back to top
शनिवार, जून 15, 2024
होमविशेषज्ञ सलाहयदि आपकी फसल का विकास रूक गया है अथवा पत्तियां पीली...

यदि आपकी फसल का विकास रूक गया है अथवा पत्तियां पीली हो गई है तो यह करें

सल्फर (गंधक) उर्वरक

किसान भाई आप सभी जानते हैं की फसलों के लिए उर्वरक का कितना महत्व है | आज के समय में तो बिना उर्वरक के खेती करना ही मुश्किल हो गया है | लेकिन आपके पास अलग–अलग तरह के उर्वरक मौजूद है | खेती के लिए सबसे बड़ी जरूरत है की उर्वरक का चयन कर सकें एवं किस तरह पहचान करें की किस उर्वरक का प्रयोग कब करना है | अक्सर देखा गया है किसान अपने खेतों में DAP, NPK , यूरिया का ज्यादा उपयोग करते हैं | लेकिन अन्य खाद (उर्वरक) का प्रयोग कम करते हैं | इसी लिए किसान समाधान आप के लिए अन्य दुसरे खाद के बारे में जानकारी लेकर आया है की कैसे दुसरे खाद भी आप के फसल के लिए जरुरी है |

सल्फर :-

आज हम सल्फर खाद के बारे में जानकारी लेकर आये है | सल्फर का दूसरा नाम गंधक भी है | इसका रंग हल्का पीला सफ़ेद होता है | सल्फर का फसलों में उपयोग क्या है? एवं यह कितना जरुरी है ? सभी जानकारी आज हम आपको देंगे |

सल्फर कितने तरह के होते हैं ?

सल्फर मुखत: तीन तरह के होते हैं

  1. दानेदार
  2. पाउडर फॉर्म में
  3. तरल (liquid) फॉर्म में
यह भी पढ़ें   सोयाबीन की खेती करने वाले किसान बुआई से पहले करें यह काम, मिलेगा अधिक उत्पादन

इसका उपयोग

यह सभी फसलों के लिए उपयोगी है लेकिन दलहनी फसलों के लिए ज्यादा ही जरुरी हो जाता है |

सल्फर एक एसा खाद है जिसका उपयोग तीन कामों के लिए किया जाता है | दुसरे सभी खाद केवल मिटटी की उर्वरा शक्ति को बढ़ाने के लिए किया जाता है लेकिन सल्फर मिट्टी की उर्वरा शक्ति के साथ–साथ कीटनाशक, पौधों के लिए टॉनिक का काम भी करता है |

फफूंदी नाशक

अगर आपके फसल में फफूंदी, पौधों या पौधों के फूल पर काले धब्बे हैं जो गेंहू के फसल में ज्यादा होता है | तो इसकी रोकथाम के लिए सल्फर का पाउडर फॉर्म का उपयोग कर सकते हैं |

खाद के लिए उपयोग

किसान भाई अगर आप की फसल के पत्तों का रंग पीला हो रहा हो , कम हरा हो यूरिया , DAP के प्रयोग करने के बाबजूद भी अगर पौधों का विकास नहीं हो रहा हो तो आप के खेत की मिट्टी में सल्फर की कमी है तथा आप के फसल को सल्फर की जरूरत है | सल्फर के कमी से पौधों का हरापन कम हो जाता है, पौधों का विकास रुक जाता है जिसके कारण पौधों में फूल तथा फल कम लगता है | जिससे उत्पादन पर असर पड़ता है |

यह भी पढ़ें   गर्मी में बाजरे की खेती के लिए यह हैं उन्नत किस्में, किसान इस तरह करें बुआई

कीटनाशक के लिए सल्फर का प्रयोग

अगर आपके फसल पर मक्खी का प्रकोप है ,खासकर के सफ़ेद मक्खी तो आप सल्फर का प्रयोग कर सकते हैं | जिससे मक्खी पूर्णत: खत्म हो जायेगी |

कैसे पहचाने की सल्फर की कमी है ?

अगर आपके फसल में पौधों का रंग पीला हो जाता है और इसकी शुरुआत पौधों के उपरी हिस्से या नये पत्ते से होती है तो समझे की आपकी फसल को सल्फर की जरूरत है | कभी – कभी नाईट्रोजन की कमी से भी पोधों की पत्ती पीली हो जाती है लेकिन वह पत्ती  पौधों के निचली पत्ती रहती है यानि पुरानी पत्ती | इस तरह अपने फसल में सल्फर की कमी को पहचान सकते हैं |

सल्फर की कमी पर क्या करें ?

अगर आप की खेत में सल्फर की कमी है तो आप प्रति एकड़ 100 किलोग्राम जिप्सम का प्रयोग कर सकते हैं | एसे भी किसान को वर्ष में दो फसलों में से किसी एक फसल में जिप्सम का प्रयोग करना चाहिए |

8 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
यहाँ आपका नाम लिखें

ताजा खबर