से एक है | यह पौधों के लिए कम मात्रा में आवश्यक है, लेकिन पौधे के विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण है | धान के पौधों में कई जैव रासायनिक प्रक्रियाओं के लिए जस्ता/जिंक एक आवश्यक पोषक तत्व है | यह क्लोरोफिल उत्पादन में मदद करता है और झिल्ली अखंडता प्रदान करता है |

यह एंजाइमों को सक्रिय करता है, जो कुछ प्रोटीन के संश्लेष्ण के लिए जिम्मेदार होते हैं | जिंक की कमी पौधे के रंग और मरोड़ (टरगर) को प्रभावित करती है | जस्ता पौधे को ठंडे तापमान का सामना करने में मदद करता है साथ ही पौधों के रक्षा तंत्र में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है |

खैरा रोग का नियंत्रण कैसे करें ?

धान की फसल में खैरा रोग से फसल को काफी क्षति होती है | इसके लिए किसान को इस रोग पर नियंत्रण करना जरुरी है | इस रोग के नियंत्रण के लिए किसान यह सभी उपाय करें |

  • रोपाई से पहले या भूमि तैयारी के समय 25 किलोग्राम जिंक प्रति हैक्टेयर का प्रयोग करें | ऐसी किस्में लगायें जो खैरा रोग प्रतिरोधी हो |
  • यदि फसल संक्रमित है, तो प्रति हैक्टेयर 600–700 लीटर पानी में 5 किलोग्राम जिंक सल्फेट + 25 किलोग्राम चुने का प्रयोग करें |
  • नर्सरी में बुआई के 10 दिनों बाद प्रथम छिडकाव, बुआई के 20 दिनों बाद दूसरा छिडकाव और रोपाई के 15 – 30 दिनों बाद तीसरा छिडकाव करना चाहिए |
  • बुझा हुआ चुना उपलब्ध न होने पर 2 प्रतिशत यूरिया तथा जिंक सल्फेट का छिडकाव करना चाहिए |
  • खेत में बार–बार एक ही फसल नहीं लेना चाहिए | ऐसा करने से जिंक की कमी हो जाती है | धान वाले खेत में उड़द या अरहर की खेती करने से जिंक की कमी दूर हो जाती है |
  • उर्वरकों का उपयोग करें, जो अम्लता उत्पन्न करते हैं (जैसे–यूरिया को अमोनियम सल्फेट से बदले) | रोपाई से पहले जैविक खाद का उपयोग करना चाहिए |
- Advertisement -

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
यहाँ आपका नाम लिखें

Stay Connected

217,837FansLike
830FollowersFollow
54,000SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest Articles

ऐप खोलें