धान बेचने में किसी भी तरह की समस्या है तो इस टोल फ्री नम्बर पर कॉल करें

0
3136
dhaan bechne ke liye toll free no cg

धान उपार्जन सम्बंधित समस्या के लिए टोल फ्री नम्बर

किसानों के द्वारा धान बेचने का कार्य अंतिम दौर में चल रहा है | राज्य सरकारों के द्वारा पंजीकृत किसानों से धान खरीदी कर रही है | इस वर्ष धान की खरीद केंद्र सरकार के द्वारा वर्ष 2019–20 के लिए घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य 1815 रूपये प्रति क्विंटल पर हो रही है तथा ए ग्रेड की धान को 1835 रूपये प्रति क्विंटल पर ख़रीदा जा रहा है | छत्तीसगढ़ राज्य सरकार ने प्रदेश के किसानों से 1815 रूपये खरीदी के साथ ही 685 रुपये का बोनस देने का वादा किया है | जिसे लेकर किसानों में एक ख़ुशी भी है | छत्तीसगढ़ राज्य सरकार ने धान की खरीदी में किसनों को आने वाली किसी भी तरह की समस्या से निपटने के लिए नंबर जारी किया है |

यदि किसानों को धान बेचने में समस्या है तो यहाँ कॉल करें

खरीफ वर्ष 2019–20 में समर्थन मूल्य पर धान उपार्जन हेतु किसानों की शिकायत, सुझाव एवं पूछताछ के लिए राज्य स्तरीय किसान हेल्पलाईन नंबर जारी किया गया है | इस नम्बर पर किसान धान उपार्जन से सम्बंधित कोई भी समस्या के समाधान के लिए कॉल कर सकते हैं |

  • पहला नंबर है – 1967
  • दूसरा नंबर है – 1800 – 233 – 3663
यह भी पढ़ें   राज्य में यूरिया, डीएपी, एनपीके खाद की कोई कमी नहीं, जानिए अभी कुल उपलब्ध खाद की मात्रा

किसान टोल फ्री नम्बर पर कब कॉल करें

कृषि विभाग के तरफ से जारी नंबर सप्ताह के सातों दिन चालू रहता है तथा यह हेल्पलाईन नंबर प्रात: 8 बजे से रात्रि 8 बजे तक संचालित होगी | किसनों की सुविधा के लिए राज्य सरकार के कृषि विभाग के तरफ से यह नंबर जारी किया गया है | इस नंबर पर धान खरीदी संबंधित जानकारी दिया जायेगा |

किसान इस तरह की जानकारी जान सकते हैं
  • खरीदी केंद्र के बारे में जानकारी
  • धान बेचने के लिए टोकन की जानकारी
  • धान बेचने के बाद भुगतान की जानकारी

इसके अलवा धान से संबंधित कोई और भी समस्या है तो वह भी जानकारी मांग सकते हैं |

किसान यहाँ पर सुझाव भी दे सकते हैं 

किसान हेल्पलाईन के अतरिक्त अपनी शिकायत तथा सुझाव भी दे सकते हैं | इसके लिए राज्य कृषि विभाग के तरफ जारी वेबसाईट इस प्रकार है khadya.cg.nic.in/citizen/citizenhome.aspx जहाँ आप अपना शिकायत तथा सुझाव दर्ज करा सकते हैं |

यह भी पढ़ें   धान खरीदी के लिए नियमों में किए गए यह परिवर्तन

किसान समाधान के YouTube चेनल की सदस्यता लें (Subscribe)करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here