Thursday, December 1, 2022

किसान फसलों की अधिक पैदावार के लिए इस तरह करें सिंगल सुपर फॉस्फेट SSP का उपयोग

Must Read

सिंगल सुपर फॉस्फेट SSP का उपयोग

कृषि के क्षेत्र में पौधों के विकास तथा अच्छी पैदावार के लिए पोषक तत्वों की अहमियत अत्याधिक है, खेत में लगातार फसलें लेने के कारण मिट्टी में पहले से मौजूद पोषक तत्वों की कमी हो जाती है, जिसके चलते किसानों को इन पोषक तत्वों की पूर्ति बाहर से करनी पड़ती है। जो किसान रासायनिक एवं जैविक खाद उर्वरक के छिड़काव के माध्यम से कर सकते हैं। जिससे पैदावार के साथ ही पौधों की बढ़वार भी अधिक होती है।

कृषि में अलग-अलग फसलों को समय-समय पर अलग-अलग पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है जिसके लिए बाजार में बहुत तरह के खाद एवं उर्वरक उपलब्ध हैं जिनका उपयोग किसान करते हैं। लेकिन बाजार में कई बार विभिन्न प्रकार के उर्वरकों की कमी हो जाती है जिससे किसान खेतों में रासायनिक उर्वरक का प्रयोग समय पर नहीं कर पाते है। ऐसे में किसान मिट्टी की जाँच से या फसल के लिए आवश्यक पोषक तत्वों की मात्रा की जानकारी के अनुसार कर सकते है।

- Advertisement -

आजकल अक्सर बाजार में DAP की कमी बाजार में देखने को मिल रही है। इस अवस्था में DAP की जगह एसएसपी + यूरिया के प्रयोग कर उसकी आवश्यकताओं को पूरा किया जा सकता है। इसके साथ ही किसानों के लिए यह काफी किफायती भी पड़ता है।

यह भी पढ़ें   सूखा प्रभावित 30 लाख से अधिक किसानों को दी जाएगी 3500 रुपए की सहायता राशि

सिंगल सुपर फॉस्फेट (एसएसपी) में मौजूद पोषक तत्व

खेत की मिट्टी में कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते हैं, जिनकी कमी होने के चलते ही किसानों को बाहर से रासायनिक एवं जैविक खाद एवं उर्वरक देने की आवश्यकता होती है ऐसे में इनमें से कुछ पोषक तत्वों की पूर्ति के लिए सिंगल सुपर फॉस्फेट SSP का उपयोग किया जाता है। यह पोषक तत्व इस प्रकार है:-

  • फॉस्फोरस – 16%
  • सल्फर – 11%
  • कैल्शियम – 19%
  • जिंक – 1%

एसएसपी एक फॉस्फोरस युक्त उर्वरक है, जिसमें कि 16 प्रतिशत फॉस्फोरस एवं 11 प्रतिशत सल्फ़र की मात्रा पायी जाती है। इसमें उपलब्ध सल्फ़र के कारण यह उर्वरक तिलहनी एवं दलहनी फसलों के लिए अन्य उर्वरकों की अपेक्षा अधिक लाभदायक है।

किसान अधिक लाभ के लिए कर सकते हैं DAP की जगह SSP + यूरिया

सिंगल सुपर फॉस्फेट SSP उर्वरक डीएपी की अपेक्षा सस्ता है एवं बाजार में आसानी से उपलब्ध है। प्रति बैग डीएपी में 23 किलोग्राम फॉस्फोरस एवं 9 किलोग्राम नाइट्रोजन पाया जाता है। फसलों में फॉस्फोरस, नत्रजन एवं सल्फर न्यूट्रेंटस उपलब्ध करवाने के लिए डीएपी + सल्फर के विकल्प के रूप में यदि एसएसपी + यूरिया का उपयोग किया जाए, तो डीएपी + सल्फर से कम मूल्य पर अधिक नाईट्रोजन, फॉस्फोरस एवं सल्फर प्राप्त किया जा सकता है । इसके लिए 1 बैग डीएपी + 16 किलोग्राम सल्फर के विकल्प के रूप 3 बैग एसएसपी + 1 बैग यूरिया का प्रयोग किया जाता है, तो इससे भी कम मूल्य पर अधिक नाईट्रोजन, फॉस्फोरस एवं सल्फर प्राप्त किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें   किसानों को अनुदान पर दिए जा रहे हैं गेहूं, चना एवं अन्य फसलों के उन्नत किस्मों के प्रमाणित बीज

DAP और SSP का उपयोग 

किसान DAP + सल्फर एवं SSP + यूरिया दोनों में से कोई भी उर्वरक उपयोग कर सकते हैं । लेकिन SSP + यूरिया किसानों के लिए डीएपी + सल्फर से ज्यादा सस्ता है। दोनों के मूल्य में अंतर के लिए किसान नीचे दी गई तालिका में देखें:-

DAP और सल्फर का उपयोग कैसे करें?

1 बैग DAP + 16 किलो सल्फर में पोषक तत्व की मात्रा एवं लागत
पोषक तत्व 
मात्रा 
कुल खर्च

फाँस्फोरस 

23 किलोग्राम 

1350 रु.

नाईट्रोजन 

9 किलोग्राम 

सल्फर 

16 किलोग्राम 

1600 रु.

योग 

2950 रुपए

सिंगल सुपर फास्फेट का उपयोग कैसे करें?

3 बैग SSP + 1 बैग यूरिया में पोषक तत्व की मात्रा एवं लागत
पोषक तत्व 
मात्रा 
कुल खर्च

फाँस्फोरस 

24 किलोग्राम 

(450×3) 1350 रु.

नाईट्रोजन 

16 किलोग्राम 

सल्फर 

20 किलोग्राम 

267 रु.

योग 

1617 रुपए 

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

3 लाख से अधिक नए किसानों को दिया जायेगा ब्याज मुक्त फसली ऋण

ब्याज मुक्त फसली ऋण का वितरणकृषि के क्षेत्र में निवेश के लिए केंद्र तथा राज्य सरकारें किसानों को सस्ता...

More Articles Like This

ऐप खोलें