किसानों के लिए खुशखबरी-इस वर्ष होगी अच्छी बारिश, मौसम विभाग ने जारी किया पूर्वानुमान

0
वर्ष 2019 के लिए दक्षिण-पश्चिम मानसून का पहला पूर्वानुमान

भारतीय मौसम विभाग ने जारी किया वर्ष 2019 के लिए मानसून पूर्वानुमान  

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने समूचे देश के लिए वर्ष 2019 के लिए दक्षिण-पश्चिम मानसून का पहला पूर्वानुमान जारी कर दिया है | किसानों को पिछले दो वर्ष से मौसम साथ नहीं देने के कारण खेती में लगातार घाटा हो रहा है | वर्षा समय पर नहीं होने के कारण उत्पादन में कमी आने के साथ – साथ बुवाई का रकबा भी कम हुआ है | अभी हालत यह हो चुके है कि पानी का स्तर लगातार कम होने के कारण सिंचाई के लिए काफी परेशानी हो रही है तथा पीने के लिए भी पानी की कमी हो रही है | वर्ष 2016 में अच्छा मौसम रहने के बाद फिर से इस वर्ष मानसून सामन्य से ज्यादा रहने की उम्मीद है |

वर्ष 1951 से 2000 तक भारत में जून से सितम्बर तक औसतन 89 से.मी. वर्षा होती थी, लेकिन इस वर्ष भारत में जून से सितम्बर तक वर्षा सामन्य से ज्यादा होगी | मौसम विभाग के अनुसार इस वर्ष जून से सितम्बर तक औसतन 96± प्रतिशत या उससे ज्यादा वर्षा रहने की उम्मीद है |

यह भी पढ़ें   अच्छी नस्ल के सभी प्रकार के पशु खरीदने के लिए आयें एशिया के सबसे बड़े पशु मेले में
भारत में जून से सितम्बर के बीच में होने वाली वर्षा को 5 भागों में बता जाता है |
  • न्यूनतम – अगर वर्षा 90 प्रतिशत से कम होता है |
  • सामान्य से कम – इस श्रेणी में वर्षा 90 से 96 प्रतिशत की बीच रहती है
  • लगभग सामन्य – इस श्रेणी में वर्षा 96 से 104 प्रतिशत रहती है
  • सामन्य से अधिक – इस श्रेणी में वर्षा 104 से 110 प्रतिशत की बीच रहती है
  • अत्यधिक इस श्रेणी में वर्षा 110 प्रतिशत से ज्यादा होती है |

मौसम विभाग के अनुसार इस वर्ष वर्षा 96 से 104 के बीच रहने वाली है  इसलिए यह कहा जा सकता है की इस वर्ष मानसून सामन्य रहने वाली है | जिससे खरीफ मौसम में बुवाई के रकबा बढ़ने की उम्मीद है |

इसी तरह का दूसरी मानसून की जानकारी जून के पहले सप्ताह में दी जायेगी | जो खरीफ मौसम में बुवाई के लिए जरुरी रहेगा |

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

Previous articleपशु आहार प्रौधोगिकी पर स्टार्ट-अप के लिए उद्यमिता प्रशिक्षण Training के लिए आवेदन करें
Next articleगेंहू ,चना सरसों एवं मसूर की सरकारी खरीद बोनस राशि के साथ की जा रही है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here