जानिए इस वर्ष के बजट में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में किसानों को क्या मिला

4
22183
pradhanmantri fasal bima yojna budget rashi

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना इस वर्ष किसानों के लिए

प्राकृतिक आपदा से होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए वर्ष 2016 के खरीफ सीजन में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की शुरुआत की गई थी | प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना वर्ष 2016 से अब तक जारी है जो देश के सभी राज्यों के लिए है लेकिन कोई भी राज्य इस योजना से बाहर रह सकता है | बिहार वर्ष 2016 से ही इस योजना से बाहर जो गया था वहां किसानों के लिए फसल सहायता योजना लागू की गई है |

शुरूआती वर्षों में इस योजना के लिए केंद्र सरकार ने 7,000 करोड़ रुपये जारी किये थे जो खरीफ तथा रबी दोनों मौसमों के साथ ही उद्यानिकी और जायद फसलों के लिए थे | इसी तरह वर्ष दर वर्ष प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का बजट बढ़ता गया है | इस वर्ष देश के वित्त मंत्री ने वर्ष 2020–21 का केन्द्रीय बजट पेश किया है जिसमें प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए धनराशि जारी करने के साथ–साथ लक्ष्य भी निर्धारित किया गया है | किसान समाधान इस बजट से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की जानकारी लेकर आया है |

बजट 2020-21 में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना

इस योजना के तहत वित्त वर्ष 2020–21 के लिए केंद्र सरकार ने 15,695.0 करोड़ रुपये देने की बात कही है | जो पिछले वर्ष जारी बजट से ज्यादा है | इस पैसे को जारी करते हुए बताया गया है कि किस तरह इस योजना से किसान लाभ प्राप्त कर रहें हैं तथा किसान का रुझान योजना के लिए हैं |

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए पैसा जारी करते हुए बताया गया है कि ऋणी तथा गैर–ऋणी आवेदनों में 10–10 प्रतिशत की वृद्धि करने की अनुमान है | इसके साथ ही  इन किसानों के आधार पर यह अनुमान लगाया गया है कि वित्त वर्ष 2020–21 में बीमित फसल क्षेत्र में 10 प्रतिशत की वृद्धि की जाएगी |

बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया है कि प्राकृतिक आपदा से हुए नुकसान का भुगतान किसानों के द्वारा दावा करने के 30 दिन के भीतर कर दिया जायेगा | साथ ही यह भी बताया गया है कि किसानों के द्वारा फसल नुकसानी होने पर किये गये दावा के 80 प्रतिशत दावा का भुगतान किया जा सकता है |वर्ष 2016–17 और 2018–19 के आकड़ों के आधार पर नुकसान का लागत का अनुपात लगभग 10 प्रतिशत रहने की उम्मीद है |

यह भी पढ़ें   विडियो:प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना में मात्र इतने रुपयों में ड्रिप एवं स्प्रिंकलर लेकर सिंचाई करें

पिछले वर्ष के बजट में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए क्या था ?

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत पिछले वित्त वर्ष में केन्द्रीय बजट से 13,500 करोड़ रुपये था | यह बजट खरीफ,रबी तथा उधानकी और जायद फसल के लिए था | यहाँ पर यह ध्यान रखना होगा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत राज्य तथा किसानों के द्वारा भी प्रीमियम दिया जाता है | किसानों के द्वारा खरीफ फसल के लिए 2 प्रतिशत रबी फसल के 1.5 प्रतिशत तथा उधानकी और जायद फसल के लिए 5 प्रतिशत तक का प्रीमियम देना पड़ता है |

प्रधनमंत्री फसल बीमा योजना में अब तक का सफर

आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट 2019–20 के अनुसार वर्ष 2018–19 स्तर के दौरान 517.70 लाख हैक्टेयर भूमि की शामिल करने वाले 564.50 लाख किसानों के आवेदनों को लगभग 2,35,642 करोड़ रूपये के लिए बीमा किया गया है | अक्टूबर 2019 तक प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अधीन 17,756 करोड़ रूपये के कुल दावों की अनुमोदित किया गया है तथा 16,763 करोड़ रूपये की राशि का भुगतान कर दिया गया है | इसमें ऋणी एवं गैर–ऋणी की संख्या क्रमश: 354 लाख एवं 210.40 लाख थी |

वर्ष 2019–20 के खरीफ मौसम में 42,00,145 किसानों के द्वारा 55.55 लाख हेक्टेयर फसल का बीमा किया गया है, जो वर्ष 2018–19 के खरीफ फसल के मुकाबले 2 करोड़ 21 लाख 45 हजार हेक्टेयर कम है | वर्ष 2019 – 20 के खरीफ फसल के लिए केंद्र, राज्य तथा किसनों के मिलाकर कुल 3360.51 करोड़ रूपये का प्रीमियम दिया गया है | जिसमें केंद्र सरकार के द्वारा 1452.93 करोड़ रूपये का योगदान था तो वहीँ राज्य सरकार के द्वारा 1453 करोड़ रुपये का योगदान है | इस खरीफ मौसम में देश के किसानों के द्वारा 454.59 करोड़ रूपये प्रीमियम के रूप में योगदान रहा है |

खरीफ मौसम में देश के किसानों के द्वारा 27,536.52 करोड़ रूपये का फसल बीमा किया गया है जो वर्ष 2018 के खरीफ फसल के बीमा राशि से काफी कम है | वर्ष 2018 के खरीफ मौसम के लिए 1,14,025.95 करोड़ रूपये का फसल बीमा था |

यह भी पढ़ें   उन्नत खेती, बागवानी, पशुपालन और मछलीपालन के उन्नत तकनीक सीखने का मौका : राष्ट्रीय कृषि समृद्धि मेला

इस मौसम में खरीफ 2019 मौसम में उधानकी तथा जायद फसल (मौसम आधारित फसल बीमा) के लिए 250089 किसानों के द्वारा 28.12 लाख हेक्टेयर फसल का 4976.28 करोड़ रूपये का बीमा कराया था | प्रीमियम के रूप में केंद्र , राज्य तथा किसानों के द्वारा 914.05 करोड़ रूपये का भुगतान किया गया है | जिसमें केंद्र तथा राज्य सरकार के द्वारा 336.03 – 336.03 करोड़ रूपये का प्रीमियम का भुगतान किया गया है | इसमें किसानों के द्वारा प्रीमियम के रूप में 241.98 करोड़ रूपये दिए गये हैं |

अगर इस वर्ष रबी मौसम का आकड़ें को ध्यान में रखा जाय तो 1,82,86,707 किसानों के द्वारा 2.78 करोड़ हेक्टेयर फसल का बीमा किया गया है | रबी मौसम में फसल बीमा के लिए केद्र, राज्य तथा किसानों के मिलाकर कुल 17,066.51 करोड़ रूपये का प्रीमियम दिया गया है | इसमें केंद्र सरकार के तरफ से प्रीमियम के रूप में 7193.15 करोड़ रूपये तथा राज्य सरकार के तरफ से 7747.66 करोड़ रूपये का योगदान है | इसी वर्ष के रबी मौसम के लिए किसानों के द्वारा 2125.71 करोड़ रूपये का प्रीमियम के रूप में दिया है |

किसानों के द्वारा रबी मौसम के लिए कुल 1,13,624.91 करोड़ रूपये का बीमा राशि किया गया है | जो पिछले वर्ष के मुकाबले ज्यादा है | वर्ष 2018 – 19 के रबी मौसम के लिए किसानों के द्वारा 86930.8 करोड़ रूपये का फसल बीमा किया गया था |इसी तरह रबी मौसम में उधानकी तथा जायद फसल के लिए 1520693 किसानों के द्वारा 21.38 लाख हेक्टेयर फसल का 15845.46 करोड़ रूपये का बीमा किया गया है |

प्रधानमंत्री फसल बीमा में केंद्र, राज्य तथा किसानों के द्वारा 2023.27 करोड़ रूपये का भुगतान किया गया है | जिसमें केंद्र तथा राज्य सरकार के द्वारा क्रमश: 715.83 और 1034.42 करोड़ रूपये का भुगतान किया गया है | इस मौसम में क्सिअनों के द्वारा प्रीमियम के रूप में 273.02 करोड़ रूपये का भुगतान किया गया है |आर्थिक सर्वेक्षण के अनुसार वर्ष 2017 – 18 में 26 राज्यों / संघ राज्य क्षेत्रों ने योजना का कार्यान्वयन किया है | वर्ष 2018 – 19 में 23 राज्यों / संघराज्य क्षेत्रों ने योजना का क्रियान्वयन किया है |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

kisan samadhan android app

4 COMMENTS

    • सर जिस कम्पनी ने बीमा किया है उस कम्पनी के टोल फ्री नम्बर पर शिकायत करें |नुकसानी के समय आपका सर्वे हुआ था या नहीं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here