राजस्थान में अब बटाईदार एवं संयुक्त खातेदारी वाले किसान भी अपनी फसल समर्थन मूल्य पर बेच सकेगें

2
760
views

राजस्थान में अब बटाईदार एवं संयुक्त खातेदारी वाले किसान भी अपनी फसल समर्थन मूल्य पर बेच सकेगें

सहकारिता मंत्री श्री अजय सिंह किलक ने शनिवार को बताया कि अब बटाईदार व संयुक्त खातेदारी वाले किसानों से भी समर्थन मूल्य पर सरसों एवं चना खरीदा जाएगा। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे ने बटाईदार व संयुक्त खातेदारी वाले किसानों के हित में फैसला लेने के निर्देश दिए थे। उन्होंने बताया कि यह पहली बार है जब ऎसे किसानों को भी समर्थन मूल्य से होने वाली खरीद से उपज का उचित मूल्य मिलेगा।

श्री किलक ने बताया कि किसान को बटाईदार की स्थिति में कृषि भूमि मालिक एवं काश्त करने वाले किसान के मध्य नॉन-ज्यूडिशियल पेपर पर एक अनुबन्ध करना होगा जिसमें कृषि भूमि मालिक की पहचान के लिए आधार कार्ड, भामाशाह कार्ड, गिरदावरी व बैंक खाता संख्या अंकित किया गया हो। उन्होंने बताया कि काश्तकार को अनुबन्ध का पत्र खरीद केन्द्र पर खरीद पर्ची भरते समय मूल दस्तावेजों के साथ प्रस्तुत करना होगा।

यह भी पढ़ें   बड़ी खबर! 800 रुपये प्रति क्विंटल पर प्याज खरीदेगी सरकार

संयुक्त खातेदारी वाले किसानों से भी समर्थन मूल्य पर सरसों एवं चने की खरीद की जाएगी। उन्होंने बताया कि ऎसे किसान जिनकी कृषि भूमि पर संयुक्त खातेदारी है एवं भामाशाह कार्ड एक ही महिला के नाम है और गिरदावरी में उनके नाम के हिस्से अंकित है तो प्रत्येक हिस्सेदार किसान अलग-अलग रजिस्ट्रेशन करवा सकता है। प्रत्येक हिस्सेदार अपना बैंक खाता नम्बर भी दे जिससे उपज का भुगतान सीधे उसके खाते में जमा हो सके।

प्रमुख शासन सचिव सहकारिता श्री अभय कुमार ने बताया कि कोटा संभाग को छोड़कर राज्य के शेष संभागों में 2 अप्रेल से सरसों एवं चना खरीद शुरू की जाएगी। उन्होंने बताया कि कोटा संभाग में 15 मार्च से खरीद शुरू हो चुकी है एवं अब तक लगभग 900 मैट्रिक टन खरीद हो चुकी है।उन्होंने बताया कि प्रदेश में 45 हजार से अधिक किसानों ने खरीद के लिए पंजीयन करा लिया है।

राजफैड प्रबंध निदेशक डॉ. वीना प्रधान ने बताया किकोटा संभाग में 12 मार्च से एवं अन्य संभागों के किसानों के लिए 14 मार्च से ऑनलाइन पंजीयन प्रारम्भ हो चुका है। उन्होंने कहा कि जिन किसानों के पास भामाशाह कार्ड नहीं है उन्हें परेशान होने की आवश्यकता नहीं है। ऎसे किसान ई-मित्र केन्द्र पर जाकर भामाशाह कार्ड के लिए आवेदन करने पर आवंटित एनरोलमेंट नम्बर के द्वारा ऑनलाइन पंजीयन करवा सकेंगे।

यह भी पढ़ें   किसान ले सकते हैं नया लोन, फसल ऋण माफी योजना में नए दिशा निर्देश जारी

2 COMMENTS

  1. कल्टीवेटर पर भी अनुदान देय है क्या

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here