यदि आपके पास देसी गाय या भैंस है तो आपको मिल सकते हैं 2 लाख रुपये

0
2710
views

भारतीय नस्ल की गाय तथा भैंस दुग्ध उत्पादन प्रतियोगिता

देश में हर तरह के खेलों के लिए प्रतियोगिता होती है , शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए प्रतियोगिता होती है लेकिन इस देश में एक एसा भी राज्य है जो गाय और भैस की प्रतियोगिता करा रहा है | इसमे यह देखा जायेगा की भारतीय नस्ल की गाय तथा भैस प्रति दिन कितना दूध देती है | यह प्रतियोगिता दूध तथा देशी नस्ल की गाय और भैंस को बढ़ावा देने के लिए की जा रही है | यह प्रतियोगिता गोपाल पुरस्कार योजनान्तर्गत की जाएगी |  

यह योजना कब आयोजित होगी ?

यह प्रतियोगिता तीन  स्तर पर आयोजित की जाएगी | पहले स्तर पर 6 से 8 जनवरी को विकासखण्ड पर आयोजित की जायेगी | दुसरे स्तर पर 14 से 16 जनवरी को जिले में आयोजित की जाएगी | इसके साथ ही भोपाल जिले के लिए 6 से 16 जनवरी तक आयोजित किया जाना है  |  

इस प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए क्या पात्रता है ?

इस प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए मध्य प्रदेश का निवासी होना चाहिए तथा आप के पास देशी नस्ल की गाय जो प्रतिदिन 4 लीटर या इससे अधिक दूध देती है , और भैंस वंशीय दुधारू भैंस जिनका दुग्ध उत्पादन क्षमता कम से कम 6 लीटर प्रतिदिन अथवा इससे अधिक होना चाहिए |

यह भी पढ़ें   खेती किसानी सम्बंधित गतिविधियों के लिये दीर्घ कालीन कृषि ऋण पर मिलेगा अनुदान

चयन का आधार क्या होगा ?

पशु चिकित्सा सेवाएँ भोपाल ने बताया कि गौ वंशीय और भैंस वंशीय दुधारू पशु के लिये अलग-अलग विकास खंड, जिला और राज्य स्तरीय पुरस्कार निर्धारित हैं। प्रतियोगिता में दुग्ध देने वाली गाय और भैंस को पंजीकृत किया जायेगा। चयन तीन समय के दुग्ध उत्पादन के औसत के आधार होगा। सर्वाधिक दुग्ध उत्पादित करने वाली भारतीय नस्ल की गायों एवं भैंसों को पुरस्कृत किया जायेगा |

पुरस्कार क्या रहेगा ?

विकास खंड स्तर पर गौ वंश एवं भैंस वंश के लिये पहला पुरस्कार दस-दस हजार रुपये, दूसरा पुरस्कार 7 हजार 500 रुपये और तीसरा पुरस्कार 5-5 हजार रुपये दिया जायेगा। जिला स्तरीय पुरस्कार में पहला पुरस्कार 50-50 हजार रुपये का दूसरा 25-25 हजार रुपये और 15-15 हजार रुपये और 7 सांत्वना पुरस्कार 5-5 हजार रुपये के दिये जायेंगे। राज्य स्तरीय पुरस्कार में पहला पुरस्कार 2-2 लाख रुपये दूसरा पुरस्कार एक-एक रुपये लाख और तीसरा 50-50 हजार रुपये का होगा। साथ ही 10-10 हजार रुपये के 7 सांत्वना पुरस्कार गौ वंश और भैंस वंश के लिये दिये जायेंगे |

यह भी पढ़ें   मंडी में खरीदी के नाम पर किसानों से की जा रही वसुली

इस प्रतियोगिता में कैसे शामिल हो सकते हैं ?

योजना में पात्रता रखने वाले पशुपालक अपने पशुओं को प्रतियोगिता में शामिल कराने के लिये अपने निकटतम पशु चिकित्सालय, औषधालय से सम्पर्क कर प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं |

किसान समाधान के Youtube चेनल को सब्सक्राइब करने के लिए नीचे दिए गए बटन को दबाएँ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here